मुख्य समाचार:
  1. बड़ी राहत: खुदरा महंगाई घटकर 2.05%, इंडस्ट्रियल प्रॉडक्शन में इजाफा

बड़ी राहत: खुदरा महंगाई घटकर 2.05%, इंडस्ट्रियल प्रॉडक्शन में इजाफा

दिसंबर 2018 में खुदरा महंगाई 2.11 फीसदी पर थी.

February 12, 2019 7:24 PM
january consumer price index cpi and december industrial production iipCPI IIP

मोदी सरकार ओर देश की जनता को खुदरा महंगाई (CPI) और इंडस्ट्रियल प्रॉडक्शन (IIP) दोनों मोर्चों पर राहत मिली है. अंडा, सब्जी समेत खाद्य वस्तुओं के दाम कम होने से खुदरा महंगाई जनवरी में माह दर माह आधार पर घटकर 2.05 फीसदी पर आ गई, जिसके 2.33 फीसदी रहने का अनुमान था. दिसंबर 2018 में यह 2.11 फीसदी और एक साल पहले जनवरी 2018 में 5.07 फीसदी पर थी.

वहीं दूसरी ओर दिसंबर 2018 में इंडस्ट्रियल प्रॉडक्शन की ग्रोथ रेट माह दर माह आधार पर बढ़कर 2.4 फीसदी रही. नवंबर 2018 में यह 0.5 फीसदी थी, जो ​17 महीनों का निचला स्तर था.  हालांकि दिसंबर 2017 के मुकाबले ग्रोथ रेट में गिरावट देखी गई. दिसंबर 2017 में इंडस्ट्रियल प्रॉडक्शन की ग्रोथ रेट 7.3 फीसदी रही थी.

अलग-अलग चीजों के लिए महंगाई का आंकड़ा

जनवरी में सब्जियों की खुदरा महंगाई -13.32 फीसदी रही. वहीं दालों की खुदरा महंगाई -5.50 फीसदी, फूड एंड बेवरेजेस की -1.29 फीसदी, क्लोथिंग व फुटवियर की 2.95 फीसदी, फ्यूल एंड लाइट की 2.20 फीसदी रही.

इंडस्ट्रियल प्रॉडक्शन

सेंट्रल स्टेटिस्टिक्स आॅफिस (CSO) द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, दिसंबर 2017 के मुकाबले दिसंबर 2018 में इंडस्ट्रियल प्रॉडक्शन में गिरावट की प्रमुख वजह माइनिंग और मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में प्रॉडक्शन की रफ्तार धीमी रहना रहा.

अप्रैल-दिसंबर 2018-19 के दौरान इंडस्ट्रियल आउटपुट 4.6 फीसदी की दर से बढ़ा, जो 2017-18 की समान अवधि में 3.7 फीसदी की दर से बढ़ा था. इंडेक्स आॅफ इं​डस्ट्रियल प्रॉडक्शन यानी आईआईपी में 77.63 फीसदी हिस्सा रखने वाले मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर ने दिसंबर 2018 में 2.7 फीसदी की लो ग्रोथ दर्ज की. दिसंबर 2017 में यह ग्रोथ रेट 8.7 फीसदी की थी.

अन्य सेक्टर्स का हाल

माइनिंग सेक्टर का प्रॉडक्शन दिसंबर 2018 में 1 फीसदी कम रहा, जो दिसंबर 2017 में 1.2 फीसदी की दर से बढ़ा था. पावर सेक्टर के आउटपुट की ग्रोथ दिसंबर के दौरान 4.4 फीसदी पर फ्लैट रही.

कैपिटल गुड्स का आउटपुट दिसंबर 2018 में 5.9 फीसदी बढ़ा, जो दिसंबर 2017 में 13.2 फीसदी की दर से बढ़ा था. कंज्यूमर ड्यूरेबल्स का प्रॉडक्शन 2.9 फीसदी की दर से बढ़ा, जबकि दिसंबर 2017 में यह 2.1 फीसदी की दर से बढ़ा था. कंज्यूमर नॉन—ड्यूरेबल गुड्स की ग्रोथ रेट दिसंबर में 5.3 फीसदी रही, जो दिसंबर 2017 में 16.8 फीसदी रही थी.

 

 

Go to Top