नोटबंदी के 6 साल बाद देश में नकदी में भारी इजाफा, कैश सर्कुलेशन 30.88 लाख करोड़ की नई ऊंचाई पर पहुंचा | The Financial Express

नोटबंदी के 6 साल बाद देश में नकदी में भारी इजाफा, कैश सर्कुलेशन 30.88 लाख करोड़ की नई ऊंचाई पर पहुंचा

नोटबंदी के बाद से अब तक देश में कैश सर्कुलेशन 71.84% बढ़ चुका है, 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी का एलान किए जाने से पहले देश में 17.7 लाख करोड़ रुपये का कैश मौजूद था.

नोटबंदी के 6 साल बाद देश में नकदी में भारी इजाफा, कैश सर्कुलेशन 30.88 लाख करोड़ की नई ऊंचाई पर पहुंचा
8 नवंबर 2016 को नोटबंदी के एलान के 6 साल बाद देश में कैश सर्कुलेशन रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है. (फाइल फोटो)

नोटबंदी के एलान के 6 साल बाद देश में कैश सर्कुलेशन रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है. आरबीआई द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक वर्तमान में 30.88 लाख करोड़ कैश सर्कुलेशन में है. 21 अक्टूबर 2022 को खत्म हुए पखवाड़े में जनता के पास 30.88 लाख करोड़ रुपये कैश होने की बात सामने आई है, जो 4 नवंबर 2016 को मौजूद 17.97 लाख करोड़ रुपये से 71.84% ज्यादा है.

नोटबंदी के बाद कैश सर्कुलेशन में 239% का इजाफा

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के आंकड़ों के मुताबिक देश में भले ही डिजिटल पेमेंट्स पहले के मुकाबले बढ़ी है, लेकिन अभी भी ज्यादातर लोग खरीदारी के लिए कैश का ही इस्तेमाल करना ज्यादा पसंद करते हैं. नोटबंदी के बाद 25 नवंबर 2016 को लोगों के पास 9.11 लाख करोड़ रुपये का कैश मौजूद था, जिसमें अब 239 फीसदी का इजाफा हुआ है.

बीमा सेक्टर को 100 करोड़ एंट्री कैपिटल की शर्त में मिल सकती है छूट, IRDAI ने केंद्र सरकार से की सिफारिश

8 नवंबर 2016 को हुई थी नोटबंदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर 2016 की शाम 8 बजे अचानक से नोटबंदी का एलान किया था. नोटबंदी में 500 और 1,000 रुपये के नोटों को तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया गया. नोटबंदी से पहले 4 नवंबर 2016 को जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में 17.97 लाख रुपये कैश था. इसके बाद जनवरी 2017 में यह आंकड़ा घटकर 7.8 लाख करोड़ रुपये रह गया. इसके बाद कैश के आंकड़ों में 9.3 फीसदी यानी करीब 2.63 लाख करोड़ की सालाना बढ़ोतरी दर्ज की गई. 21 अक्टूबर 2020 को समाप्त हुए पखवाड़े में देश में करीब 25,585 करोड़ कैश सर्कुलेशन में था.

FPI ने दो महीने बाद बिकवाली से ज्यादा की भारतीय बाजार में खरीदारी, नवंबर के पहले हफ्ते में 15,280 करोड़ रुपये लगाए

ऐसे होती है गणना

जनता के पास कैश की गणना कुल सर्कुलेशन में मौजूद मुद्रा में से बैंकों के पास मौजूद नकदी को घटाकर की जाती है. यहां पर सर्कुलेशन में मौजूद मुद्रा से मतलब उस कैश से है, जो किसी देश के भीतर कंज्यूमर और व्यवसायों के बीच लेन-देन में इस्तेमाल की जाती है. COVID-19 महामारी के दौरान डिजिटल पेमेंट में भारी इजाफा हुआ है, लेकिन अभी भी लोग कैश में पेमेंट करना ज्यादा पसंद करते हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 06-11-2022 at 20:34 IST

TRENDING NOW

Business News