मुख्य समाचार:

कठुआ केस में कोर्ट का फैसला: 3 दोषियों को उम्र कैद, तीन को 5-5 साल की सजा

मामले की बंद कमरे में हुई सुनवाई 3 जून को पूरी हुई थी. इस घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था.

Updated: Jun 10, 2019 5:00 PM
kathua case, kathua case verdict, kathua case six accused convicted, pathankot court, SC, Supreme courtमामले की बंद कमरे में हुई सुनवाई 3 जून को पूरी हुई थी. इस घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था.

Kathua Case Verdict: जम्मू कश्मीर के कठुआ में खानाबदोश समुदाय की आठ वर्षीय एक बच्ची से बलात्कार और फिर उसकी हत्या के मामले में यहां पंजाब की एक विशेष अदालत ने सोमवार को छह लोगों को दोषी करार दिया. अदालत ने तीन आरोपियों साांजी राम, परवेश कुुमार और दीपक खजुरिया को उम्र कैद की सजा सुनाई. जबकि दोषी तीन पुलिस कर्मियों को 5-5 साल की सजा सुनाई. मुख्य आरोपी सांजी राम के बेटे एवं सातवें आरोपी विशाल को बरी कर दिया गया है.

पीड़िता के परिवार के वकील फारुकी खान ने कहा, ‘‘अदालत ने छह लोगों को दोषी करार दिया है. एक आरोपी, सांजी राम के बेटे विशाल को बरी कर दिया गया है.’’ सुप्रीम कोर्ट ने मामले को 7 मई 2018 को कठुआ से पंजाब के पठानकोट में स्थानांतरित कर दिया था. मामले की बंद कमरे में हुई सुनवाई 3 जून को पूरी हुई थी. इस घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था.

15 पृष्ठों के आरोपपत्र के अनुसार, पिछले साल 10 जनवरी को अगवा की गई आठ साल की मासूम बच्ची को कठुआ जिले में एक गांव के मंदिर में बंधक बनाकर रखा गया और उससे दुष्कर्म किया गया. उसे जान से मारने से पहले उसे चार दिन तक बेहोश रखा गया.

जम्मू से करीब 100 किलोमीटर और कठुआ से 30 किलोमीटर दूर पड़ोसी राज्य पंजाब के पठानकोट में जिला एवं सत्र अदालत ने पिछले साल जून के पहले सप्ताह में इस मामले की रोजाना सुनवाई शुरू की थी. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई जम्मू कश्मीर से बाहर करने का आदेश दिया था.

कठुआ केस के दोषी

अदालत ने इस मामले में जिन लोगों को दोषी ठहराया गया है, उनमें गांव का मुखिया सांजी राम और दो विशेष पुलिस अधिकारी (SPO) दीपक खजूरिया तथा सुरेंद्र वर्मा शामिल हैं. मामले में हेड कांस्टेबल तिलकराज और उप निरीक्षक आनंद दत्ता को भी दोषी ठहराया गया है जिन पर सांजी राम से चार लाख रुपये लेने और अहम सबूत नष्ट करने का आरोप था.

मृत्युदंड की सजा का प्रावधान

बच्ची का शव पिछले साल 17 जनवरी को मिला था और पोस्टमार्टम में बच्ची से सामूहिक बलात्कार और हत्या की पुष्टि हुई. अभियोजन के अनुसार अदालत ने धाराओं 120 बी (आपराधिक षड्यंत्र), 302 (हत्या) और 376-डी (सामूहिक बलात्कार) समेत रणबीर दंड संहिता के तहत आरोप तय किए थे. इन धाराओं के तहत अधिकतम मृत्युदंड की सजा का प्रावधान है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कठुआ केस में कोर्ट का फैसला: 3 दोषियों को उम्र कैद, तीन को 5-5 साल की सजा

Go to Top