Petrol-Diesel Price: ईंधन की बढ़ी हुई कीमतों से कब मिलेगी राहत, जानें कैसे तय होते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

शुक्रवार को दरों में गिरावट से यह उम्मीद बन रही थी कि पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल और डीजल के दाम घटेंगे, लेकिन खुदरा कीमतें ऐसे तय नहीं होतीं.

Petrol, diesel price to fall only on sustained drop in international oil prices
पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों ने आम आदमी को परेशान कर रखा है.

Petrol-Diesel Price: पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों ने आम आदमी को परेशान कर रखा है. बीते कुछ दिनों में अंतर्राष्ट्रीय बाजार में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में गिरावट देखी गई, जिसके चलते यह अनुमान लगाया जा रहा है कि जल्द ही लोगों को घरेलु बाजार में भी ईंधन की बढ़ती कीमतों से राहत मिल सकती है. लेकिन जानकारों के मुताबिक, फिलहाल पेट्रोल-डीजल के दाम कम नहीं होने वाले. पेट्रोल और डीजल की बढ़ी हुई कीमतों से राहत तभी मिलेगी, जब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तेल की कीमतों में मौजूदा गिरावट कुछ और दिनों तक बनी रहेगी. सार्वजनिक क्षेत्र की पेट्रोलियम कंपनियां इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC), भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन (HPCL) दैनिक आधार पर पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बदलाव करती हैं. लेकिन यह बदलाव पिछले 15 दिनों में एवरेज बेंचमार्क इंटरनेशनल प्राइस के हिसाब से होता है. इसलिए रविवार की कीमत पिछले 15 दिन के औसत से तय होगी.

Car Subscription vs Car Buying: दोनों में क्या है आपके लिए बेहतर, जानिए सब्सक्रिप्शन पर कार लेने के फायदे और नुकसान

ऐसे तय होते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि घरेलू स्तर पर खुदरा कीमतें 15 दिन के ‘रोलिंग’ एवरेज के आधार पर तय की जाती हैं. ऐसे में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कीमतों में लगातार गिरावट के बाद ही यहां दाम घटेंगे. ग्लोबल बेंचमार्क ब्रेंट कच्चे तेल की कीमतें नवंबर में (25 नवंबर तक) मोटे तौर पर लगभग 80 से 82 डॉलर प्रति बैरल तक रही हैं. बीते शुक्रवार को कच्चे तेल का दाम करीब चार डॉलर प्रति बैरल और घट गया. उसके बाद ब्रेंट वायदा में बिकवाली से लंदन के आईसीई में इसकी कीमत छह डॉलर और घटकर 72.91 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुई. सूत्रों के मुताबिक कोविड के नए वैरिएंट Omicron की वजह से ऐसा हुआ है.

New Covid-19 Omicron : कोरोना का नया वैरिएंट Omicron कितना खतरनाक है? जानिए, अपने सभी सवालों के जवाब

अभी नहीं मिलेगी राहत

एक सूत्र ने कहा, ‘‘शुक्रवार को दरों में गिरावट से स्वाभाविक रूप से यह उम्मीद बन रही थी कि पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल और डीजल के दाम घटेंगे, लेकिन खुदरा कीमतें ऐसे तय नहीं होतीं. चूंकि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतें नवंबर के अधिकांश दिनों में सीमित दायरे में रही हैं, ऐसे में शुक्रवार को आई गिरावट से औसत मूल्य पर कोई खास प्रभाव नहीं पड़ेगा. सूत्र ने आगे कहा, ‘‘अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जब कीमतों में गिरावट कुछ और दिन बनी रहेगी, तभी यहां पेट्रोल और डीजल के दाम नीचे आएंगे.’’ हाल में अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया सहित भारत जैसे प्रमुख तेल उपभोक्ता देशों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों को कम करने के संयुक्त प्रयास के तहत अपने रणनीतिक भंडार से कच्चे तेल को जारी करने की घोषणा की थी. लेकिन इन घोषणाओं का भी अंतरराष्ट्रीय कीमतों पर ज्यादा असर नहीं पड़ा है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Financial Express Telegram Financial Express is now on Telegram. Click here to join our channel and stay updated with the latest Biz news and updates.

TRENDING NOW

Business News