मुख्य समाचार:

विश्व के साथ मजबूती से खड़ा है भारत- बुद्ध पूर्णिमा पर PM मोदी

पीएम मोदी ने कहा, भारत आज प्रत्येक भारतवासी का जीवन बचाने के लिए हर संभव प्रयास तो कर ही रहा है, अपने वैश्विक दायित्वों का भी उतनी ही गंभीरता से पालन कर रहा है.

May 7, 2020 10:26 AM
PM Narendra Modi's speech on Buddha Purnimaपीएम मोदी ने विश्वभर में फैले भगवान बुद्ध के अनुयायियों को बुद्ध पूर्णिमा की वेसाक उत्सव की शुभकामनाएं दी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बुद्ध पूर्णिमा (Buddha Purnima) पर अपने संदेश में कहा कि कोरोना महामारी जैसी मुश्किल घड़ी में भारत दुनिया के साथ खड़ा है. भारत का विकास सदैव दुनिया की प्रगति में सहायक होगा. पीएम मोदी ने विश्वभर में फैले भगवान बुद्ध के अनुयायियों को बुद्ध पूर्णिमा की वेसाक उत्सव की शुभकामनाएं दी. पीएम मोदी ने कहा, आपके बीच आना बहुत खुशी की बात होती, लेकिन अभी हालात ऐसे नहीं हैं. इसलिए, दूर से ही, टेक्नोलॉजी के माध्यम से आपने मुझे अपनी बात रखने का अवसर दिया, इसका मुझे संतोष है. उन्होंने कहा, जो लोग निस्वार्थ भाव से इस मुकिश्ल समय में काम कर रहे हैं, वो प्रशंसा के पात्र हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय के मुताबिक, यह प्रोग्राम कोविड-19 के शिकार व्यक्तियों और फ्रंटलाइन वॉरियर्स के सम्मान में आयोजित किया गया.

पीएम मोदी ने कहा, आज आप भी देख रहे हैं कि भारत निस्वार्थ भाव से बिना किसी भेद के अपने यहां भी और पूरे विश्व में, कहीं भी संकट में घिरे व्यक्ति के साथ पूरी मजबूती से खड़ा है. भारत आज प्रत्येक भारतवासी का जीवन बचाने के लिए हर संभव प्रयास तो कर ही रहा है,
अपने वैश्विक दायित्वों का भी उतनी ही गंभीरता से पालन कर रहा है. उन्होंने कहा, प्रत्येक जीवन की मुश्किल को दूर करने के संदेश और संकल्प ने भारत की सभ्यता को संस्कृति को हमेशा दिशा दिखाई है. भगवान बुद्ध ने भारत की इस संस्कृति को और समृद्ध किया है. वो अपना दीपक स्वयं बनें और अपनी जीवन यात्रा से, दूसरों के जीवन को भी प्रकाशित कर दिया.

बुद्ध के संदेशों के जरिए दिया हौसला

पीएम मोदी ने बुद्ध के संदेशों के जरिए देशवासियों को हौसला दिया. उन्होंने कहा, ऐसे समय में जब दुनिया में उथल-पुथल है. कई बार दुःख-निराशा-हताशा का भाव बहुत ज्यादा दिखता है, तब भगवान बुद्ध की सीख और भी प्रासंगिक हो जाती. वो कहते थे कि मानव को निरंतर ये प्रयास करना चाहिए कि वो कठिन स्थितियों पर विजय प्राप्त करे, उनसे बाहर निकले.

उन्होंने कहा, थक कर रुक जाना, कोई विकल्प नहीं होता. आज हम सब भी एक कठिन परिस्थिति से निकलने के लिए, निरंतर जुटे हुए हैं. साथ मिलकर काम कर रहे हैं.  भगवान बुद्ध के बताए 4 सत्य यानि दया, करुणा, सुख-दुख के प्रति समभाव और जो जैसा है उसको उसी रूप में स्वीकारना, ये सत्य निरंतर भारत भूमि की प्रेरणा बने हुए हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. विश्व के साथ मजबूती से खड़ा है भारत- बुद्ध पूर्णिमा पर PM मोदी

Go to Top