मुख्य समाचार:

कोरोना संकट: PM मोदी ने उद्योगों को दिया ‘5-I’ मंत्र, कहा- भारत दोबारा हासिल करेगा ग्रोथ की रफ्तार

PM Modi मोदी ने कहा कि कोरोनावायरस अर्थव्यवस्था को सुस्त कर सकता है लेकिन भारत अपने विकास की रफ्तार को दोबारा जरूर हासिल कर लेगा.

Updated: Jun 02, 2020 12:51 PM
PM Modi gives 5I formula to get India back to high growth trajectoryपीएम मोदी ने उद्योग संगठन CII के 125 साल पूरे होने पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित किया.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा है कि हमें जहां एक तरफ कोरोनावायरस (Coronavirus) से लड़ने के लिए सख्त कदम उठाने हैं, वहीं दूसरी तरफ अर्थव्यवस्था का भी ध्यान रखना है. उद्योग संगठन CII के 125 साल पूरे होने पर मंगलवार को भारतीय उद्योगपतियों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कोरोनावायरस अर्थव्यवस्था को सुस्त कर सकता है लेकिन भारत अपने विकास की रफ्तार को दोबारा जरूर हासिल कर लेगा. उन्होंने कहा कि भारत को फिर से तेज विकास के पथ पर लाने के लिए, आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए  ‘5I’ (Intent, inclusion, investment, infrastructure, innovation) बहुत जरूरी हैं.  हाल में जो बोल्ड फैसले लिए गए हैं, उसमें भी आपको इन सभी की झलक मिल जाएगी.

भारतीय उद्यमियों से  पीएम मोदी ने कहा कहा, ”हां, हम निश्चित रूप से अपनी ग्रोथ फिर हासिल कर लेंगे. इस हालात में आपने “Getting Growth Back” की बात शुरू की है. बल्कि मैं तो इससे आगे बढ़कर ये भी कहूंगा कि Yes! We will definitely get our growth back.”

अनलॉक फेज-1 में अर्थव्यवस्था का बहुत हिस्सा खुला

पीएम मोदी ने कहा, ”मुझे भारत की क्षमता और आपदा प्रबंधन पर भरोसा है. भारत की प्रतिभा और तकनीक पर भरोसा है. नवाचार, किसानों, छोटे कारोबारियों और आंत्रप्रेन्योर्स पर भरोसा है.” उन्होंने कहा कि कोरोना ने हमारी रफ्तार जितनी भी धीमी की हो, लेकिन आज देश की सबसे बड़ी सच्चाई यही है कि भारत, लॉकडाउन को पीछे छोड़कर Un-Lock Phase one में प्रवेश कर चुका है. अनलॉक के पहले चरण में अर्थव्यवस्था का बहुत बड़ा हिस्सा खुल चुका है.

आज ये सब हम इसलिए कर पा रहे हैं, क्योंकि जब दुनिया में कोरोना वायरस पैर फैला रहा था, तो भारत ने सही समय पर, सही तरीके से सही कदम उठाए. दुनिया के तमाम देशों से तुलना करें तो आज हमें पता चलता है कि भारत में लॉकडाउन का कितना व्यापक प्रभाव रहा है.

अर्थव्यवस्था को मजबूत करना बड़ी प्राथमिकता

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ अर्थव्यवस्था को फिर से मजबूत करना हमारी सबसे बड़ी प्राथमिकताओं में से एक है. इसके लिए सरकार जो फैसले अभी तुरंत लिए जाने जरूरी हैं, वो ले रही है. साथ में ऐसे भी फैसले लिए गए हैं जो लंबी अवधि में देश की मदद करेंगे. रिफॉर्म हमारे लिए अचानक या बिना किसी सोच के किया गया फैसला नहीं है. रिफॉर्म व्यवस्थित, नियोजित, एकीकृत, इंटरकनेक्टेड और भविष्य से जुड़ी प्रक्रिया है. हमारे लिए रिफॉर्म का मतलब है फैसले लेने का साहस करना, और उन्हें तार्किक निष्कर्ष तक ले जाना.

दुनिया का भारत में भरोसा, इंडस्ट्री उठाए लाभ

पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया आज एक भरोसेमंद और विश्वसनीय भागीदार चाहती है. भारत में क्षमता ताकत और योग्यता है. आज पूरे विश्व में भारत के प्रति जो विश्वास बना है, उसका भारत की इंडस्ट्री को पूरा फायदा उठाना चाहिए. आत्मनिर्भर भारत का मतलब है कि हम और ज्यादा मजबूत होकर दुनिया को गले लगाएंगे. आत्मनिर्भर भारत विश्व अर्थव्यवस्था के साथ पूरी तरह एकीकृत और सहयोगात्मक होगा. हमें अब एक ऐसी मजबूत घरेलू सप्लाई चेन के निर्माण में निवेश करना है, जो वैश्विक सप्लाई चेन में भारत की हिस्सेदारी को मजबूत करे. इस अभियान में CII जैसी दिग्गज संस्था को भी post-Corona नई भूमिका में आगे आना होगा.

उन्होंने कहा कि अब जरूरत है कि देश में ऐसे उत्पाद बनें जो Made in India हों, Made for the World हों. कैसे हम देश का आयात कम से कम करें, इसे लेकर क्या नए लक्ष्य तय किए जा सकते हैं? हमें तमाम सेक्टर्स में उत्पादकता बढ़ाने के लिए अपने लक्ष्य तय करने ही होंगे.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कोरोना संकट: PM मोदी ने उद्योगों को दिया ‘5-I’ मंत्र, कहा- भारत दोबारा हासिल करेगा ग्रोथ की रफ्तार

Go to Top