सर्वाधिक पढ़ी गईं

Mahashay Dharampal Gulati Passes Away: नहीं रहे ‘मसालों के बादशाह’, 98 की उम्र में MDH के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का निधन

MDH Owner Mahashay Dharampal Gulati Passes Away at 98: कुछ समय पहले वह कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे.

Updated: Dec 03, 2020 10:58 AM
mdh owner mahashay dharampal gulati passes away and how he become masala king from tangewalaStruck by the horrors of partition, Dharampal Gulati and his family reached Delhi in September of 1947.

MDH Owner Mahashay Dharampal Gulati Passes Away at 98: मसाला किंग के नाम से मशहूर और मसालों की दिग्गज कंपनी एमडीएच के मालिक महाशय धरमपाल गुलाटी का आज 98 वर्ष की उम्र में देहांत हो गया. कुछ समय पहले वह कोरोना वायरस से संक्रमित हुए थे. हालांकि उससे ठीक होने के बाद आज दिल का दौरा पड़ने की वजह से उनका निधन हो गया. पिछले साल उन्हें पद्मभूषण से सम्मानित किया गया था. धरमपाल गुलाटी अपने मसाले के विज्ञापन में लगातार नजर आते रहे हैं. आजादी के बाद भारत में वह शरणार्थी के रूप में आए थे और पिछले साल वह आईआईएफएल हुरुन इंडिया रिच 2020 की सूची में शामिल भारत के सबसे बुजुर्ग अमीर शख्स थे.

शरणार्थी के रूप में आए थे भारत

महाशियन दी हट्टी (एमडीएच) के मालिक धर्मपाल गुलाटी परिवार सहित 1947 में देश के विभाजन के बाद पाकिस्तान से भारत चले आए और दिल्ली में आकर तांगा चलाना शुरू किया. भारत आने के समय उनके पास 1500 रुपये ही बचे थे, जिससे उन्होंने 650 रुपये में घोड़ा और तांगा खरीदकर रेलवे स्टेशन पर चलाना शुरू किया. कुछ दिनों के बाद उन्होंने अपने भाई को तांगा देकर करोलबाग की अजमल खां रोड पर मसाले बेचना शुरू कर दिया.

पहली फैक्ट्री 1959 में कीर्ति नगर में

धर्मपाल के मसाले की दुकान के बारे में जब लोगों को यह पता चला कि सियालकोट के देगी मिर्च वाले अब दिल्ली में हैं, उनका कारोबार फैलता चला गया. बता दें कि गुलाटी सियालकोट से थे और वहां महाशियन दी हट्टी नाम से उनका पारिवारिक कारोबार था, जो देगी मिर्च वाले के नाम से भी मशहूर था. गुलाटी परिवार ने मसालों की सबसे पहली फैक्ट्री 1959 में राजधानी दिल्ली के कीर्ति नगर में लगाई थी. इसके बाद उन्होंने करोल बाग में अजमल खां रोड पर ऐसी ही एक और फैक्ट्री डाली. 60 के दशक में एमडीएच करोल बाग में मसालों की मशहूर दुकान बन चुकी थी.

हुरुन की सूची में सबसे बुजुर्ग अमीर शख्स

एमडीएच मसालों का कारोबार लगातार बढ़ता रहा और आज यह 100 से भी अधिक देशों में इस्तेमाल किया जाता है. 5400 करोड़ की संपत्ति के साथ धरम पाल गुलाटी आईआईएफएल हुरुन इंडिया रिच 2020 की सूची में शामिल भारत के सबसे बुजुर्ग अमीर शख्स थे. इस सूची में उन्हें 216वें स्थान पर रखा गया था. 25 करोड़ का वेतन पाने वाले धर्मपाल गुलाटी यूरोमॉनिटर के मुताबिक एफएमसीजी सेक्टर में सबसे अधिक वेतन पाने वाले सीईओ बन चुके थे. उम्र के इस पड़ाव पर भी वह बहुत सक्रिय थे और हर दिन एमडीएच के कारखाने, बाजार और डीलर के पास हर रोज जाते थे.

एमडीएच के कार्यालय लंदन और दुबई में भी

एमडीएच मसालों के सबसे बड़े ब्रांड में से एक है और 50 विभिन्न प्रकार के मसालों का उत्पादन करता है. एमडीएच के कार्यालय न सिर्फ भारत में बल्कि दुबई और लंदन में भी हैं. एमडीएच के 60 से अधिक उत्पाद बाजार में उपलब्ध हैं लेकिन सबसे अधिक बिक्री देगी मिर्च, चाट मसाला और चना मसाला का होता है.

सामाजिक कार्यों के एमडीएच का ट्रस्ट भी

एमडीएच सामाजिक कार्यों से भी दूर नहीं है. यह महाशय चुन्नी लाल चैरिटेबल ट्रस्ट का संचालन करता है जो 250 बिस्तरों का एक अस्पताल चलाता है. इसके अलावा यह एक मोबाइल हॉस्पिटल का भी संचालन करता है जो झुग्गी बस्तियों के लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराता है. यह ट्रस्ट चार स्कूल भी चलाता है और जरूरतमंद लोगों की आर्थिक सहायता भी करता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Mahashay Dharampal Gulati Passes Away: नहीं रहे ‘मसालों के बादशाह’, 98 की उम्र में MDH के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का निधन

Go to Top