मुख्य समाचार:

बड़े शहरों में अभी भी रुला रही प्याज, पणजी में भाव पहुंचा 165 रु किलो

प्याज का भाव लगातार दूसरे सप्ताह ऊंचा बना हुआ है.

December 10, 2019 8:26 PM
Onion prices remain high across major cities; Avg rate Rs 100/kg, highest Rs 165/kg at PanajiImage: Reuters

प्याज का भाव लगातार दूसरे सप्ताह ऊंचा बना हुआ है. मंगलवार को ज्यादातर जगहों पर भाव औसतन 100 रुपये किलो से ऊपर चल रहे थे. ऐसा लगता है कि सरकार कीमत को काबू में लाने के लिए जो प्रयास कर रही है, उसके नतीजे आने में अपेक्षा के मुकाबले अधिक समय लग सकता है. आधिकारिक आंकड़े के अनुसार पणजी में प्याज का भाव सर्वाधिक 165 रुपये किलो रहा. वहीं देश के 114 बड़े शहरों में औसत कीमत 100 रुपये किलो से ऊपर रही.

प्याज के दाम में सितंबर से तेजी आनी शुरू हुई और 25 नवंबर से औसतन 100 रुपये किलो से ऊपर बनी हुई है. आंकड़े के अनुसार राष्ट्रीय राजधानी में प्याज का भाव 96 रुपये किलो, मुंबई में 102 रुपये किलो, चेन्नई में 100 रुपये और कोलकाता में 140 रुपये किलो पर पहुंच गया. तिरूवनंतपुरम, कोझिकोड में प्याज की कीमत 160 रुपये किलो, जबकि तिरूपति, एर्नाकुलम और पल्लकड जैसे शहरों में 150 रुपये किलो पहुंच गई.

कुछ अन्य शहरों में भाव

आंकड़े के अनुसार बेंगलुरू, वायनाड, रामनाथपुरम और पोर्ट ब्लेयर में प्याज का भाव 140 रुपये किलो है. वहीं गुरूग्राम, जगदलपुर, बहरामपुर, पुरूलिया, मालदा, इटानगर, अगरतला और पुडुचेरी में प्याज का भाव 120 रुपये किलो पर पहुंच गया है. अमृतसर, सूरत, जबलपुर, दरभंगा, संभलपुर, बालेश्वर और गंगटोक में इस सब्जी की कीमत 110 रुपये किलो पर पहुंच गई है.

मोदी सरकार की इस स्कीम से 1.20 लाख लोगों को मिलेगा रोजगार, जानें क्या है प्लान

बड़े उत्पादक राज्यों में अत्यधिक बारिश से गिरा उत्पादन

पिछले महीने केंद्रीय खाद एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री ने कीमत में वृद्धि के लिए खरीफ और देर से बोई जाने वाली खरीफ फसल के उत्पादन में 26 फीसदी की गिरावट को जिम्मेदार ठहराया था. इसकी वजह महाराष्ट्र और कर्नाटक जैसे बड़े उत्पादक राज्यों में अत्यधिक बारिश थी. मंत्री ने यह बार-बार कहा है कि कीमतों पर अंकुश लगाने के लिये हर संभव कदम उठाए जाएंगे. इसमें 1.2 लाख टन के आयात की अनुमति तथा निर्यात पर पाबंदी शामिल हैं.

जनवरी के पहले हफ्ते तक राहत मिलने की उम्मीद नहीं

सरकार ने खुदरा और थोक व्यापारियों के लिए भंडार सीमा भी तय की है. सोमवार को इस सीमा में और कटौती की गई और खुदरा कारोबारियों के लिए इसे 5 टन से कम कर 2 टन कर दिया गया. विशेषज्ञों का अनुमान है कि जनवरी के पहले सप्ताह तक प्याज के भाव ऊंचे रह सकते हैं. उस समय से नई फसल की आवक होने लगेगी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. बड़े शहरों में अभी भी रुला रही प्याज, पणजी में भाव पहुंचा 165 रु किलो

Go to Top