scorecardresearch

Lockdown 2.0: देश के सभी जिले 3 जोन में बांटे गए, 3 मई के बाद किन जगहों पर राहत की उम्मीद

मोदी सरकार ने 3 मई को लॉकडाउन खत्म होने से पहले पूरे देश में जिलों को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में विभाजित किया है.

Earlier this month, the Delhi government had appointed 10 bureaucrats as nodal officers for coordination with resident commissioners of states to address the concerns of migrant workers in the city. (PTI)

मोदी सरकार ने 3 मई को लॉकडाउन खत्म होने से पहले पूरे देश में जिलों को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में विभाजित किया है. इन जिलों में कोरोना की स्थिति को देखते हुए इन्हें जोन बनाया गया है. देश के सभी मेट्रो शहरों को रेड जोन माना गया है जिसमें दिल्ली, मुंबई, चैन्नई, कोलकाता, हैदराबाद, बेंगलुरू और अहमदाबाद शामिल हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह सूची मामलों की संख्या, टेस्टिंग और रिकवरी रेट को देखते हुए तैयार की है. अब तीन रंगों में बंटे जिलों से इस बात का संकेत मिल रहा है कि 3 मई के बाद कहां-कहां छूट मिल सकती है और किन जगहों पर सख्ती बनी रहेगी.

महाराष्ट्र के सबसे ज्यादा जिले रेड जोन में

सूची के मुताबिक महाराष्ट्र के 14 जिले, दिल्ली के 11, तमिलनाडु के 12, उत्तर प्रदेश के 19, पश्चिम बंगाल के 10, गुजरात और मध्य प्रदेश के 9 और राजस्थान के 8 जिलों की रेड जोन के तौर पर पहचान की गई है. बिहार में 20 जिले, उत्तर प्रदेश में 36, तमिलनाडु में 24, राजस्थान में 19, पंजाब में 15, मध्य प्रदेश में 19 और महाराष्ट्र में 16 जिलों को ऑरेंज जोन बनाया गया है. जबकि असम में 30 जिलों, छत्तीसगढ़ और अरुणाचल प्रदेश में 25, मध्य प्रदेश में 24, ओडिशा में 21, उत्तर प्रदेश में 20 और उत्तराखंड में 10 जिलों को ग्रान जोन बनाया गया है.

दिल्ली के सभी 11 जिलों और फरीदाबाद को रेड जोन, वहीं गुरुग्राम को ऑरेंज जोन बनाया गया है. उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर, लखनऊ, कानपुर, आगरा, सहारनपुर, मेरठ, रायबरेली, अलीगढ़ रेड जोन हैं जबकि गाजियाबाद , हापुड़, बागपत, शामली, प्रयागराज को ऑरेंज जोन बताया गया है.

5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी के लिए 111 लाख करोड़ का निवेश जरूरी, इंफ्रा पर पूरा दारोमदार

गोवा, मणिपुर के सभी जिले ग्रीन जोन में

इसके अलावा अरुणाचल प्रदेश, असम, दादरा और नगर हवेली, दमन और दीयु, गोवा, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, सिक्कम, त्रिपुरा और पुड्डुचेरी में कोई भी रेड जोन नहीं है. वहीं, गोवा के दोनों जिले ग्रीन जोन में हैं. मणिपुर, मिजोरम और नागालैंड में भी सभी जिले ग्रीन जोन में शामिल हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव प्रीति सूदान ने इस संबंध में सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को चिट्ठी लिखी है. उन्होंने कहा कि बफर जोन में मामलों की बड़े स्तर पर निगरानी की जाए. इसके साथ ही राज्यों को कहा गया है कि पहचाने गए रेड और ऑरेंज जोन जिलों में कंटेंमेंट जोन और बफर जोन को अंकित किया जाए और उसके बारे में सूचित किया जाए.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

TRENDING NOW

Business News