सर्वाधिक पढ़ी गईं

GDP के आंकड़े स्वीकार करने लायक नहीं, अर्थव्यवस्था की हालत बेहद चिंताजनक: मनमोहन सिंह

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने जीडीपी में गिरावट पर कहा कि अर्थव्यवस्था की स्थिति बेहद चिंताजनक है.

November 29, 2019 8:45 PM

 

manmohan singh says economic situation is worrisome climate of fear has to changed into confidence to improve economyपूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने जीडीपी में गिरावट पर कहा कि अर्थव्यवस्था की स्थिति बेहद चिंताजनक है.(Image: ANI)

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने जीडीपी में गिरावट पर कहा कि अर्थव्यवस्था की स्थिति बेहद चिंताजनक है. उन्होंने कहा कि आज जारी जीडीपी के आंकड़े साफ तौर पर अस्वीकार्य है. मनमोहन सिंह के मुताबिक इस देश की आकांक्षा 8 से 9 फीसदी की दर से विकास करने की है. पहली तिमाही के 5 फीसदी से दूसरी तिमाही में जीडीपी का 4.5 फीसदी हो जाना तेज गिरावट है. दूसरी तिमाही चिंता पैदा करने वाली है. उन्होंने कहा कि आर्थिक नीति में थोड़े बदलावों से अर्थव्यवस्था में सुधार नहीं होने वाला है.


मनमोहन सिंह के मुताबिक अर्थव्यवस्था को 8 फीसदी की दर से आगे बढ़ाने के लिये हमें समाज में व्याप्त भय के माहौल को विश्वास में बदलना है. उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था की स्थिति समाज की स्थिति को दिखाती है. सामाजिक विश्वास का ताना-बाना, भरोसा अब टूट और बिखर रहा है.

कांग्रेस ने मोदी सरकार पर बोला हमला

कांग्रेस ने मौजूदा वित्त वर्ष में जीडीपी के गिरकर 4.5 फीसदी पहुंचने को लेकर शुक्रवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला और कहा कि देश के लोग परेशान हैं, लेकिन सरकार बेखबर है और जनता का मजाक बना रही है. पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह दावा भी किया कि भाजपा की नजर में जीडीपी का मतलब ‘गोडसे डिवाइसिव पॉलिटिक्स’ होता है.

उन्होंने एक बयान में कहा कि मंदी और तालाबंदी मोदी सरकार की पहचान बन गए हैं. इसका उपाय ढूंढने के बजाय मोदी सरकार के मंत्री जनता का मजाक बना रहे हैं. रविशंकर प्रसाद कहते हैं कि फिल्में हिट हो रही हैं इसलिए मंदी नहीं है. पीयूष गोयल आइंस्टीन का उल्लेख करते हुए कहते हैं कि आर्थिक मंदी से जुड़े आंकड़े गलत हैं. सुरजेवाला ने कहा है कि आज सभी तबके मंदी से जूझ रहे हैं खासकर छोटे और मझोले कारोबारी, लेकिन सरकार बेखबर है.

Q2 GDP: भारतीय अर्थव्यवस्था में सुस्ती और गहराई; सितंबर तिमाही में ग्रोथ रेट घटकर 4.5% पर, 6 साल में सबसे कम

सितंबर तिमाही में GDP गिरकर 4.5% हुई

देश की आर्थिक ​विकास दर (GDP) चालू वित्त वर्ष 2019-20 की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में घटकर 4.5 फीसदी पर आ गई. यह पिछली 26 तिमाही में सबसे कम है. वित्त वर्ष 2020 की पहली तिमाही में विकास दर 5 फीसदी पर थी. वहीं, पिछले वित्‍त वर्ष की समान तिमाही में जीडीपी ग्रोथ रेट 7 फीसदी दर्ज की गई थी.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. GDP के आंकड़े स्वीकार करने लायक नहीं, अर्थव्यवस्था की हालत बेहद चिंताजनक: मनमोहन सिंह

Go to Top