मुख्य समाचार:
  1. बैंकों ने छोड़ी Jet Airways को फिर खड़ा करने की कोशिश, अब दिवाला प्रक्रिया के लिए NCLT में जाएगा मामला

बैंकों ने छोड़ी Jet Airways को फिर खड़ा करने की कोशिश, अब दिवाला प्रक्रिया के लिए NCLT में जाएगा मामला

Jet Airways: जेट एयरवेज पर SBI की अगुवाई वाले बैंकों के गठजोड़ का 8,000 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है.

June 17, 2019 8:07 PM
jet airways taken to nclt by sbi led consortium will seek resolution under IBCजेट एयरवेज का कुल नुकसान 13,000 करोड़ रुपये पर पहुंच चुका है.

Jet Airways: भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की अगुवाई में बैंकों के गठजोड़ ने निजी क्षेत्र की विमानन कंपनी जेट एयरवेज को फिर खड़ा करने की अपनी ओर से की जा रही कोशिश छोड़ दी है. बैंकों के गठजोड़ ने ठप पड़ी इस एयरलाइन में फंसे अपने कर्ज के समाधान का मामला दिवाला संहिता के तहत कार्रवाई के लिए राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (NCLT) में भेजने का फैसला किया है. बैकों को अब तक के प्रयास में कर्ज में डूबी इस एयरलाइन के रिवाइवल के लिए किसी इकाई से कोई पुख्ता प्रस्ताव प्राप्त नहीं हुआ है. बैंकों की सोमवार को हुई बैठक में यह फैसला किया गया.

IBC के तहत मामले का निपटान किया जाएगा

SBI ने बयान में कहा कि गहन विचार विमर्श के बाद कर्ज देने वालों ने फैसला किया है कि इंसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (IBC) के तहत जेट एयरवेज के मामले का निपटान किया जाए. एयरलाइन के लिए सिर्फ एक बोली ही प्राप्त हुई है. उसके साथ भी शर्त जुड़ी है. बयान में कहा गया है कि यह कदम इसलिए जरूरी है क्योंकि संभावित निवेशक, सौदे के तहत SEBI के कुछ छूट चाहता है. इस तरह का सौदा दिवाला एवं शोधन अक्षमता संहिता के तहत बेहतर तरीके से हो सकता है. बैंक ने कहा कि ऋणदाता ठप खड़ी विमानन कंपनी का समाधान IBC से बाहर निपटाना चाहते थे, लेकिन अब IBC के तहत ही निपटान का फैसला किया गया है.

8,000 करोड़ रु से ज्यादा कर्ज के बोझ में दबी Jet Airways

उल्लेखनीय है कि जेट एयरवेज के साथ व्यवसायिक सौदों में उधार देने वाली दो फर्मों शैमन व्हील्स और गग्गर एंटरप्राइजेज ने एयरलाइन के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू करने के लिए 10 जून को NCLT में अपील की थी. NCLT ने अभी तक इन याचिकाओं को सुनवाई के लिए स्वीकार नहीं किया है. 13 जून को न्यायाधिकरण ने इस मामले की आगे की सुनवाई के लिए 20 जून की तारीख तय की है. NCLT ने संबंधित पक्षों से जेट एयरवेज को कानूनी नोटिस भेजने को कहा है.

17 अप्रैल से बंद हैं उड़ानें

जेट एयरवेज का परिचालन 17 अप्रैल से बंद है. एयरलाइन पर शामन व्हील्स का 8.74 करोड़ रुपये और गग्गर का 53 करोड़ रुपये का बकाया है. जेट एयरवेज पर SBI की अगुवाई वाले बैंकों के गठजोड़ का 8,000 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया है. अभी एयरलाइन का परिचालन बैंकों द्वारा ही किया जा रहा है. यही जेट एयरवेज का कुल नुकसान 13,000 करोड़ रुपये पर पहुंच चुका है. एयरलाइन पर उसे माल और सेवाएं देने वालों का 10,000 करोड़ रुपये और कर्मचारियों के वेतन का 3,000 करोड़ रुपये का बकाया है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop