सर्वाधिक पढ़ी गईं

मन की बात: PM मोदी ने युवा वोटर्स से की मतदान की अपील, चुनाव आयोग के काम को सराहा

27 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 52वीं बार मन की बात रेडियो कार्यक्रम को संबोधित किया.

January 27, 2019 2:00 PM
Mann ki baat by PM modi 52nd edition25 जनवरी को चुनाव आयोग का स्थापना दिवस था, जिसे ‘राष्ट्रीय मतदाता दिवस’, National Voters’Day के रूप में मनाया जाता है.

27 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 52वीं बार मन की बात रेडियो कार्यक्रम को संबोधित किया. कार्यक्रम की शुरुआत में पीएम ने हाल ही में दिवंगत हुए कर्नाटक में टुमकुर जिले के श्री सिद्धगंगा मठ के डॉक्टर श्री श्री श्री शिवकुमार स्वामी को श्रद्धांजलि दी.

उन्होंने कहा कि शिवकुमार स्वामी ने अपना सम्पूर्ण जीवन समाज-सेवा में समर्पित कर दिया. उन्होंने अपने 111 वर्षों के जीवन काल में हज़ारों लोगों के सामाजिक, शैक्षिक और आर्थिक उत्थान के लिए कार्य किया. उन्होंने अपना पूरा जीवन इस बात में लगा दिया कि लोगों को भोजन, आश्रय, शिक्षा और आध्यात्मिक ज्ञान मिले. किसानों का हर तरह से कल्याण हो.

चुनाव आयोग के काम को सराहा

पीएम ने कहा कि 25 जनवरी को चुनाव आयोग का स्थापना दिवस था, जिसे ‘राष्ट्रीय मतदाता दिवस’, National Voters’Day के रूप में मनाया जाता है. भारत में जिस पैमाने पर चुनाव का आयोजन होता है, उसे देखकर दुनिया के लोगों को आश्चर्य होता है. हमारा चुनाव आयोग बखूबी से इसका आयोजन करता है. हमारे देश में यह सुनिश्चित करने में कोई कसर नहीं छोड़ी जाती है कि भारत का प्रत्येक नागरिक, जो एक पंजीकृत यानी रजिस्टर्ड मतदाता है उसे मतदान करने का अवसर मिले. आगे कहा कि हमारे लोकतंत्र को मजबूत करने का निरंतर प्रयास करने के लिए चुनाव आयोग की सराहना करता हूँ. साथ ही उन्होंने इलेक्शन प्रोसेस में भाग लेने वाले सभी राज्यों के चुनाव आयोग, सभी सुरक्षा कर्मियों, अन्य कर्मचारियों की भी सराहना की.

युवा वोटर्स से की मतदान की अपील

कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा कि इस साल हमारे देश में लोकसभा चुनाव होंगे और यह पहला अवसर होगा, जहाँ 21वीं सदी में जन्मे युवा लोकसभा चुनावों में अपने मत का उपयोग करेंगे. पीएम ने युवा-पीढ़ी से आग्रह किया कि अगर वे वोट डालने के योग्य हैं, तो खुद को रजिस्टर कराएं और वोटिंग में हिस्सा लें.

क्रान्तिकारियों पर म्यूजियम्स

पीएम ने कहा कि 23 जनवरी को पूरे देश ने एक अलग अंदाज में नेताजी सुभाषचन्द्र बोस की जन्म जयन्ती मनाई. इस मौके पर भारत की आजादी के संघर्ष में अपना योगदान देने वाले वीरों को समर्पित एक म्यूजियम का उद्घाटन किया गया.

पीएम ने आगे कहा कि लाल किले के अंदर आजादी से अब तक कई कमरे, इमारतें बंद पड़ी थीं. उन बंद पड़े कमरों को बहुत सुन्दर म्यूजियम में बदला गया है. नेताजी सुभाष चन्द्र बोस और Indian National Army को समर्पित संग्रहालय; ‘याद-ए-जलियां’; और 1857 –Eighteen Fifty Seven, India’s First War of Independence को समर्पित म्यूजियम और इस पूरे परिसर को ‘क्रान्ति मन्दिर’ के रूप में देश को समर्पित किया गया है.

