मुख्य समाचार:
  1. भारत 2030 तक बन सकता है दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था: PM मोदी

भारत 2030 तक बन सकता है दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था: PM मोदी

PM Narendra Modi : पीएम मोदी ने भरोसा जताया है कि भारत दुनिया की तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बना रहेगा

February 11, 2019 3:01 PM
PM Narendra Modi, Petrotech 2019, Oil And Gas Conference, Indian Economy, Largest Economy, Energy, Refining Capacity, Electricity, पीएम मोदी, अर्थव्यवस्थाPM Narendra Modi

PM Narendra Modi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भरोसा जताया है कि भारत दुनिया की तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था बना रहेगा और 2030 तक यह दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है. मोदी ने पेट्रोलियम उद्योग के वैश्विक सम्मेलन पेट्रोटेक 2019 में कहा कि आईएमएफ और विश्वबैंक जैसी शीर्ष एजेंसियों का भी अनुमान है कि आगामी सालों में भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी का रुख बना रहेगा. गौरतलब है कि स्टैंडर्ड चार्टर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत 2030 तक अमेरिका से आगे निकलकर दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है.

मोदी ने कहा कि अनिश्चितता भरे आर्थिक माहौल में भारत ने तेजी से ग्रोथ करते हुये ग्लोबल इकोनॉमी में लीडर की तरह भूमिका निभाकर अपनी क्षमता का परिचय दिया है. वर्तमान में भारत दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच सबसे तेजी से बढ़ रहा और हाल ही में यह दुनिया की छठीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बना है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत 2030 तक दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है.

चौथी सबसे बड़ी रिफाइनिंग कैपेसिटी

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के पास दुनिया की चौथी सबसे बड़ी रिफाइनिंग कैपेसिटी है. 2030 में कैपिसिटी में करीब 20 करोड़ टन की और बढ़ोत्तरी होगी. उन्होंने कहा कि हमारी राष्ट्रीय जैव ईंधन नीति पिछले साल लागू हुई है. दूसरी और तीसरी पीढ़ी के जैव ईंधन पर शोध को बढ़ावा दिया जा रहा है. 11 राज्यों में दूसरी पीढ़ी के 12 जैव ईंधन रिफाइनरियों की स्थापना की जा रही है.

सभी घरों तक बिजली

भारत की ऊर्जा नीति पर मोदी ने कहा कि ऊर्जा एजेंडा हमारा प्रमुख उद्देश्य है और यह भारत के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है. सभी ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली पहुंच गई है. सौभाग्य योजना के जरिए इस साल देश के सभी घरों में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा है.

एलईडी से 1 साल में बचे 17 हजार करोड़

 

 

-उन्होंने कहा कि विश्वबैंक की बिजली सुगमता रैंकिंग में भारत 2014 में 111 स्थान से 2018 में 29वें स्थान पर पहुंच गया है.
-मोदी ने कहा कि उजाला योजना के तहत देशभर में एलईडी बल्बों का वितरण किया गया है, जिसके परिणाम में एक साल में 17,000 करोड़ रुपये यानी 2.5 अरब डॉलर की बचत हुई है.
-उज्जवला योजना के तहत 6.4 करोड़ परिवारों को गैस कनेक्शन दिए गए हैं.

Go to Top