मुख्य समाचार:
  1. नहीं बंद होगी गरीबरथ ट्रेन, फ्लैक्सी किराया योजना खत्म करने का भी प्रस्ताव नहीं

नहीं बंद होगी गरीबरथ ट्रेन, फ्लैक्सी किराया योजना खत्म करने का भी प्रस्ताव नहीं

मंत्रालय ने कहा कि उत्तर रेलवे में डिब्बों की कमी के कारण गरीब रथ की साप्ताहिक चलने वाली दो जोड़ी ट्रेनों को अस्थाई तौर पर एक्सप्रेस सेवा के तौर पर चलाया जा रहा है.

July 19, 2019 8:40 PM
रेल मंत्रालय ने गरीब रथ रेलों को मेल या एक्सप्रेस ट्रेन से रिप्लेस करने के फैसले को वापस ले लिया.

सरकार का ट्रेनों में फ्लैक्सी किराया योजना को समाप्त करने का कोई प्रस्ताव नहीं है. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित उत्तर में शुक्रवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि फ्लैक्सी किराया योजना से अधिक राजस्व अर्जित हुआ है, साथ ही फ्लैक्सी किराया वाली गाड़ियों में यात्रियों की संख्या गैर फ्लैक्सी किराया अवधि की तुलना में बढ़ी है. इसके अलावा भारतीय रेलवे ने एक और अहम फैसला लिया है. भारतीय रेलवे ने साफ किया कि गरीब रथ ट्रेनों को हटाने का कोई प्रस्ताव नहीं है. रेल मंत्रालय ने शुक्रवार को काठगोदाम-जम्मू और काठगोदाम-कानपुर रेलमार्गों पर गरीब रथ रेलों को मेल या एक्सप्रेस ट्रेन से रिप्लेस करने के फैसले को वापस ले लिया. इसी के साथ कम किराए वाली वातानुकूलित ट्रेन (गरीब रथ) की सेवाएं इन मार्गों पर 4 अगस्त से दोबारा शुरू हो जाएंगी. मंत्रालय ने कहा कि उत्तर रेलवे में डिब्बों की कमी के कारण गरीब रथ की साप्ताहिक चलने वाली दो जोड़ी ट्रेनों को अस्थाई तौर पर एक्सप्रेस सेवा के तौर पर चलाया जा रहा है. विस्तार से जानिए इन दोनों फैसलो के बारे में

फ्लैक्सी किराया योजना को खत्म करने का प्रस्ताव नहीं

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने राज्यसभा में बताया कि नौ सितंबर 2016 से राजधानी, शताब्दी एवं दूरंतो गाड़ियों में फ्लैक्सी किराया का विचार शुरू किया गया. इसके बाद विभिन्न पक्षों से मिले फीडबैक के आधार पर फ्लैक्सी किराया योजना की समीक्षा के लिए एक समिति गठित की गई. गोयल के अनुसार, समिति की सिफारिशों के आधार पर जांच करने के बाद 15 मार्च 2019 से प्रयोग के तौर पर फ्लैक्सी किराया योजना को युक्तिसंगत बनाया गया. इसके तहत फ्लैक्सी किराया योजना को 15 गाड़ियों से पूरी तरह और 32 गाड़ियों से तीन महीने की पूर्व निर्धारित कम व्यस्त अवधि के दौरान समाप्त कर दिया गया. उन्होंने बताया ‘‘साथ ही सभी फ्लैक्सी किराया वाली श्रेणियों में लागू फ्लैक्सी किराया योजना की अधिकतम सीमा 1.5 गुना से घटा कर 1.4 गुना तक कर दिया गया है.’’

गरीब रथ ट्रेनों को बंद करने की योजना नहीं

रेल मंत्रालय ने इन ट्रेनों के हाल ही में संचालन बंद करने के विरोध के बाद ट्वीट में कहा,‘‘काठगोदाम और जम्मू तवी के बीच चलने वाली गरीब रथ ट्रेन संख्या 12207/08 और कानपुर और काठगोदाम के बीच चलने वाली गरीब रथ ट्रेन संख्या 12207/10 की सेवाएं चार अगस्त, 2019 से दोबारा प्रभावी हो जाएंगी.’’मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि गरीब रथ ट्रेनों को हटाने की कोई योजना नहीं है और ऐसी 26 ट्रेनों का देश में संचालन किया जा रहा है. गरीब रथ रेल की शुरूआत गरीब लोगों को एसी रेल की सुविधा देने के लिए तत्कालीन रेल मंत्री लालू प्रसाद यादव ने 2005 में की थी. पहली गरीब रथ रेल बिहार के सहरसा से पंजाब के अमृतसर के बीच शुरू की गई थी. हालांकि इस ट्रेन के लिए कोचों का निर्माण पहले ही रोका जा चुका है.

Go to Top