मुख्य समाचार:

PM मोदी की 4 खास स्‍कीम- हर आदमी का आराम से कटेगा बुढ़ापा

मोदी सरकार ने कई बड़े फैसले किए. इनमें से कुछ फैसले ऐसे भी रहे, जो देशवासियों को बुढ़ापे में गुजर-बसर करने में मददगार साबित हो सकते हैं.

September 17, 2019 1:43 PM
PM Modi birthday: 4 pension schemes launched by prime minister narendra modiImage: PTI

आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) का 69वां जन्मदिन है. देशवासियों के हित में अपने पहले कार्यकाल और दूसरे कार्यकाल के 100 दिनों के अंदर ही मोदी सरकार ने कई बड़े फैसले किए. इनमें से कुछ फैसले ऐसे भी रहे, जो देशवासियों को बुढ़ापे में गुजर-बसर करने में मददगार साबित हो सकते हैं. जी हां, हम बात कर रहे हैं मोदी कार्यकाल में शुरू की गईं कुछ पेंशन स्कीमों की. इन स्कीमों का फायदा आम आदमी से लेकर किसान, श्रमिक, व्यापारी भी ले सकते हैं. आइए जानते हैं ऐसी ही 4 स्कीमों के बारे में…

अटल पेंशन स्कीम

इस पेंशन स्कीम PM मोदी ने मई 2015 में लॉन्च किया था. योजना में 18 से 40 साल की उम्र तक का कोई भी नागरिक शामिल हो सकता है. हालांकि इसके लिए उनका बैंक अकाउंट होना जरूरी है. योजना के तहत कम से कम 20 साल तक निवेश करना होता है. उसके बाद 60 साल की उम्र पूरी होने पर मासिक पेंशन मिलती है, जिसकी अभी अधिकतम सीमा 5000 रुपये महीना है. अगर धारक की किसी कारणवश मौत हो जाती है तो पत्नी और पत्नी की भी मौत हो जाने पर बच्चों को पेंशन मिलती है. इसमें मंथली, तिमाही या छमाही निवेश की सुविधा है. अटल पेंशन योजना से देशभर में 1.25 करोड़ से ज्यादा लोग जुड़ चुके हैं.

18 की हो गई है उम्र तो करें ये काम, हर महीने आपको मिलते रहेंगे 5 हजार रुपये

प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना

प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना के तहत मामूली अंशदान पर 60 की उम्र के बाद किसानों को 3 हजार रुपये मंथली पेंशन मिलेगी. योजना में 18 से 40 वर्ष तक की आयु वाला कोई भी छोटी जोत वाला और सीमांत किसान जुड़ सकता है, जिसके पास 2 हेक्टेयर तक ही खेती की जमीन है. इन्हें योजना के तहत कम से कम 20 साल और अधिकतम 42 साल तक 55 रुपये से लेकर 200 रुपये तक मासिक अंशदान करना होगा, जो उनकी उम्र पर निर्भर है. 60 साल होने के बाद उन्हें 3000 रुपये मंथली पेंशन मिलने लगेगी. पेंशन योजना का लाभ उठाने के लिए किसान को कॉमन सर्विस सेंटर (CSC) पर जाकर अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा.

प्रधानमंत्री किसान मानधन योजना का लाभ उठाने के लिए क्या करें

प्रधानमंत्री लघु व्यापारिक मानधन योजना

प्रधानमंत्री लघु व्यापारिक मानधन योजना एक तरह से छोटे कारोबारियों को सामाजिक सुरक्षा देने की पहल है, जिसके तहत उन्हें 60 साल की उम्र के बाद 3000 रुपये मंथली पेंशन मिलेगी. योजना से जुड़ने वाले कारोबारियों की उम्र 18 से 40 साल के बीच होनी चाहिए. उन्हें उम्र के आधार पर मंथली अंशदान करना होगा, जो बेहद मामूली होगा. सरकार भी इसमें बराबर का योगदान करेगी. प्रधानमंत्री लघु व्यापारिक मानधन योजना का लाभ उन सभी कारोबारियों को मिलेगा जिनका GST के तहत सालाना टर्नओवर 1.5 करोड़ रुपये से कम है. पेंशन योजना का लाभ लेने के लिए कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है.

छोटे कारोबारियों को भी मिलेगी मंथली पेंशन, जानें कौन और कैसे ले सकता है लाभ

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन स्कीम

इस स्कीम का एलान फरवरी में अंतरिम बजट 2019 में हुआ था और इसे मार्च 2019 में लॉन्च कर दिया गया. प्रधानमंत्री श्रम योगी मान धन योजना के तहत अनऑर्गेनाइज्ड यानी अंसगठित सेक्टर में काम करने वाले हर उस व्यक्ति जिसकी आय 15000 रुपये से कम है, को सरकार मंथली पेंशन देगी. इस योजना के तहत 60 साल की उम्र से हर महीने 3000 रुपये की पेंशन मिलेगी. हालांकि इसमें पेंशन पाने वाले को भी मंथली अंशदान करना होगा. इसका फायदा कम आमदनी वाले श्रमिकों को होगा. इसमें घरेलू मेड, ड्राइवर, इलेक्ट्रिशियन या इस तरह के सभी वर्कर्स आदि शामिल हैं.

अगर कोई कर्मचारी 29 साल का है तो उसे PMSYM में पेंशन पाने के लिए 60 साल की उम्र तक हर महीने 100 रुपये जमा कराने होंगे. अगर कोई कर्मचारी 18 साल की उम्र में इस योजना को लेता है तो उसे हर महीने 55 रुपये जमा करने होंगे. सरकार का दावा है कि इस योजना से अगले 5 सालों में असंगठित क्षेत्र के 10 करोड़ कर्मचारियों को फायदा होगा.

बर्थडे स्पेशल: PM मोदी ने अब तक देश को दिए ये 18 बड़े तोहफे, आम आदमी को ऐसे हुआ फायदा

 

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. PM मोदी की 4 खास स्‍कीम- हर आदमी का आराम से कटेगा बुढ़ापा

Go to Top