मुख्य समाचार:

INX Media Case: दिन में केवल आधे घंटे के लिए चिंदबरम से मिल पाएंगे परिवार वाले, 5 दिन तक हैं सीबीआई कस्टडी में

चिदंबरम को जोरबाग स्थित उनके आवास से बुधवार रात गिरफ्तार किया गया था.

August 22, 2019 8:36 PM
chidambaram court case order latest updates taken into cbi custody in inx media caseसीबीआई कोर्ट में चिंदमबरम पर फैसला आया.

चिदंबरम: सीबीआई कोर्ट ने पी चिदंबरम पर बड़ा फैसला सुनाया है. सीबीआई कोर्ट ने चिदंबरम को 26 अगस्त तक सीबीआई कस्टडी में भेजने का फैसला दिया है. सीबीआई ने आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार कांग्रेस नेता पी चिदंबरम को बृहस्पतिवार को अदालत में पेश किया गया था और उनसे पूछताछ कर ‘बड़ी साजिश’ का खुलासा करने के लिए उनकी पांच दिनों की हिरासत मांगी थी. कोर्ट ने सीबीआई की यह मांग स्वीकार कर उन्हें 5 दिन की सीबीआई की हिरासत में भेज दिया है. कस्टडी के दौरान हर 30 मिनट के लिए उनका परिवार उनसे मिल सकता है.

अग्रिम जमानत नामंजूर करने संबंधी दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश के खिलाफ पी चिदंबरम की जमानत याचिका न्यायमूर्ति आर भानुमति की अध्यक्षता वाली उच्चतम न्यायालय की पीठ के समक्ष शुक्रवार के लिए सूचीबद्ध हुई. सुनवाई के दौरान न्यायाधीश ने कहा कि सभी तथ्यों और परिस्थतियों पर विचार करते हुए मेरा मानना है कि चिदंबरम की पुलिस हिरासत उचित है. अदालत ने कहा है कि चिदंबरम की मेडिकल जांच कानून के मुताबिक की जाए.

सुप्रीम कोर्ट में पी चिदंबरम द्वारा डाली गई याचिका पर शुक्रवार को जस्टिस आर भानुमती की अगुवाई वाली बेंच सुनवाई करेगी. चिदंबरम की याचिका दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा आईएनएक्स मीडिया मामले में अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर देने के फैसले के खिलाफ है.

पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम को विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहर के समक्ष पेश किया गया था, जहां उनके वकीलों ने पूछताछ के लिए हिरासत में सौंपे जाने के सीबीआई के अनुरोध का इस आधार पर विरोध किया कि चिदंबरम के बेटे कार्ति सहित अन्य सभी आरोपी को मामले में जमानत दी गई थी. चिदंबरम को जोरबाग स्थित उनके आवास से बुधवार रात गिरफ्तार किया गया था.

कपिल सिब्बल की दलील

चिदंबरम की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने दलील दी कि इस मामले में पहली गिरफ्तारी पूर्व केंद्रीय मंत्री के बेटे कार्ति के चार्टर्ड अकाउंटेंट भास्कर रमन की हुई थी, जो अभी जमानत पर जेल से बाहर है. सिब्बल ने कहा कि उसके अलावा मामले के अन्य आरोपी पीटर मुखर्जी और इंद्राणी मुखर्जी को भी जमानत मिल चुकी है लेकिन अन्य मामले में वे जेल में हैं. वरिष्ठ अधिवक्ता ने दलील दी कि जमानत प्रदान करना एक नियम है और अदालत के समक्ष मुद्दा व्यक्तिगत स्वतंत्रता का है. पूछताछ के लिए चिदंबरम को पांच दिनों की हिरासत में सौंपे जाने की सीबीआई के मांग का विरोध करते हुए उन्होंने यह दलील दी.

जांच में सहयोग नहीं कर रहे चिदंबरम

दरअसल, जांच एजेंसी ने बड़ी साजिश का खुलासा करने की जरूरत का जिक्र करते हुए अदालत से यह अनुरोध किया था कि चिदंबरम को पांच दिनों की हिरासत में सौंपा जाए . मामले में सीबीआई का प्रतिनिधित्व कर रहे सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने दलील दी कि इस घोटाले में चिदंबरम दूसरे लोगों के साथ आपराधिक साजिश रचने में शामिल थे. चिदंबरम के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किये जाने के बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया था.मेहता ने अदालत से कहा, ‘‘वह (चिदंबरम) जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं.’’ उन्होंने यह भी कहा कि वह अपने जवाब में टाल-मटोल कर रहे हैं और गंभीर अपराध किया गया है. मेहता ने कहा कि यह धन शोधन (मनी लाउंड्रिंग) का एक गंभीर और बड़ा मामला है.

(इनपुट्स: PTI)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. INX Media Case: दिन में केवल आधे घंटे के लिए चिंदबरम से मिल पाएंगे परिवार वाले, 5 दिन तक हैं सीबीआई कस्टडी में

Go to Top