मुख्य समाचार:

सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी की SPG सुरक्षा वापस, मिलेगी CRPF की ‘Z+’ सिक्युरिटी

कांग्रेस ने बीजेपी पर बदले की राजनीति करने और गांधी परिवार की सुरक्षा से समझौता करने का आरोप लगाया है.

November 8, 2019 6:08 PM
Govt withdraws SPG security cover of Gandhi family, what is SGP security, CRPF Z+ security, Sonia Gandhi, Rahul Gandhi, Priyanka Gandhi Vadra, congress criticises BJP, home ministryकांग्रेस ने बीजेपी पर बदले की राजनीति करने और गांधी परिवार की सुरक्षा से समझौता करने का आरोप लगाया है. (PTI)

केंद्र सरकार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उनके बेटे राहुल गांधी और बेटी प्रियंका गांधी से एसपीजी सुरक्षा वापस ले ली है और अब उन्हें सीआरपीएफ की ‘जेड प्लस’ सुरक्षा दी जाएगी. अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इकलौते शख्स होंगे जिन्हें एसपीजी सुरक्षा मिलती रहेगी. उधर, कांग्रेस ने बीजेपी पर बदले की राजनीति करने और गांधी परिवार की सुरक्षा से समझौता करने का आरोप लगाया है.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के परिवार को दी गई एसपीजी सुरक्षा वापस लेने का फैसला एक विस्तृत सुरक्षा आकलन के बाद लिया गया. लिट्टे के आतंकवादियों ने 21 मई 1991 को राजीव गांधी की हत्या कर दी थी.

28 साल बिना SPG सुरक्षा के गांधी परिवार

गांधी परिवार 28 साल बाद बिना एसजीपी सुरक्षा के रहेगा. उन्हें सितंबर 1991 में 1988 के एसजीपी कानून के संशोधन के बाद वीवीआईपी सुरक्षा सूची में शामिल किया गया था. अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इकलौते शख्स होंगे जिन्हें एसपीजी सुरक्षा मिलती रहेगी.

अधिकारी ने बताया कि गांधी परिवार की सुरक्षा सीआरपीएफ जवान करेंगे. जेड प्लस सुरक्षा में उन्हें अपने घर और देशभर में जहां भी वे यात्रा करेंगे, वहां के अलावा उनके नजदीक अर्द्धसैन्य बल के कमांडो की सुरक्षा मिलेगी.

नियमों के तहत एसपीजी सुरक्षा प्राप्त लोगों को सुरक्षाकर्मी, उच्च तकनीक से लैस वाहन, जैमर और उनके कारों के काफिले में एक एम्बुलेंस मिलती है. सरकार ने इस साल अगस्त में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की एसपीजी सुरक्षा हटाई थी.

1988 में बना एसपीजी कानून

संसद द्वारा 1988 में लागू एसपीजी कानून को शुरुआत में केवल देश के प्रधानमंत्री और पूर्व प्रधानमंत्रियों को सुरक्षा मुहैया कराने के लिए बनाया गया था. राजीव गांधी की हत्या के बाद पूर्व प्रधानमंत्रियों के करीबी परिजनों को इस सुरक्षा घेरे में शामिल करने के लिए कानून में संशोधन किया गया जिससे सोनिया गांधी के साथ-साथ उनके बच्चों को एसपीजी सुरक्षा मिलने का रास्ता साफ हुआ.

बता दें, देश में प्रधानमंत्री की सुरक्षा के लिए अलग बल बनाने की जरूरत तब महसूस की गई जब 31 अक्टूबर 1984 को इंदिरा गाधी की उनके अंगरक्षकों ने हत्या कर दी थी.

फणनवीस ने महाराष्ट्र के CM पद से दिया इस्तीफा, शिवसेना पर बोला हमला- नहीं हुई थी 50-50 फॉर्म्‍युले की बात

निजी तौर पर बदले की कार्रवाई: अहमद पटेल

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके पुत्र राहुल गांधी एवं बेटी प्रियंका गांधी को प्राप्त एसपीजी सुरक्षा हटाये जाने के सरकार के फैसले को बदले की कार्रवाई बताया है. उन्होंने कहा कि भाजपा निजी स्तर पर बदला लेने के स्तर पर उतर आई है.

पटेल ने शुक्रवार को गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा हटाये जाने के फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये कहा कि भाजपा आतंकवादी हिंसा में जान गंवाने वाले दो पूर्व प्रधानमंत्रियों इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के परिवार की सुरक्षा से समझौता कर रही है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. सोनिया, राहुल और प्रियंका गांधी की SPG सुरक्षा वापस, मिलेगी CRPF की ‘Z+’ सिक्युरिटी

Go to Top