सर्वाधिक पढ़ी गईं

ऑक्सीजन पर हाहाकार: वसंत कुंज के इस हॉस्पिटल को तुरंत चाहिए सौ सिलिंडर, 150 से ज्यादा मरीजों की अटकी हैं सांसें

दिल्ली के वसंतकुंज स्थित इंडियन स्पाइनल इंजरी सेटर में ऑक्सीजन की भारी किल्लत हो गई है, शुक्रवार शाम से ही अस्पताल प्रशासन मदद की गुहार लगा रहा है, अगर जल्द ही पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिला तो मरीजों की जिंदगी खतरे में पड़ जाएगी.

Updated: Apr 23, 2021 8:42 PM
oxygen supply in sir ganga ram hospitalSir Ganga Ram Hospital: दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी की वजह से पिछले 24 घंटे में 25 मरीजों की मौत हो गई है. (Representative Image)

Oxygen Crisis In Delhi Hospitals: देश में कोरोना वायरस के विस्फोट के बीच देश के कई अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी को लेकर हाहाकार मचा हुआ है. ऑक्सीजन की कमी से अबतक कई मरीजों की जान जा चुकी है. दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी के चलते पिछले 24 घंटे में 25 मरीजों की मौत के बाद एक और चिंता में डालने वाली खबर आ रही है. दिल्ली के वसंत कुंज में स्थित इंडियन स्पाइनल इंजरी सेंटर में ऑक्सीजन की भारी कमी हो गई है.

अस्पताल प्रशासन का कहना है कि उनके यहां 150 से ज्यादा मरीज भर्ती हैं, जिन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया है. लेकिन उनके पास जितना ऑक्सीजन उपलब्ध है, वो कुछ ही देर चल पाएगा. अस्पताल को ऑक्सीजन की रेगुलर सप्लाई का बीती रात से इंतजार है, लेकिन अब तक सप्लाई पहुंची नहीं है. मीडिया में खबर आने के बाद दिल्ली सरकार की तरफ से आप विधायक आतिशी ने मदद का वादा किया, लेकिन रात 8.30 बजे तक अस्पताल में ऑक्सीजन पहुंचा नहीं था. अस्पताल के एक प्रशासनिक अधिकारी से जब फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन ने बातचीत की तो उन्होंने बताया कि अब तक वे सिलेंडर का इंतज़ार ही कर रहे हैं.

अस्पताल मैनेजमेंट ने शाम को अपनी तरफ से किसी तरह करीब डेढ़ दर्जन सिलेंडर का इंतजाम किया था, जिससे फिलहाल काम चल रहा है. लेकिन वे सिलेंडर अधिकतम दो-तीन घंटे ही और चल पाएंगे. अस्पताल प्रशासन का कहना है कि उनके पास जितना ऑक्सीजन है, उससे रात नहीं कटने वाली. अगर जल्द ही ऑक्सीजन सप्लाई नहीं मिलती तो वहां भर्ती मरीजों की जिंदगी खतरे में पड़ जाएगी.

इससे पहले सुबह दिल्ली में एक दर्दनाक हादसा सामने आया था. दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी की वजह से पिछले 24 घंटे में 25 मरीजों की मौत हो गई है. अभी भी वहां 65 गंभीर मरीजों का इलाज किया जा रहा है. हालांकि राहत की बात यह है कि अस्पताल द्वारा एसओएस भेजने के बाद भारी सुरक्षा के बीच अस्पताल तक ऑक्सीजन टैंकर पहुंच गया है.

60 अन्य मरीजों की जान जोखिम में

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर ने बताया कि अस्पताल में पिछले 24 घंटे में 25 बीमार मरीजों की मौत हो गई है. अस्पिताल की ओर से भेजे गए संदेश में ऑक्सीजन की तत्काल जरूरत बताई गई. अस्पपताल की ओर से कहा गया था कि महज 2 घंटों तक के लिए ही ऑक्सीजन बची है. ऑक्सीजन की कमी की वजह से 60 अन्य बीमार मरीजों की जान जोखिम में है. अस्पताल का कहना है कि वेंटिलेटर और बाइलेवल पॉजिटिव एयरवे प्रेशर  प्रभावी तरीके से काम नहीं कर रहा है. आईसीयू और ईडी में मैन्युअल तरीके से वेंटिलेशन किया जा रहा है.

राहत की खबर आई

अब राहत की खबर यह है कि दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल से एसओएस भेजने के बाद ऑक्सीजन टैंकर सर गंगाराम अस्पताल में पहुंच गया है. यह टैंकर भारी सुरक्षा के बीच पहुंचा है. सर गंगा राम अस्पताल के अलावा मैक्स अस्पताल में भी ऑक्सीजन का टैंकर पहुंच गया है. मैक्स अस्पताल द्वारा भी सरकार को सओएस भेजा गया था. इसके तुरंत बाद ऑक्सीजन का टैंकर भेजा गया.

दिल्ली में संक्रमण की स्थिति

दिल्ली के अस्पतालों में मेडिकल ऑक्सीजन की कमी के बीच राष्ट्रीय राजधानी में कल कोरोना वायरस संक्रमण के 26,169 नए मामले सामने आए. जबकि 306 मरीजों की मौत हो गई. शहर में अब तक कुल 9,56,348 लोग महामारी की चपेट में आ चुके हैं जबकि मृतक संख्या बढ़कर 13,193 तक पहुंच गई है. दिल्ली में संक्रमण की दर 36.24 फीसदी रही जोकि पिछले साल महामारी की शुरुआत के बाद से सबसे ज्यासदा है. दिल्ली में पिछले 10 दिनों में इस वायरस के चलते 1,750 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. शहर में बुधवार को 24,638, मंगलवार को 28,395 जबकि सोमवार को 23,686 नए मामले सामने आए थे.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. ऑक्सीजन पर हाहाकार: वसंत कुंज के इस हॉस्पिटल को तुरंत चाहिए सौ सिलिंडर, 150 से ज्यादा मरीजों की अटकी हैं सांसें

Go to Top