इसी क्रांति मंदिर में एक दृश्यकला म्यूजियम भी बनाया गया है. म्यूजियम में 4 ऐतिहासिक exhibitions हैं और वहाँ तीन सदियों पुरानी 450 से अधिक पेंटिंग्स और art works मौजूद हैं. म्यूजियम में अमृता शेरगिल, राजा रवि वर्मा, अवनींद्र नाथ टैगोर, गगनेंद्र नाथ टैगोर, नंदलाल बोस, जामिनी राय, सैलोज़ मुखर्जी जैसे महान कलाकारों के उत्कृष्ट कार्यों का बखूबी प्रदर्शन किया गया है.

रबीन्द्रनाथ टैगोर पर भी बोले पीएम

मन की बात में पीएम ने कहा कि गुरुदेव रबीन्द्रनाथ टैगोर को सभी एक लेखक और एक संगीतकार के रूप में जानते हैं. लेकिन गुरुदेव एक चित्रकार भी थे. उन्होंने कई विषयों पर पेंटिंग्स बनाई हैं. उन्होंने पशु पक्षियों के भी चित्र बनाए हैं, उन्होंने कई सारे सुंदर परिदृश्यों के भी चित्र बनाए हैं और इतना ही नहीं उन्होंने ह्यूमन कैरेक्टर्स को भी कला के माध्यम से कैनवस पर उकेरने का काम किया है. खास बात ये है कि गुरुदेव टैगोर ने अपने अधिकांश कार्यों को कोई नाम ही नहीं दिया. उनका मानना था कि उनकी पेंटिंग देखने वाला खुद ही उस पेंटिंग को समझे, पेंटिंग में उनके द्वारा दिए गए संदेश को अपने नजरिए से जाने. उनकी पेंटिंग्स को यूरोपीय देशों में, रूस में और अमेरिका में भी प्रदर्शित किया गया है.

संत रविदास का भी किया जिक्र

पीएम मोदी ने कहा कि 19 फरवरी को रविदास जयंती है. संत रविदास के दोहे बहुत प्रसिद्ध हैं. संत रविदास जी कुछ ही पंक्तियों के माध्यम से बड़ा से बड़ा सन्देश देते थे. संत रविदास ने अपने संदेशों के माध्यम से अपने पूरे जीवनकाल में श्रम और श्रमिक की अहमियत को समझाने का प्रयास किया.

गिनाए स्पेस टेक्नोलॉजी से हो रहे फायदे

कार्यक्रम के दौरान पीएम ने कहा कि हमारा देश स्पेस टेक्नोलॉजी का उपयोग जानमाल की रक्षा में भी बख़ूबी कर रहा है. चाहे साइक्लोन हो, या फिर रेल और सड़क सुरक्षा, इन सब में स्पेस टेक्नोलॉजी से काफी सहायता मिल रही है. हमारे मछुआरे भाइयों के बीच NAVICdevices बांटे गए हैं, जो उनकी सुरक्षा के साथ-साथ आर्थिक तरक्की में भी सहायक हैं. हम स्पेस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल सरकारी सेवाओं की डिलीवरी और अकाउंटेबिलिटी को और बेहतर करने के लिए कर रहे हैं. सबके लिए घर योजना में 23 राज्यों के करीब 40 लाख घरों को जिओ-टैग किया गया है. इसके साथ ही मनरेगा के तहत करीब साढ़े तीन करोड़ संपत्तियों को भी जिओ-टैग किया गया.

आगे कहा कि हमारे सैटेलाइट्स आज देश की बढ़ती शक्ति का प्रतीक हैं. दुनिया के कई देशों के साथ हमारे बेहतर संबंध में इसका बड़ा योगदान है. साउथ एशिया सैटेलाइटस तो एक अनूठी पहल रही है, जिसने हमारे पड़ोसी मित्र राष्ट्रों को भी विकास का उपहार दिया है. अपनी बेहद कॉम्पिटीटिव लॉन्च सर्विस के माध्यम से भारत आज न केवल विकासशील देशों के, बल्कि विकसित देशों के सैटेलाइटस को भी लॉन्च करता है.

