मुख्य समाचार:

दिल्ली अग्निकांड: इमारत के मालिक को हिरासत में लिया गया, नीतीश कुमार बिहार के मृतकों के परिवार को देंगे दो-दो लाख रु

अनाज मंडी के पास फैक्ट्री में आग लगने से 43 लोगों की मौत

December 9, 2019 12:23 AM
massive fire in a factory in Delhi at Anaj Mandi in Sadar BazaarImage: ANI

राष्ट्रीय राजधानी में रानी झांसी रोड पर अनाज मंडी स्थित एक 4 मंजिला इमारत में रविवार सुबह लगी आग मामले में इमारत के मालिक रेहान और उसके प्रबंधक फुरकान को हिरासत में ले लिया गया है. पुलिस ने बताया कि फैक्ट्री मालिक के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 304 (गैरइरादन हत्या) और 285 (आग के संबंध में लापरवाह रवैया) के तहत मामला दर्ज किया गया है. यह मामला अपराध शाखा को सौंप दिया गया है.

आग लगने से 43 श्रमिकों की मौत हो गई और कई लोग घायल हैं. इमारत में अवैध फैक्ट्रियां चलती थीं. आग लगने की जानकारी सुबह 5 बजकर 22 मिनट पर मिली, जिसके बाद दमकल के 30 वाहन घटनास्थल पर पहुंचे. 150 दमकल कर्मियों ने बचाव अभियान चलाया और 63 लोगों को इमारत से बाहर निकाला. अधिकारियों ने बताया कि प्रारंभिक जांच में प्रतीत होता है कि आग शॉर्ट सर्किट के कारण लगी. इस बीच बिजली वितरण कंपनी बीवाईपीएल ने दावा किया कि इमारत के भूतल पर लगे मीटर सुरक्षित हैं, जिससे प्रतीत होता है कि आग किसी अन्य कारण की वजह से लगी.

घटनास्थल पर पहुंचे एनडीआरएफ के दल ने कहा कि इमारत में जहरीली कार्बन मोनोऑक्साइड गैस भरी थी और ज्यादातर लोगों की जान दम घुटने से गई. एनडीआरएफ के डिप्टी कमांडर आदित्य प्रताप सिंह ने कहा कि इमारत की तीसरी और चौथी मंजिल पूरी तरह से धुएं से भरी हुई थी, जिसमें कार्बन मोनोऑक्साइड की मात्रा अधिक थी. यह गैस, तेल, कोयला और लकड़ी जैसे ईंधनों के पूरी तरह से नहीं जल पाने पर यह रंगहीन, गंधहीन खतरनाक गैस बनती है.

नीतीश कुमार ने 2-2 लाख मुआवजे का किया एलान

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस हादसे में 43 लोगों की मौत पर शोक जताया और राज्य के रहने वाले मृतकों के परिजनों को 2-2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने का एलान किया. एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि मुख्यमंत्री ने दिल्ली में बिहार के स्थानीय आयुक्त, संयुक्त श्रम आयुक्त और वरिष्ठ अधिकारियों को घटनास्थल के हालात का जायजा लेकर राज्य से संबंधित घायलों का उचित इलाज सुनिश्चित करने के लिए कहा.

कुमार ने कहा कि श्रम विभाग की ओर से एक-एक लाख रुपये और एक-एक लाख रुपये मुख्यमंत्री राहत कोष की ओर से सहायता राशि के रूप में दिए जाएंगे.

मृत​कों के परिवार को 10 लाख रुपये मुआवजा: केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली के अनाज मंडी क्षेत्र में आग लगने की घटना दुखद है और दमकल कर्मी लोगों को बचाने का हर संभव प्रयास कर रहे हैं. घटनास्थल पर पहुंच कर उन्होंने कहा कि इस मामले में मैजिस्टेरियल जांच के आ​देश दिए गए हैं. इसके अलावा सीएम केजरीवाल ने मृतकों के परिवारजनों को 10-10 लाख रुपये और घायलों को 1-1 लाख रुपये का मुआवजा दिए जाने का एलान किया है. साथ ही यह भी कहा है कि घायलों के चिकित्सकीय इलाज का खर्च दिल्ली सरकार उठाएगी.

