scorecardresearch

देश के बुनियादी ढांचे से जुड़ी संपत्तियां बेचकर 6 लाख करोड़ जुटाएगी सरकार, नेशनल हाईवे से लेकर पावर ग्रिड कॉरपोरेशन तक में होगा विनिवेश

मोदी सरकार राष्ट्रीय राजमार्गों, पावर ग्रिड कॉरपोरेशन, GAIL समेत देश के बुनियादी ढांचे से जुड़ी सार्वजनिक संपत्तियों को बेचकर या उनमें विनिवेश करके करीब 6 लाख करोड़ रुपये जुटाना चाहती है.

देश के बुनियादी ढांचे से जुड़ी संपत्तियां बेचकर 6 लाख करोड़ जुटाएगी सरकार, नेशनल हाईवे से लेकर पावर ग्रिड कॉरपोरेशन तक में होगा विनिवेश
राष्ट्रीय राजमार्ग, पावर ग्रिड पाइपलाइन समेत 6 लाख करोड़ रुपये की बुनियादी संपत्तियों के मुद्रीकरण की योजना को सरकार अंतिम रूप दे रही है.

Monetisation of National Infrastructure Assets: केंद्र की मोदी सरकार देश में बुनियादी ढांचे से जुड़ी सरकारी संपत्तियों को बेचकर या उनमें विनिवेश करके करीब 6 लाख करोड़ रुपये जुटाने की तैयारी कर रही है. इसके लिए देश के राष्ट्रीय राजमार्गों से लेकर पावर ग्रिड कॉरपोरेशन और गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया जैसी सरकारी कंपनियों की संपत्तियों का मॉनेटाइजेशन किया जाएगा. यह जानकारी बुधवार को केंद्र सरकार के एक बड़े अधिकारी ने दी.

भारत सरकार के डिपार्टमेंट ऑफ इन्वेस्टमेंट एंड पब्लिक एसेट मैनेंजमेंट (DIPAM) के सचिव तुहिन कांत पांडेय ने एक कार्यक्रम के दौरान बताया कि इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी सरकारी संपत्तियों को बेचने या उनमें विनिवेश करके 6 लाख करोड़ रुपये जुटाने की इस योजना के लिए व्यापक तैयारी की जा रही है.

कनफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (CII) के सालाना कार्यक्रम में पांडेय ने कहा कि पावर ग्रिड कॉरपोरेशन की संपत्तियों के मॉनेटाइजेशन के लिए InvIT (Infrastructure Investment Trusts) की स्थापना का काम सफलतापूर्वक किया जा चुका है. हालांकि इसे और बेहतर बनाने के लिए अभी कुछ और काम भी करने हैं. उन्होंने कहा कि इसी की तर्ज पर गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया (GAIL) की पाइपलाइन्स के निजीकरण के लिए भी एक और InvIT की स्थापना की जा सकती है.

तुहिन कांत पांडेय ने CII के कार्यक्रम में यह भी बताया कि रेलवे स्टेशनों में प्राइवेट सेक्टर को हिस्सेदारी देने के लिए टेंडर पहले ही निकाले जा चुके हैं. उन्होंने दावा किया कि यह मॉडल एयरपोर्ट्स के मामले में काफी कामयाब रहा है. पांडेय ने कहा कि संपत्तियों को बेचकर भारी रकम जुटाने की योजना में प्राइवेट सेक्टर की बड़े पैमाने पर भागीदारी होने की उम्मीद है.

उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (BPCL) और एयर इंडिया के निजीकरण की प्रक्रिया इस साल जरूर पूरी कर लेगी. उन्होंने बताया कि शिपिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, पवन हंस और नीलाचल इस्पात निगम लिमिटेड जैसी सरकारी कंपनियों के लिए बोली लगाने में भी कई खरीदारों ने दिलचस्पी दिखाई है.

Kinnaur Landslide News : हिमाचल के किन्नौर जिले में बड़ा भूस्खलन, दो की मौत, 40 यात्रियों वाली बस मलबे में दबी

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने 2021-22 के बजट भाषण में एलान किया था कि देश में पहले से मौजूद सरकारी इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी संपत्तियों को बेचकर या उनके विनिवेश के जरिए काफी पैसे जुटाए जाएंगे, जो नई बुनियादी सुविधाओं के निर्माण के लिए फंड जुटाने का एक बड़ा जरिया होने वाला है.  इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी सराकरी संपत्तियों को बेचकर धन जुटाने की इस योजना को उन्होंने नेशनल मॉनेटाइजेशन पाइपलाइन (National Monetisation Pipeline) का नाम भी दिया था.

(Story Input: PTI)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 11-08-2021 at 21:44 IST

TRENDING NOW

Business News