सर्वाधिक पढ़ी गईं

कहीं 120 तो कहीं 150 रु/किलो बिक रहा है प्याज, 15 जनवरी के बाद ही सस्ता होने की उम्मीद

प्याज की कीमतों पर लगाम लगाने के लिए सरकार तुर्की और मिस्र से आयात कर रही है.

December 5, 2019 11:17 AM
onion prices crosses 100 rs per kg in retail market, costly onion, kitchen budget, import from Turkey and Egypt, vegetables prices increase, onion prices rose in all country, महंगा प्याज, प्याज की कीमतें आसमान परप्याज की कीमतों पर लगाम लगाने के लिए सरकार तुर्की और मिस्र से आयात कर रही है.

किचन का बजट इन दिनों महंगे प्याज ने बुरी तरह से बिगाड़ दिया है. देश के अलग अलग हिस्सों में प्याज फुटकर में कहीं 120 रुपये तो कहीं 150 रुपये प्रति किलो हो गया है. मंडियों में भी थोक में प्याज 100 रुपये के पार निकल गया है. फिलहाल महंगे प्याज पर देशभर में विरोध के चलते सरकार को एक्शन मोड में आना पड़ा है. इसी क्रम में सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी, एमएमटीसी ने तुर्की से 4,000 टन प्याज आयात का एक और आर्डर दिया है. आयात की यह खेप जनवरी मध्य तक पहुंचने की उम्मीद है. सरकार ने बुधवार को यह जानकारी दी. यानी मिड जनवरी के बाद प्याज सस्ता होने की उम्मीद है.

मिस्र और तुर्की से भी आ रहा है प्याज

सरकार ने बयान में कहा है कि 4000 टन का यह ताजा आर्डर 17,090 टन प्याज आयात के लिये पहले किये गये अनुबंध से अलग है, जिसमें मिस्र से 6,090 टन और तुर्की से 11,000 टन प्याज का आयात करना शामिल है. एमएमटीसी, सरकार की ओर से प्याज का आयात कर रही है. सरकार आयात सहित विभिन्न उपायों से इस प्रमुख सब्जी की घरेलू आपूर्ति में सुधार लाने का प्रयास कर रही है. आयात से आपूर्ति बढ़ाकर प्याज की कीमतों पर अंकुश लगाने के प्रयास किये जा रहे हैं.

प्याज की कीमतें आसमान पर

न्यूज एजेंसी के अनुसार देश के प्रमुख शहरों में प्याज की कीमतें 100 रुपये प्रति किलोग्राम के उच्च स्तर पर बनी हुई हैं. वहीं, रिपोर्ट के अनुसार कई शहरों में प्याज के भाव 120 रुपये या 150 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गए हैं. बयान के अनुसार, उपभोक्ता मामलों के विभाग ने एमएमटीसी को प्याज के आयात के लिए तीन और निविदा जारी करने का भी निर्देश दिया है. तीन निविदाओं में से दो देश-विशिष्ट हैं, अर्थात् तुर्की और यूरोपीय संघ से प्याज का आयात किया जाना है जबकि एक वैश्विक निविदा है. इन सभी निविदाओं में से प्रत्येक निविदा के तहत 5,000 टन प्याज का आयात किया जायेगा.

एक्शन मोड में सरकार

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने कहा है कि जल्द आयात के लिए नई निविदा में मानदंडों में कुछ ढील देकर आयात को आसान बनाने का प्रयास किया गया है. इनमें आयात किए जाने वाले प्याज का आकार 40 मिमी से 80 मिमी तक बढ़ाया गया है, कंसोर्टियम बोली लगाने की अनुमति दी गई है, निर्यातक कई लॉट में शिपमेंट की पेशकश कर सकते हैं. इसके अतिरिक्त, कीटनाशक धूम्रीकरण मामले में मानदंड में जो ढील 30 नवंबर तक दी गई थी, उसे बढ़ाकर 31 दिसंबर तक कर दिया गया है. इससे भागीदारी, प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और कीमत कम होने की उम्मीद है.

मंत्रालय ने कहा कि इसके अलावा, एक समन्वय समिति का भी गठन किया गया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आयात और वितरण की पूरी प्रक्रिया सुव्यवस्थित हो सके ताकि समय पर प्याज की आवक हो और राज्यों द्वारा प्याज की बिक्री सुनिश्चित हो सके. बयान में कहा गया है कि जहाजरानी मंत्रालय ने आश्वासन दिया है कि वह आयातित प्याज वाले जहाजों के लैंडिंग/डॉ​किंग के लिए प्राथमिकता देगा तथा प्याज के शीघ्र आगमन और आगे वितरण/ प्रेषण सुनिश्चित करने के लिए जवाहरलाल नेहरू पोर्ट, मुंबई में एक नोडल अधिकारी नियुक्त करेगा.

जमाखोरी पर भी नजर

केंद्र सरकार ने जमाखोरी रोकने के प्रयास में तीन दिसंबर को खुदरा विक्रेताओं और थोक विक्रेताओं के लिए प्याज की स्टॉक सीमा घटाकर 5 टन और 25 टन कर दी थी. हालांकि, आयातित प्याज पर यह स्टॉक सीमा लागू नहीं होगी. मंत्रिमंडल ने घरेलू आपूर्ति में सुधार और कीमतों को नियंत्रित करने के लिए 1.2 लाख टन प्याज के आयात को मंजूरी दी है. सरकार ने कीमतों को नियंत्रण में रखने के लिए पहले ही प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगाया हुआ है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कहीं 120 तो कहीं 150 रु/किलो बिक रहा है प्याज, 15 जनवरी के बाद ही सस्ता होने की उम्मीद

Go to Top