मुख्य समाचार:

एक और नोटबंदी की तैयारी? वित्त मंत्रालय के पूर्व अधिकारी ने दिए संकेत

वित्‍त मंत्रालय के पूर्व अधिकारी ने दावा किया कि 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट की जगह लाए गए 2,000 रुपये के नोट की जमाखोरी की जा रही है और इसे बंद कर देना चाहिए.

November 8, 2019 4:44 PM
DeMo third anniversary, demonetisation 3rd anniversary, former FinMin official SC Garg, PM modi notban, 2000 rupees note demonetisation, finance ministryवित्‍त मंत्रालय के पूर्व अधिकारी ने दावा किया कि 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट की जगह लाए गए 2,000 रुपये के नोट की जमाखोरी की जा रही है और इसे बंद कर देना चाहिए.

नोटबंदी के तीस साल पूरे होने पर वित्त मंत्रालय के अंतर्गत आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव एससी गर्ग ने कहा कि 2,000 रुपये के नोट को बंद कर देना चाहिए. उन्होंने दावा किया कि 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट की जगह लाए गए 2,000 रुपये के नोट की जमाखोरी की जा रही है और इसे बंद कर देना चाहिए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन साल पहले आज ही के दिन 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट को बंद करने की घोषणा की थी. इसका मकसद काले धन पर अंकुश लगाना, डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देना और देश को लेसकैश अर्थव्यवस्था बनाना था.

गर्ग ने एक नोट में कहा, “सिस्टम में अब भी काफी मात्रा में नकदी है. 2,000 रुपये के नोटों की जमाखोरी इसका सबूत है. पूरी दुनिया में डिजिटल भुगतान का विस्तार हो रहा है. भारत में भी ऐसा ही हो रहा है. हालांकि, यहां इसकी ग्रोथ धीमी है.” वित्त मंत्रालय से ट्रांसफर के बाद गर्ग ने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) ले ली थी.

नोटबंदी के 3 साल: हर तीसरे भारतीय ने कहा- नोटबंदी ने बिगाड़ी देश की अर्थव्यवस्था

2,000 रुपये के नोट की हिस्सेदारी एक-तिहाई 

गर्ग ने कहा कि मूल्य के आधार पर चलन में मौजूद करंसी में 2,000 रुपये के नोट की एक-तिहाई हिस्सेदारी है. उन्होंने दो हजार रुपये के नोट को बंद करने या चलन से वापस लेने की वकालत करते हुए कहा, “वास्तव में 2,000 रुपये के नोटों का एक अच्छा-खासा हिस्सा चलन में नहीं है. इनकी जमाखोरी हो रही है. इसलिए मुद्रा के लेनदेन में 2,000 रुपये के नोट ज्यादा नहीं दिखते हैं.”

देश में 85% से अधिक लेनदेन नकद

गर्ग ने कहा, “बिना किसी दिक्कत के इन नोटों को बंद किया जा सकता है. इसका एक आसान तरीका है कि इन नोटों को बैंक खातों में जमा कर दिया जाए. इसका उपयोग प्रक्रिया के प्रबंधन में किया जा सकता है.”

आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव ने कहा, “भुगतान करने के बेहद सुविधाजनक डिजिटल मोड तेजी से नकदी की जगह ले रहे हैं. हालांकि, भारत को इस दिशा में अभी लंबी दूरी तय करना है क्योंकि देश में 85 फीसदी से अधिक लेनदेन में अभी भी नकदी की मौजूदगी है.”

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. एक और नोटबंदी की तैयारी? वित्त मंत्रालय के पूर्व अधिकारी ने दिए संकेत

Go to Top