सर्वाधिक पढ़ी गईं

बाबा रामदेव की पंतजलि आयुर्वेद पर 75.08 करोड़ का जुर्माना, ग्राहकों को नहीं दिया था GST कटौती का फायदा

2017 में कई उत्पादों पर जीएसटी दरें 28 फीसदी से घटाकर 18 फीसदी कर दी गई थी. बावजूद इसके पतंजलि ने कीमतें नहीं घटाई.

March 17, 2020 12:10 PM
Patanjali punished GST anti-profiteering penalty on Baba Ramdev’s firm for not passing rate cut benefit to customer2017 में कई उत्पादों पर जीएसटी दरें 28 फीसदी से घटाकर 18 फीसदी कर दी गई थी. बावजूद इसके पतंजलि ने कीमतें नहीं घटाई.

बाबा रामदेव (Baba Ramdev) की पतंजलि आयुर्वेद (Patanjali Ayurveda) को जीएसटी (GST) दरों मे कटौती के बावजूद इसका फायदा ग्राहकों को नहीं पहुंचाने का दोषी पाया गया है. नेशनल एंटी प्रॉफिटिंग अथारिटी ने (NAA) पतं​जलि को दोषी ठहराते हुए 75.08 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. दरअसल, 2017 में कई उत्पादों पर जीएसटी दरें 28 फीसदी से घटाकर 18 फीसदी कर दी गई थी. बावजूद इसके पतंजलि ने कीमतें नहीं घटाई बल्कि वाशिंग पाउडर का बेसिक प्राइस भी बढ़ा दिया.

NAA ने बयान में कहा, ”पतंजलि ने अपने लोकप्रिय डिटर्जेंट पाउडर का बिक्री मल्य नहीं घटाया. बल्कि सामनों के बेस प्राइस में इजाफा किया.” पतंजलि आयुर्वेद ने इस तरह 74.08 करोड़ रुपये का मुनाफा बनाया. एंटी प्रॉफिटिंग कमिटी ने कंपनी को इतनी रकम 18 फीसदी ब्याज के साथ केंद्र और राज्यों के कंज्यूमर वेलफेयर फंड्स में तीन महीने के भीतर जमा कराने के लिए कहा है.

पतंजलि आयुर्वेद ऐसी इकलौती कंपनी नहीं है जिस पर इस तरह मुनाफाखोरी रोधी प्रावधानों के तहत कार्रवाई हुई है. हाल ही में डव साबुन बनाने वाली कंपनी एचयूएल और मैगी नूडल्स बनाने वाली कंपनी नेस्ले के खिलाफ भी इस तरक की कार्रवाई हो चुकी है.

NAA ने खारिज किया पतंजलि का तर्क

NAA ने एक बयान में कहा, हालांकि, पतंजलि का कहना है कि जीएसटी लागू होने के बाद उसे नुकसान उठाना पड़ा था. क्योंकि रेट बढ़ने के बाद भी उसने कीमतें नहीं बढ़ाई थी. इस तर्क को एनएए ने खारिज कर दिया. एनएए का कहना है कि पतंजलि की तरफ से कीमतें नहीं बढ़ाना कारोबारी फैसला था और इसे टैक्स कटौती का फायदा ग्राहकों तक नहीं पहुचाने की वजह नहीं बताया जा सकता है.

NAA ने पतंजलि के उस तर्क को भी खारिज कर दिया जिसमें कहा गया कि यह जांच धारा 19(1)(g) का उल्लंघन है. अथॉरिटी ने कहा, ”यह तर्क सही नहीं है. क्योंकि अथॉरिटी या डीजीएपी ने प्राइस कंट्रोलर या रेग्युलेटर की तरह काम नहीं किया.” इस बीच, डायरेक्टर जनरल एंटी प्रॉफिटिंग (DGAP) ने चार महीने के भीतर एक कम्प्लायंस रिपोर्ट सौंपने के आदेश दिए हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. बाबा रामदेव की पंतजलि आयुर्वेद पर 75.08 करोड़ का जुर्माना, ग्राहकों को नहीं दिया था GST कटौती का फायदा

Go to Top