खेलो इंडिया का किया उल्लेख, विनर्स को सराहा

पीएम मोदी ने कहा कि जनवरी महीने में पुणे में खेलो इंडिया यूथ गेम्स में 18 गेम्स में करीब 6,000 खिलाड़ियों ने भाग लिया. जब हमारा बेस मजबूत होगा यानी जब लोकल लेवल पर खिलाड़ी बेहतर प्रदर्शन करेंगे, तब ही ग्लोबल लेवल पर वे अपना बेस्ट दे पाएंगे. इस बार ‘खेलो इंडिया’ में हर राज्य के खिलाड़ियों ने अपने-अपने स्तर पर अच्छा प्रदर्शन किया है.

मुक्केबाज़ी में युवा खिलाड़ी आकाश गोरखा ने सिल्वर मेडल जीता. उनके पिता पुणे में एक कॉम्प्लेक्स में बतौर वॉचमैन का काम करते हैं और परिवार के साथ एक पार्किंग शेड में रहते हैं. वहीं महाराष्ट्र की अंडर-21 महिला कबड्डी टीम की कप्तान सोनाली हेलवी सतारा की रहने वाली हैं. उन्होंने बहुत कम उम्र में ही अपने पिता को खो दिया और उनके भाई और उनकी माँ ने सोनाली के हुनर को बढ़ावा दिया. अक्सर ऐसा देखा जाता है कि कबड्डी जैसे खेलों में बेटियों को इतना बढ़ावा नहीं मिलता है. इसके बावजूद सोनाली ने कबड्डी को चुना और उत्कृष्ट प्रदर्शन किया.

आसनसोल के 10 साल के अभिनवशॉ, खेलो इंडिया यूथ गेम्स में सबसे कम उम्र के स्वर्ण पदक विजेता हैं. कर्नाटक से एक किसान की बेटी अक्षता बासवानी कमती ने weightlifting में स्वर्ण पदक जीता. पीएम ने कहा कि खेलो इंडिया की ये कहानियाँ बता रही है कि न्यू इंडिया के निर्माण में सिर्फ बड़े शहरों के लोगों का योगदान नहीं है बल्कि छोटे शहरों, गाँव, कस्बों से आने वाले युवाओं-बच्चों, यंग स्पोर्टिंग टैलेंट, उनका भी बहुत बड़ा योगदान है.

कहां पहुंचा स्वच्छ भारत अभियान

पीएम ने आगे कहा कि 2 अक्टूबर 2014 को हमने अपने देश को स्वच्छ बनाने और खुले में शौच से मुक्त करने के लिए एक साथ मिलकर एक अभियान शुरू किया था. भारत के जन-जन के सहयोग से आज भारत 2 अक्टूबर 2019 से काफी पहले ही खुले में शौच मुक्त होने की ओर अग्रसर है. पाँच लाख पचास हज़ार से अधिक गांवों ने और 600 जिलों ने स्वयं को खुले में शौच मुक्त घोषित कर दिया है और ग्रामीण भारत में स्वच्छता कवरेज 98% को पार कर गया है. क़रीब नौ करोड़ परिवारों को शौचालय की सुविधा उपलब्ध कराई गई है.

29 जनवरी को परीक्षा पे चर्चा

पीएम ने बच्चों के एग्जाम्स को लेकर सभी स्टूडेंट्स, माता—पिता और टीचर्स का शुभकामनाएं दीं. उन्होंने कहा कि 29 जनवरी को सवेरे 11 बजे ‘परीक्षा पे चर्चा’ कार्यक्रम में वह देश भर के स्टूडेंट्स के साथ बातचीत करेंगे. इस बार पेरेंट्स और टीचर्स भी ​इसका हिस्सा होंगे. इसके अलावा कई अन्य देशों के स्टूडेंट भी इसमें भाग लेंगे. सोशल मीडिया और नमो ऐप के माध्यम से आप इसका लाइव टेलिकास्ट भी देख सकते हैं.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. मन की बात: PM मोदी ने युवा वोटर्स से की मतदान की अपील, चुनाव आयोग के काम को सराहा

Go to Top