मुख्य समाचार:
  1. नूरजहां है आमों की मलिका, 1 फल की कीमत और वजन जानकर हैरान रह जाएंगे

नूरजहां है आमों की मलिका, 1 फल की कीमत और वजन जानकर हैरान रह जाएंगे

आम की बेहद पॉपुलर प्रजाति है नूरजहां

May 19, 2019 1:12 PM
Noorjahan Mango, Mango, Madhya Pradesh, आम, नूरजहां, Mango Fruit, Afghanistan, Summer Season, King Of Fruitsआम की बेहद पॉपुलर प्रजाति है नूरजहां (representative)

Mango Noorjahan: अपने भारी-भरकम फलों के चलते “आमों की मलिका” के रूप में मशहूर “नूरजहां” की फसल इस बार अच्छी हुई है. पिछले साल इल्लियों के भीषण प्रकोप के चलते नूरजहां की फसल बर्बाद हो गयी थी. लेकिन इस बार आम की इस दुर्लभ किस्म के मुरीदों के लिये अच्छी खबर है कि मौजूदा मौसम में इसके पेड़ों पर फलों की बहार आ गई है. बता दें कि मांग बढ़ने पर इसके केवल एक फल की कीमत 500 रुपये तक भी पहुंच जाती है.

Mango: नूरजहां की खासियत

अफगानिस्तानी मूल की मानी जाने वाली आम प्रजाति नूरजहां के गिने-चुने पेड़ मध्यप्रदेश के अलीराजपुर जिले के कट्ठीवाड़ा क्षेत्र में ही पाये जाते हैं. नूरजहां के फल तकरीबन एक फुट तक लम्बे हो सकते हैं. एक फल का वजन 2 किलो से ज्यादा हो सकता है. इनकी गुठली का वजन ही 150 से 200 ग्राम के बीच होता है. नूरजहां के फलों की सीमित संख्या के कारण शौकीन लोग उसी दौरान इनकी अग्रिम बुकिंग कर लेते हैं, जब ये डाल पर लटककर पक रहे होते हैं. मांग बढ़ने पर इसके केवल एक फल की कीमत 500 रुपये तक भी पहुंच जाती है.

कभी 4 किलो का होता था एक आम

इंदौर से करीब 250 किलोमीटर दूर कट्ठीवाड़ा में इस प्रजाति की खेती के विशेषज्ञ इशाक मंसूरी ने न्यूज एजेंसी को बताया कि इस बार मौसम की मेहरबानी से नूरजहां के पेड़ों पर खूब फल लगे हैं. लिहाजा हम इसकी अच्छी फसल की उम्मीद कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि नूरजहां के पेड़ों पर जनवरी से बौर आने शुरू हुए थे और इसके फल जून के आखिर तक पककर तैयार होंगे. इस बार इसके एक फल का औसत वजन 2.5 किलोग्राम के आस-पास रहने का अनुमान है. किसी जमाने में नूरजहां के फल का औसत वजन 3.5 से 3.75 किलोग्राम के बीच होता था.

क्यों आम की इस प्रजाति पर संकट

जानकारों के मुताबिक पिछले एक दशक के दौरान मॉनसूनी बारिश में देरी, अल्पवर्षा, अतिवर्षा और आबो-हवा के अन्य उतार-चढ़ावों के कारण नूरजहां के फलों का वजन लगातार घटता जा रहा है. जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के कारण आम की इस दुर्लभ किस्म के वजूद पर संकट भी मंडरा रहा है. आम की यह प्रजाति मौसमी उतार-चढ़ावों के प्रति बेहद संवेदनशील है. इसकी देख-रेख उसी तरह करनी होती है, जिस तरह हम किसी छोटे बच्चे को पाल-पोस कर बड़ा करते हैं.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop