मुख्य समाचार:

नितिन गडकरी ने बनाया 15 लाख करोड़ का प्लान, 100 दिन में शुरू होंगे ठप हाइवे प्रोजेक्ट; खादी-MSME पर फोकस

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अपनी दूसरी पारी में अगले 100 दिनों के लिए बड़ी योजनाओं की तैयारी कर लिया है.

June 5, 2019 5:02 PM
modi government, modi government priority, nitin gadkari, highways projects, il&fs, ilfs, road ministry, MSME, Union Minister Nitin Jairam Gadkari, Road Transport and Highways, नितिन गडकरी, नितिन गडकरी सड़क प्रोजेक्ट, हाइवेज प्रोजेक्ट्सनितिन गडकरी ने कहा कि उनकी प्राथमिकता शुरुआती 100 दिनों के कार्यकाल में हाइवेज के फंसे हुए प्रोजेक्ट्स को उबारना है.

Nitin Gadkari: मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने अपनी दूसरी पारी में अगले 100 दिनों के लिए बड़ी योजनाओं की तैयारी कर लिया है. इसमें राजमार्गों में 15 लाख करोड़ के निवेश से लेकर खादी और छोटे व मझले श्रेणी के उद्योंगों के उत्पादों को वैश्विक स्तर पर प्रोत्साहन देकर जीडीपी ग्रोथ को गति देने की योजनाएं शामिल हैं.

नितिन गडकरी को मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवेज एंड माइक्रो, स्माल एंड मीडियम एंटरप्राइजेज (MSME) मिनिस्ट्री का कार्यभार मिला है. न्यूज एजेंसी पीटीआई को दिए गए साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि हाइवेज को लेकर उनकी योजना का ब्लूप्रिंट तैयार हो चुका है. इस निवेश से 22 ग्रीन एक्सप्रेसवेज तैयार किए जाएंगे और अगले 100 दिनों के भीतर सभी फंसी हुई परियोजनाओं को उबारा जाएगा.

पहली मोदी सरकार में 11 लाख करोड़ का निवेश

नितिन गडकरी ने बताया कि मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में उन्हें रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवेज, शिपिंग, वाटर रिसोर्सेज, गंगा रिजुवेनेशन एंड रिवर डेवलपमेंट का प्रभार मिला था. उस समय उनके मंत्रालय ने करीब 17 लाख करोड़ रुपये खर्च किए थे जिसमें से 11 लाख करोड़ रुपये सिर्फ हाइवेज सेक्टर पर खर्च हुए थे.

हाइवेज की फंसी परियोजनाओं को उबारना प्राथमिकता

नितिन गडकरी ने कहा कि उनकी प्राथमिकता शुरुआती 100 दिनों के कार्यकाल में हाइवेज के फंसे हुए प्रोजेक्ट्स को उबारना है. इसमें से अधिकतर आईएलएंडएफएस (IL&FS) के प्रोजेक्ट्स हैं. उन्होंने कहा कि जब उन्होंने 2014 में मंत्रालय का प्रभार संभाला था तो 403 प्रोजेक्ट्स अटके हुए थे जो अब घटकर महज 20-25 प्रोजेक्ट्स रह गए हैं.

उन्होंने कहा कि इन प्रोजेक्टस को प्राथमिकता में रखा गया है और 100 दिनों के भीतर इन सभी को सुलझा लिया जाएगा. गडकरी के मुताबिक अपने पहले कार्यकाल में उन्होंने फंसे प्रोजेक्ट्स को बचाकर बैंकों के करीब 3 लाख करोड़ रुपये एनपीए होने से बचाए.

MSME एवं खादी प्रोडक्ट्स दुनिया में पहुंचाना लक्ष्य

नितिन गडकरी ने अपने नए एमएसएमई मंत्रालय के बारे में कहा कि उनका उद्देश्य संयुक्त उपक्रमों (ज्वाइंट वेंचर्स) के जरिए एमएसएमई एवं खादी प्रोडक्ट्स को दुनियाभर के बाजारों तक पहुंचाना है. उन्होंने कहा कि बड़े पैमाने पर शहद का उत्पादन कराने के अलावा उनका ध्यान वैश्विक स्तर पर काफी मांग वाले सहजन (मोरिंगा) जैसे उत्पादों को बढ़ावा देने पर है.

उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों पर ध्यान दिया जाएगा. इन सब के साथ ही खादी पर भी जोर दिया जाएगा. गडकरी ने कहा कि इनसे रोजगार के व्यापक अवसर सृजित होंगे तथा जीडीपी को तेजी मिलेगी. उन्होंने कहा कि इनका असर अगले दो से तीन साल में दिखने लगेगा.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. नितिन गडकरी ने बनाया 15 लाख करोड़ का प्लान, 100 दिन में शुरू होंगे ठप हाइवे प्रोजेक्ट; खादी-MSME पर फोकस

Go to Top