वहीं दिल्ली के राजस्व मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा है कि सरकार ने अनाज मंडी क्षेत्र में लगी आग के मामले में जांच के आदेश दे दिए हैं और सात दिन में रिपोर्ट मांगी है.

दिल्ली में आग लगने की घटना भयावह: मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली के अनाज मंडी क्षेत्र में आग लगने की घटना पर दुख जताते हुए उसे बेहद भयानक बताया. उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘दिल्ली के रानी झांसी रोड पर अनाज मंडी क्षेत्र में आग लगने की घटना बेहद भयानक है. मृतकों के परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं. मैं घायलों के जल्द सेहतमंद होने की कामना करता हूं.’’ आगे लिखा, ‘‘घटनास्थल पर अधिकारी हर संभव मदद मुहैया करा रहे हैं.’’

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया है कि PM मोदी ने हादसे में मरने वाले लोगों के परिवारजनों को 2-2 लाख रुपये और गंभीर रूप से घायल लोगों को 50000 रुपये के मुआवजे का एलान किया है.

पीएम मोदी के अलावा गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेसी नेता राहुल गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आदि ने भी दिल्ली आग हादसे पर दुख प्रकट किया है.

खिड़कियां काट कर इमारत में दाखिल हुए दमकल कर्मी

अधिकारियों ने यह भी बताया कि इकाइयों के पास दमकल विभाग का अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) नहीं था. इलाके के तंग होने की वजह से बचाव अभियान में दिक्कत आ रही है और दमकल कर्मी खिड़कियां काट कर इमारत में दाखिल हुए. घटनास्थल पर हृदय विदारक दृश्य पसरा हुआ था. फैक्ट्री में काम कर रहे लोगों के रिश्तेदार और स्थानीय लोग घटनास्थल की ओर भाग रहे थे. आग की चपेट में आए लोगों के परेशान परिवार विभिन्न अस्पतालों में अपने संबंधियों को खोज रहे थे. जब आग लगी तो कई मजदूर गहरी नींद में थे. इमारत में हवा आने-जाने की उचित व्यवस्था नहीं थी, इसलिए कई लोगों की जान दम घुटने से चली गई.

दमकल कर्मियों का कहना है कि बाहर निकाले गए लोगों को आरएमएल अस्पताल, एलएनजेपी, हिंदू राव अस्पताल, लेडी हार्डिंग कॉलेज समेत विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. एलएनजेपी के चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर किशोर सिंह ने बताया कि इस अस्पताल में 34 लोगों को मृत लाया गया था और लोगों के मरने की पीछे की मुख्य वजह धुएं की चपेट में आकर दम घुटना है. कुछ शव जले हुए थे. उन्होंने बताया कि एलएनजेपी में लाए गए 15 झुलसे लोगों में से नौ निगरानी में हैं और कई आंशिक रूप से झुलसे हैं.

दिल्ली में दूसरा सबसे बड़ा अग्निकांड

इससे पहले 1997 में उपहार सिनेमा में लगी आग को दिल्ली में अब तक का भीषण अग्निकांड कहा जाता है. उपहार सिनेमा में लगी आग में दम घुटने से 59 लोगों की मौत हुई थी, जबकि 103 लोग भगदड़ में बुरी तरह घायल हो गए थे. पॉश ग्रीन पार्क क्षेत्र में स्थित उपहार सिनेमा थिएटर में बॉर्डर फिल्म चल रही थी और 13 जून 1997 को रिलीज हुई सनी देओल अभिनीत इस फिल्म को देखने के लिए कई परिवार वहां मौजूद थे. अपराह्र तीन बजे के शो के दौरान आग लगने से सिनेमाघर में अफरा-तफरी मच गई थी.

 

Input: PTI

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. दिल्ली अग्निकांड: इमारत के मालिक को हिरासत में लिया गया, नीतीश कुमार बिहार के मृतकों के परिवार को देंगे दो-दो लाख रु

Go to Top