मुख्य समाचार:

निसर्ग: उत्तर पूर्व महाराष्ट्र की ओर बढ़ा चक्रवात, 3 लोगों की मौत; कई जगह पेड़ व खंभे उखड़े

IMD ने रविवार को ऑरेंज अलर्ट जारी किया था लेकिन चक्रवात की तीव्रता को आंकते हुए सोमवार को इसे रेड अलर्ट में अपग्रेड कर दिया गया.

Updated: Jun 03, 2020 9:46 PM

Nisarga Cyclone: महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में अलीबाग में लैंडफॉल करने के बाद निसर्ग चक्रवात उत्तर पूर्व महाराष्ट्र की ओर बढ़ रहा है. इसका असर नासिक, धुले और नंदूरबार जिलों में दिख सकता है, वहां भारी बारिश और तेज हवा चलने की संभावना है. पुणे का उत्तर पश्चिमी भाग भी प्रभावित होगा. निसर्ग का केन्द्र इस वक्त पुणे के ऊपर है. महाराष्ट्र में इस भयंकर चक्रवात की वजह से 3 लोगों की मौत हुई है.

पुणे में साइक्लोन से जुड़े दो हादसों में 2 लोगों की मौत हो गई और 3 अन्य घायल हो गए. मरने वालों में एक 65 वर्षीय महिला है, जो खेड़ तहसील के वहागांव की रहने वाली थी. महिला पर घर की दीवार गिर गई. महिला के परिवार के ही 3 अन्य लोग इस हादसे में घायल हो गए. दूसरा मरने वाला व्यक्ति हवेली तहसील के मोकरवाड़ी का निवासी है. तेज हवा से व्यक्ति के घर की छत उड़ गई और टिन शेड पकड़ने में वह घायल हो गया. पुणे जिला परिषद के सीईओ आयुष प्रसाद का कहना है कि साइक्लोन का प्रभाव ​पुणे की खेड़ व जुन्नार तहसील क्षेत्र में सबसे ज्यादा है. चक्रवात से जानवरों की भी मौत हुई है.

इसके अलावा रायगढ़ के अलीबाग क्षेत्र में एक 58 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई है. व्यक्ति पर साइक्लोन की तेज हवाओं से बिजली का एक ट्रांसफॉर्मर गिर गया. हादसा उमेट गांव में दोपहर 1.30 बजे हुआ, जब व्यक्ति घर जा रहा था.

लैंडफॉल के बाद हवा की स्पीड 90-100kmph

IMD मुंबई की वैज्ञानिक शुभांगी भूटे का कहना है कि भयंकर चक्रवात ने रायगढ़ जिले को क्रॉस किया. लैंडफॉल के बाद हवा की गति मुंबई व थाणे में 90-100kmph है. हल्की से भारी और बेहद भारी बारिश हो सकती है.

अलीबाग में लैंडफॉल दोपहर 1 बजे शुरू हुआ और शाम 4 बजे तक चला. रायगढ़, पालघर, थाणे और मुंबई आदि जिले चक्रवात से काफी प्रभावित हुए हैं. महाराष्ट्र के प्रभावित हिस्सों से पेड़ व बिजली के खंभे उखड़ने, टिन शेड उड़ जाने, दीवारों के गिरने की खबरें हैं. हालांकि गुजरात में इस साइक्लोन का कम असर रहा. वहां कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है और न ही किसी इन्सान के हताहत होने की खबर है.

 

IMD ने कहा है कि निसर्ग अगले 6 घंटों में कमजोर पड़ जाएगा और उत्तर पूर्व की ओर बढ़ जाएगा. महाराष्ट्र में इस चक्रवात को देखते हुए नुकसान पहुंचने वाली जगहों से हजारों लोगों को निकाला गया, ट्रेन रिशिड्यूल की गई, फ्लाइट कैंसिल की गई हैं और मछुवारों को समंदर से दूर रहने को कहा गया है. मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर शाम शाम 6 बजे से फ्लाइट्स फिर उड़ान भरेंगी.

मुंबई में 129 साल बाद चक्रवात

कोविड19 मामलों की उच्च संख्या की वजह से पहले ही संकटग्रस्त मुंबई में 129 साल के बाद कोई चक्रवात आया. आईएमडी ने रविवार को ऑरेंज अलर्ट जारी किया था लेकिन चक्रवात की तीव्रता को आंकते हुए सोमवार को इसे रेड अलर्ट में अपग्रेड कर दिया गया. दो हफ्ते में ही देश में दूसरा चक्रवात भारतीय तटों की ओर बढ़ रहा है. इससे पहले, इससे पहले बंगाल की खाड़ी में उठे तूफान अम्फान में पश्चिम बंगाल में भारी तबाही मचाई थी. अम्फान ने ओडिशा में भी नुकसान पहुंचाया था.

महाराष्ट्र में NDRF की 20 टीमें तैनात

राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) का कहना है कि महाराष्ट्र में NDRF की 21 टीमों की तैनाती की गई है. 22 टीमें गुजरात में तैनात हैं. महाराष्ट्र में साइक्लोन से नुकसान पहुंच सकने वाली जगहों से लगभग 1 लाख लोगों को निकाल लिया गया है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. निसर्ग: उत्तर पूर्व महाराष्ट्र की ओर बढ़ा चक्रवात, 3 लोगों की मौत; कई जगह पेड़ व खंभे उखड़े

Go to Top