मुख्य समाचार:

भारत के साथ छिड़ सकती है पारंपरिक जंग, हारे तो भी मरते दम तक लड़ेंगे: इमरान खान

इमरान खान ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के बाद भारत के साथ बातचीत का सवाल ही नहीं है.

September 15, 2019 5:29 PM
Imran Khan warns of possibility of conventional war with IndiaImage: Reuters

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के बाद भारत के साथ बातचीत का सवाल ही नहीं है. उन्होंने भारत के साथ पारंपरिक युद्ध की चेतावनी देते हुए कहा कि यह भारतीय उपमहाद्वीप से परे जा सकता है. खान ने कहा कि इसलिए हमने संयुक्त राष्ट्र का रुख किया है. हम प्रत्येक अंतरराष्ट्रीय फोरम तक जा रहे हैं और उन्हें इस पर तुरंत कार्रवाई करनी चाहिए.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा, ‘निश्चित तौर पर मेरा मानना है कि भारत के साथ युद्ध एक संभावना हो सकती है…. यह संभावित विध्वंस भारतीय उपमहाद्वीप से परे भी जा सकता है.’ इसके साथ ही खान ने कहा कि पाकिस्तान कभी युद्ध की शुरुआत नहीं करेगा.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने अल जजीरा से कहा, ‘मैं अमनपसंद हूं, मैं युद्ध विरोधी हूं, मेरा मानना है कि युद्ध से समस्याओं का समाधान नहीं होता. जब दो परमाणु हथियार संपन्न देश लड़ते हैं और अगर यह लड़ाई पारपंरिक हो तो हमेशा उसका अंत परमाणु युद्ध के रूप में होने की आशंका बनी रहती है. इसके नतीजे अकल्पनीय हैं.’

मरते दम तक लड़ेंगे

खान ने आगे कहा, ‘खुदा न खास्ता अगर पाकिस्तान कहे कि हम पारंपरिक लड़ाई लड़ रहे हैं, हम हार रहे हैं और देश के पास केवल दो विकल्प हैं कि या तो आप आत्मसमर्पण करें या अपनी आजादी के लिए आखिरी सांस तक लड़ें, मैं जानता हूं पाकिस्तानी अपनी आजादी के लिए मरते दम तक लड़ेंगे.’

उल्लेखनीय है कि भारत की ओर से 5 अगस्त को संविधान के अनुच्छेद-370 के तहत जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष दर्जे को खत्म करने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटने के फैसले के बाद इस्लामाबाद-नई दिल्ली में तनाव और बढ़ गया. पाकिस्तान ने प्रतिक्रिया में भारत के साथ राजनयिक संबंध सीमित करने के साथ-साथ भारतीय उच्चायुक्त को वापस भेज दिया.

पाकिस्तान को दिवालिया करने की कोशिश में भारत

खान ने दावा किया कि हाल तक पाकिस्तान ने भारत के साथ बातचीत की कोशिश की ताकि सभ्य पड़ोसी की तरह रह सकें और कश्मीर मुद्दे पर मतभेद का समाधान राजनीतिक स्तर पर कर सकें. उन्होंने आरोप लगाया कि भारत पाकिस्तान को वित्तीय कार्रवाई कार्यबल (FATF) की काली सूची डालने की कोशिश कर रहा है.

खान ने कहा, ‘‘अगर पाकिस्तान को FATF की काली सूची में डाला जाता है तो इसका मतलब होगा कि उस पर प्रतिबंध. इसलिए वे हमें आर्थिक रूप से दिवालिया करने का प्रयास कर रहे हैं, जब हमें इसका एहसास हुआ कि वह सरकार पाकिस्तान को तबाही के रास्ते पर ले जाने के एजेंडे पर चल रही है, तब हमने अपने कदम पीछे खींच लिए.’’

अनुच्छेद-370 हटाना भारत का आंतरिक मामला

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के खिलाफ अपने ही संविधान के अनुच्छेद-370 को खत्म कर कश्मीर को मिलाने के बाद भारत सरकार के साथ बातचीत का सवाल ही नहीं है. भारत ने अनुच्छेद-370 के ज्यादातर प्रावधानों को खत्म करने के फैसले को आंतरिक मामला बताते हुए इस मुद्दे पर पाकिस्तान के गैर जिम्मेदाराना और भड़काऊ बयान की आलोचना की है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. भारत के साथ छिड़ सकती है पारंपरिक जंग, हारे तो भी मरते दम तक लड़ेंगे: इमरान खान

Go to Top