Krishna Janmashtami 2022: कब है श्रीकृष्ण जन्माष्टमी? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि | The Financial Express

Krishna Janmashtami 2022: कब है श्रीकृष्ण जन्माष्टमी? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Krishna Janmashtami 2022: इस साल कृष्ण जन्माष्टमी कब है और इसे कैसे मनाया जाता है, डिटेल्स में पढ़ें-

Krishna Janmashtami 2022: कब है श्रीकृष्ण जन्माष्टमी? जानें तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजा विधि
कृ्ष्ण के जन्म को लेकर सबसे अधिक उत्साह वृंदावन और मथुरा में देखने को मिलता है क्योंकि हिंदू मान्यताओं के मुताबिक मथुरा में कृष्ण का जन्म हुआ और वृंदावन में उनका बचपन बीता.

Krishna Janmashtami 2022; History, Significance and Dahi Handi Celebration: कृष्ण जन्माष्टमी हिंदुओं का प्रमुख त्यौहार है. इसे भगवान कृष्ण के जन्म दिवस के तौर पर मनाया जाता है. हिंदु धर्म की मान्यता के अनुसार कृष्ण भगवान विष्णु के अवतार हैं. कृ्ष्ण के जन्म को लेकर सबसे अधिक उत्साह वृंदावन और मथुरा में देखने को मिलता है क्योंकि हिंदू मान्यताओं के मुताबिक मथुरा में कृष्ण का जन्म हुआ और वृंदावन में उनका बचपन बीता. इस त्यौहार के साथ गोकुलअष्टमी भी मनाई जाती है.

PPF vs EPF vs Equity MF: रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए ये है निवेशकों की पहली पसंद, सर्वे में एक चिंतित करने वाली बात भी आई सामने

इस साल कब है Janmashtami?

जन्माष्टमी हर साल अलग-अलग दिन मनाई जाती है क्योंकि इसका दिन ग्रेगोरेयिन कैलेंडर के हिसाब से नहीं तय होता है. जन्माष्टमी भाद्रपद मास की अष्टमी तिथि को मनाया जाता है. इस साल 2022 में अष्टमी तिथि 18 अगस्त को रात 09:20 से शुरू होगा और 19 अगस्त को 10:59 पर समाप्त होगा.

LIC in Mediclaim Segment: एलआईसी फिर बेच सकती है मेडिक्लेम पॉलिसी, चेयरमैन ने दी जानकारी

जन्माष्टमी कैसे मनाया जाता है?

भगवान कृ्ष्ण के भक्तों के लिए कृष्ण जन्माष्टमी सबसे महत्वपूर्ण दिन है. वे इस दिन व्रत रहते हैं और बुरे लोगों से अपनी रक्षा के लिए प्रार्थना करते हैं. इस मौके पर भक्त अपने घरों को सजाते हैं और भगवान कृष्ण की बालरूप में मूर्ति रखते हैं. भक्त भगवान कृष्ण की जिंदगी की विभिन्न घटनाओं और राधा के प्रति उनके अमर प्यार को दिखाने के लिए अभिनय करते हैं. बालरूप में भगवान कृष्ण की एक मूर्ति को एक झूले में रखा जाता है और परिवार के हर सदस्य उन्हें मक्खन-चीनी देते हैं. भगवान कृष्ण को मक्खन बहुत प्रिय था. भगवान कृष्ण को सभी पकवान ऑफर करने करने के बाद भक्त अपना व्रत खोलते हैं.

Atal Pension Yojana Rule Change: अटल पेंशन योजना में बड़ा बदलाव, 1 अक्टूबर से APY में एनरोल नहीं कर पाएंगे आयकर दाता

महाराष्ट्र में होता है दही-हांडी का आयोजन

देश भर के भिन्न-भिन्न इलाकों में इसे अलग-अलग तरीके से मनाया जाता है. महाराष्ट्र में भक्त दही-हांडी का आयोजन करते हैं. इसमें बच्चे एक पिरामिड चेन बनाते हैं और मक्खन से भरे एक मिट्टी के बर्तन हांडी को फोड़ते हैं. वहीं वृंदावन और मथुरा की बात करें तो यहां भगवान कृष्ण के जन्म के लिए विभिन्न प्रकार के पकवान और मिठाईयां तैयार किए जाते हैं.
(Input: PTI)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

First published on: 16-08-2022 at 10:50:57 am

TRENDING NOW

Business News