सर्वाधिक पढ़ी गईं

वित्त मंत्री की सरकारी बैंकों के CEO के साथ मीटिंग आज, कर्ज में बढ़ोतरी के उपायों पर होगी चर्चा

बैठक में बैंकों के वित्तीय प्रदर्शन की समीक्षा की जाएगी.

August 2, 2019 7:55 AM
Nirmala Sitharaman to meet CEOs of PSU banks on FridayImage: PTI

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के सीईओ के साथ बैठक करेंगी. बैठक में बैंकों के वित्तीय प्रदर्शन की समीक्षा की जाएगी और अर्थव्यवस्था को गति देने के लिये कर्ज में वृद्धि के उपायों पर चर्चा की जाएगी. सूत्रों ने यह जानकारी दी.

सूत्रों ने बताया कि बैठक में इन्सॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (IBC) के तहत एनपीए (नॉन-परफॉर्मिंग एसेट्स) मामलों के समाधान की प्रगति की भी समीक्षा की जाएगी. समझा जाता है कि बैठक में बैंकिंग क्षेत्र की स्थिति पर गौर किया जायेगा और उनकी वित्तीय सेहत को बेहतर बनाने के तौर-तरीकों पर विचार किया जायेगा.

सुधर रही है सरकारी बैंकों की वित्तीय स्थिति

सूत्रों ने कहा कि राजस्व विभाग और कॉरपोरेट कार्य मंत्रालय के सचिव इस बैठक में उपस्थित होंगे. पिछले कुछ महीनों में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में रिवाइवल के संकेत मिले हैं. सरकार ने संसद में एक सवाल के जवाब में कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने पिछले चार वित्त वर्षों में 3.59 लाख करोड़ रुपये की वसूली की है. इसमें 2018-19 में 1.23 लाख करोड़ रुपये की रिकॉर्ड वसूली भी शामिल है. मार्च 2019 में प्रोविजन कवरेज रेशियो बढ़कर 74.2 फीसदी हो गया, जो मार्च 2015 में 46 फीसदी था.

मार्च आखिर तक 8582 विलफुल डिफॉल्टर

सरकार ने बताया कि मार्च 2019 तक एसबीआई के पास 1.76 लाख करोड़ रुपये की लेंडिंग एनपीए के तौर पर थी. सरकारी बैंकों के मार्च आखिर तक 8582 विलफुल डिफॉल्टर थे, जबकि एक साल पहले यह संख्या 7535 थी. पिछले 5 वित्त वर्षों के दौरान विलफुल डिफॉल्टर्स के अकाउंट से 7654 करोड़ रुपये रिकवर किए गए हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. वित्त मंत्री की सरकारी बैंकों के CEO के साथ मीटिंग आज, कर्ज में बढ़ोतरी के उपायों पर होगी चर्चा

Go to Top