सर्वाधिक पढ़ी गईं

मोदी कैबिनेट ने दिया यूपी, बिहार को रेल का उपहार, 11661 करोड़ के प्रोजेक्ट को दी मंजूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट ने भारचतीय रेलवे से संबंधित लगभग 11,661.002 करोड़ रुपये के कई प्रोजेक्ट्स को हामी भरी है। इन प्रोजक्ट्स में से कई रेलवे लाइन की डबलिंग और इलेक्ट्रिफिकेशन से संबंधित है।

February 20, 2018 4:59 PM
कैबिनेट मीटिंग, बीजेपी कैबिनेट, पीयूष गोयल, नरेंद्र मोदी, भाजपा, रेल मंत्रीइस डब्लिंग औऱ इलेक्ट्रिफिकेशन प्रोजेक्ट को पूरा करने में क्रमश: 1347.61 करोड़ और 1381.49 करोड़ का खर्च आएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट ने भारचतीय रेलवे से संबंधित लगभग 11,661.002 करोड़ रुपये के कई प्रोजेक्ट्स को हामी भरी है। इन प्रोजक्ट्स में से कई रेलवे लाइन की डबलिंग और इलेक्ट्रिफिकेशन से संबंधित है। इलेक्ट्रिफिकेशन रेल मंत्री पियूष गोयल का सबससे करीबी प्रोजेक्ट है और वो इस पर अलग से ध्यान दे रहे हैं। यही नहीं कैबिनेट मीटिंग के दौरान नए रेलवे लाइन प्रोजोक्ट को भी मंजूरी मिली है। नए प्रोजेक्ट के शुरु होने से यात्रियों को काफी सुविधा मिलेगी क्योंकि इससे ना सिर्फ रेलवे ट्रैफिक बंटेगा बल्कि नई ट्रेन चलाने में भी सुविधा होगी। कैबिनेट मीटिंग से पहले ये शोर था कि सरकार रेलवे स्टेशनों को 99 साल के लिए प्राइवेट कंपनियों को दे सकती हैं, मगर कैबिनेट के दौरान इस बात को लेकर कोई चर्चा ना होने की खबर हैं। मीटिंग के दौरान जिन 5 बड़े प्रोजेक्ट पर हामी भरी गई है, वो आप पैराग्राफ में पढ़ सकते हैं।

मुजफ्फरपुर- सुगौली और सुगौली- वालमिकी नगर लाइन डबलिंग

इस डब्लिंग औऱ इलेक्ट्रिफिकेशन प्रोजेक्ट को पूरा करने में क्रमश: 1347.61 करोड़ और 1381.49 करोड़ का खर्च आएगा। कैबिनेट ने मुजफ्फरपुर- सुगौली के बीच 100.6 किमी और सुगौली- वाल्मिकीनगर के बीच 109.7 किमी वाले इस प्रोजेक्ट को स्वीकृति दी है। इंडियन रेलवे के अनुसार ये प्रोजेक्ट बेतियाह, मोतिहारी और मुजफ्फरपरुर जैसे इलाकों को कवर करेगा।

झांसी- मानिकपुर और भीमसेन-खैरार लाइन की डब्लिंग और इलेक्ट्रफिकेशन

उम्मीद है कि ये प्रोजेक्ट 2022-2023 तक पूरा हो जाएगा। इसको पूरा करने में लगभग 4955.72 करोड़ का खर्च आएगा। 425 किलोमीटर लंबी इस लाइन के अनुरूप ट्रेन समय पर रहेंगी और सफर ज्यादा सेफ होगा। उम्मीद हैं कि इस प्रोजेक्ट से सबसे ज्यादा टूरिस्ट डेस्टिनेशन खजुराहो को फायदा होगा। यही नहीं इस प्रोजेक्ट के आने से झांसी सतना और कानपुर सतना रूट पर चलने वाली ट्रेनों को गति मिलेगी जिससे वो सही समय पर रह गंटव्य तक पहुंच सकेंगी

भटनी-औंडिहार लाइन डब्लिंग

लगभग 1330.09 करोड़ का ये प्रोजेक्ट 2021-22 तक पूरी तरह से खत्म होने की उम्मीद है। यूपी के गाजिपुर, बलिया, मऊ, देवरिया जिलों को कवर करने वाले इस प्रोजक्ट से इन लाइन पर ट्रेनो को ना सिर्फ गति प्रदान करने में मदद मिलेगी, बल्कि अकसर होने वाली देरी से भी बचा जा सकेगा। स प्रोजेक्ट के चलते मुगलसराय- इलाहाबाद रूट से ट्रैफिक शिफ्ट करने में भी मदद मिलेगी, साथ ही ये नॉर्थ ईस्ट, पश्चिम बंगाल और बिहार जाने वाले यात्रियों को भी फायदा मिलेगा।

मलकानगिरी-जेपोर न्यू लाइन प्रोजेक्ट

2676.11 करोड़ की कीमत वाला ये प्रोजेक्ट 2021-22 तक खत्म हो जाएगा। ओडिसा के मलकानगिरी और कोराटपुर को कवर करने वाला ये प्रोजक्ट इंडस्ट्री डेवलप करने में मददगार साबित होगा। इस प्रोजेक्ट के चलते 31.2 लाख लोगों को रोजगार देगा। साथ इस प्रोजेक्ट के शुरु होने से दंतेवाड़ा, जगदालपुर, जेपोर और कोराटपुर के बीच बेहतर कनेक्टिविटी मिलेगी।

भारत और मोरोक्को के बीच लॉन्ग टर्म कॉरपोरेशन और रेलवे सेक्टर में पार्टनरशिप

भारत और मोरोक्को के बीच लॉन्ग टर्म पार्टनरशिप और लॉन्ग टर्म कोपरेशन एग्रीमेंट पर मंजूरी। ये एग्रीमेंट 14 दिंसबर, 2017 को साइन हुआ था जिसके तहत दोनो देशों के तकनीक आदान प्रदान, ट्रनिंग जैसी चीजें मुख्य हैं।

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. मोदी कैबिनेट ने दिया यूपी, बिहार को रेल का उपहार, 11661 करोड़ के प्रोजेक्ट को दी मंजूरी

Go to Top