मुख्य समाचार:

Kerala flood: केरल के सभी जिलों से रेड अलर्ट वापस; मृतकों की संख्या 370 हुई, राहत-बचाव कार्य जारी

पीएम मोदी ने बीमा कंपनियों को बाढ़ से प्रभावित परिवारों को सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के तहत जल्‍द मुआवजा उपलब्ध कराने और नुकसान के आकलन के लिए विशेष कैंप लगाने के लिए कहा है. पीएम ने फसल बीमा योजना के तहत किसानों के क्‍लेम का जल्द निपटारा करने के लिए भी कहा है.

August 19, 2018 3:01 PM
kerala flood, kerala, kerala floods, kerala floods 2018, kerala flood news, pray for kerala, flood, cmdrf, kerala flood 2018, ndrf, PM Modi, save kerala, flood affected areas in kerala, kerala cm, cmdrf kerala, kerala government, chief minister relief fundपीएम मोदी ने बीमा कंपनियों को बाढ़ से प्रभावित परिवारों को सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के तहत जल्‍द मुआवजा उपलब्ध कराने और नुकसान के आकलन के लिएविशेष कैंप लगाने के लिए कहा है. पीएम ने फसल बीमा योजना के तहत किसानों के क्‍लेम का जल्द निपटारा करने के लिए भी कहा है. (Retures)

केरल के सभी जिलों से रविवार को रेड अलर्ट वापस ले लिया गया. इस बीच, बाढ़ में मरने वालों की संख्या 370 पहुंच चुकी है. इस साल मानसून के दौरान 8 अगस्त से हो रही मूसलाधार बारिश के कारण दक्षिणी राज्य केरल 94 साल की सबसे भीषण बाढ़ का सामना कर रहा है. आर्मी, नेवी, एयरफोर्स, NDRF, राज्य सुरक्षा बलों के जवान राहत-बचाव कार्य में जुटे हैं. इससे पहले, शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य के मुख्यमंत्री पी. वियजन के साथ केरल के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे किया. पीएम ने 500 करोड़ रुपये की अंतरित राहत का एलान किया है. इससे पहले केंद्र द्वारा 12 अगस्त को 100 करोड़ रुपये के राहत की घोषणा की गई थी.

एएनआई के अनुसार, रविवार को केरल के सभी जिलों से रेल अलर्ट वापस ले लिया गया. 10 जिलों के लिए आॅरेंज अलर्ट और 2 जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया गया है. राज्य में राहत-बचाव कार्य जारी है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार, बाढ़ के चलते करीब छह लाख लोग शिविरों में शरण लिये हुए हैं. राज्य सरकार ने बाढ़ से करीब 19,500 करोड़ रुपये के नुकसान की बात कही है.

जल्द मुआवजे और फसल बीमा योजना में क्लेम निपटने के निर्देश

पीएम मोदी ने बीमा कंपनियों को विशेष शिविर आयोजित कर नुकसान का आकलन करने और सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के तहत प्रभावित परिवारों और लाभार्थियों को निश्चित समय के अंदर मुआवजा देने के निर्देश दिए. उन्होंने फसल बीमा योजना के तहत किसानों के दावों के शीघ्र निस्तारण के आदेश दिए.

सड़क-बिजली जल्द सुचारु हो

पीएम ने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को प्राथमिकता के आधार पर बाढ़ से क्षतिग्रस्त हुए राष्ट्रीय राजमार्गों की मरम्मत का निर्देश दिया. केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रमों जैसे एनटीपीसी और पीजीसीआईल को भी निर्देश दिए गए हैं कि बिजली की लाइनों की मरम्मत के लिये राज्य सरकार को सभी संभव सहायता प्रदान करने के लिये उपलब्ध रहें.

पीएम आवास योजना से मकान उपलब्ध कराए जाएंगे

जिन ग्रामीणों के कच्चे मकान इस विनाशकारी बाढ़ में नष्ट हो गये हैं उन्हें प्राथमिकता के आधार पर प्रधानमंत्री आवास योजना-ग्रामीण के तहत आवास उपलब्ध कराये जाएंगे, भले ही पीएमएवाई-जी की स्थायी प्रतीक्षा सूची में वे किसी भी स्थान पर रहे हों. महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (मनरेगा) योजना के तहत 2018-19 के श्रम बजट में 5.5 करोड़ मानव कार्य दिवसों को मंजूरी दी गई है. राज्य सरकार द्वारा इसमें वृद्धि के किसी भी निवेदन पर गौर किया जाएगा.

