मुख्य समाचार:

Jet Airways क्राइसिस: बोली प्रक्रिया फेल रही तो ‘प्लान बी’ के लिए तैयार हैं बैंक!

Jet Airways: जेट एयरवेज मामले में लेंडर्स का क्या है प्लान

Published: April 21, 2019 12:35 PM
Jet Airways, Lenders, favour of non IBC resolution, bidding process, जेट एयरवेज, Bank, SBIJet Airways: जेट एयरवेज मामले में लेंडर्स का क्या है प्लान

Jet Airways crisis: जेट एयरवेज को कर्ज दे रखे वित्तीय संस्थान कंपनी से कर्ज वसूलने के विभिन्न रास्ते टटोल रहे हैं. वे मौजूदा बोली प्रक्रिया के विफल रहने की स्थिति में इनसॉल्वेंसी कानून से हटकर मामले के समाधान के पक्ष में हैं. इसके तहत बैंक ‘प्लान बी’ पर भी काम कर रहे हैं. सूत्रों ने यह जानकारी दी है. बता दें कि जेट एयरवेज पर 8500 करोड़ रुपये का कर्ज है. बैंकों द्वारा इमरजेंसी फंड उपलब्ध नहीं कराए जाने के निर्णय के बाद कंपनी ने अपना काम काज फिलहाल अस्थायी रूप से बंद कर दिया है.

‘प्लान बी’ पर हो रहा है काम

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की अगुवाई वाले 7 बैंकों के समूह ने एयरलाइन को कर्ज दे रखा है. एसबीआई ने एयरलाइन में हिस्सेदारी बिक्री के लिये बोली प्रक्रिया शुरू की है. संभावित बोलीदताओं के बारे में चीजें अगले महीने स्पष्ट होंगी. सूत्रों के अनुसार वैसे तो कर्जदाताओं को बोली प्रक्रिया के सफल रहने की उम्मीद है लेकिन स्थिति अनुकूल नहीं रहने की स्थिति में बैंक ‘प्लान बी’ पर भी काम कर रहे हैं.

IBC फ्रेमवर्क से बाहर समाधान को तैयार

सूत्रों के अनुसार अगर बोली प्रक्रिया विफल रहती है, कर्जदाता कर्ज में डूबी जेट एयरवेज के समधान को लेकर दिवाला एवं ऋण शोधन (आईबीसी) संहिता रूपरेखा से बाहर इसके समाधान के पक्ष में हैं. वे मौजूदा गारंटी और संपत्ति के आधार पर वसूली एक विकल्प है जिसे तरजीह दे सकते हैं. संहिता के तहत प्रक्रिया शुरू करने से पहले एनसीएलटी की मंजूरी जरूरी है. इसमें समाधान बाजार से जुड़ा तथा समयबद्ध तरीके से होगा.

Jet Airways: बोलीदाताओं का ब्यौरा अगले महीने

सूत्रों के अनुसार एनसीएलटी के बाहर मामले के समाधान का विकल्प बेहतर जरिया हो सकता है. इससे बैंकों को विमानों तथा अन्य संपत्ति से बेहतर मूल्य मिल सकते हैं. ऐसा माना जा रहा है कि चार इकाइयों एतिहाद एयरवेज, टीपीजी कैपिटल, इंडिगो पार्टनर्स और राष्ट्रीय निवेश और बुनियादी ढांचा कोष (एनआईआईएफ) ने जेट एयरवेज में हिस्सेदारी हासिल करने में रूचि दिखाई है. शुरूआती बोलीदाताओं के बारे में ब्योरा 10 मई को मिलने की संभावना है.

इस विकल्प पर भी विचार

कर्जदाता एयरलाइन के पास उपलब्ध 16 विमानों समेत संपत्ति के जरिये फंड जुटाने के विकल्प पर भी गौर कर रहे हैं. इससे पहले, शुक्रवार को सूत्रों ने कहा था कि कर्जदाता सक्रियता से काम कर रहे हैं और मौजूदा स्थिति के लिये उन्हें दोषी नहीं ठहराया जा सकता. वे (बैंक) एयरलाइन में नकदी नुकसान के बाद पिछले करीब 9 महीने से उससे जुड़े हुए हैं और प्रबंधन से समाधान के लिये योजना तैयार करने का आग्रह करते रहे हैं. उसने कहा कि लेकिन दुर्भाग्य से प्रबंधन तथा प्रवर्तक ने निर्णय लेने में देरी की जिससे मौजूदा स्थिति उत्पन्न हुई.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Jet Airways क्राइसिस: बोली प्रक्रिया फेल रही तो ‘प्लान बी’ के लिए तैयार हैं बैंक!

Go to Top