बैंकों ने ट्रांजैक्शन शुल्क, पेनल्टी माफ किया

केरल की मदद के लिए बैंक भी आगे आए हैं. SBI और ICICI बैंक ने केरल में ग्राहकों से इस महीने ईएमआई और क्रेडिट कार्ड के बिल चुकाने में देरी पर पेनल्टी माफ करने का ऐलान किया है. इसके अलावा, एसबीआई ने केरल को दो करोड़ की मदद भी दी है. एसबीआई ने अपने सभी 270,000 कर्मचारियों को मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष (सीएमडीआरएफ) में योगदान देने के लिए प्रोत्साहित किया और बैंक बराबर राशि का योगदान देगा. इसके अलावा एसबीआई ने सीएमडीआरएफ को भेजी गई निधि पर लगने वाले सभी शुल्कों को छोड़ने का फैसला किया है.

मदद को गूगल भी आगे आया

केरल के बाढ़ पीड़ित ऑफलाइन रहने के दौरान भी अपने एंड्रायड स्मार्टफोन या टैबलेट की मदद से अपने सटीक लोकेशन का प्लस कोड जेनरेट कर उसे साझा कर सकते हैं, ताकि जहां वे फंसे हुए हैं. उसकी सटीक जानकारी मिल सके और राहत दल के लिए उन तक पहुंचना आसान हो. यूजर्स अपने प्लस कोड्स को वॉयस कॉल या एक एसएमएस के माध्यम से शेयर कर सकते हैं. प्लस कोड किसी पते की तरह ही काम करता है. जब कोई पता उपलब्ध नहीं होता है तो गूगल मैप्स पर प्लस कोड के माध्यम से उस जगह को ढूंढा और साझा किया जा सकता है.

राज्य सरकार ने मांगी है 2000 करोड़ की तत्काल मदद

पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री राहत कोष से केरल में बाढ़ से मरने वालों के परिजनों को 2 लाख रुपये और गंभीर रूप से घायलों के लिए 50 हजार रुपये की मदद देने का भी एलान किया है. इस बीच राज्य सरकार ने केंद्र से 2000 करोड़ रुपये की तत्काल सहायता मांगी है. हालांकि, अभी तक केंद्र की तरफ से कुल 600 करोड़ रुपये के राहत का एलान किया जा चुका है. दूसरी ओर, कई राज्यों की तरफ से भी केरल को मदद का एलान किया गया है. वहीं, यूएई ने भी केरल के बाढ़ पीड़ितों के मदद की पेशकश की है.

तेजी से चलाया जा रहा है बचाव अभियान

बारिश से सर्वाधिक प्रभावित जिलों में अलुवा, चलाकुडी, अलप्पुझा, चेंगन्नूर और पथनामथित्ता जैसे इलाके शामिल हैं, जहां बचाव अभियान तेजी से चलाया जा रहा है और बचाव दलों ने बहुत से लोगों को बचाया है. मीडिया संस्थानों से प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों के रिश्तेदारों और दोस्तों द्वारा जानकारी के लिए अनुरोध किए जा रहे हैं. मुख्यमंत्री पिनरायी विजयन ने कोच्चि में एक समीक्षा बैठक के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताया कि 29 मई से अबतक 357 लोगों की मौत हो चुकी है. विजयन ने यहां मीडिया को बताया कि हालात बहुत ही गंभीर व खराब हैं. उन्होंने कहा, “मृतकों की संख्या बढ़ सकती है, लेकिन हम जो कार्य कर रहे हैं, उससे हालात काबू में हैं.”

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. Kerala flood: केरल के सभी जिलों से रेड अलर्ट वापस; मृतकों की संख्या 370 हुई, राहत-बचाव कार्य जारी

Go to Top