मुख्य समाचार:

5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी के लिए 111 लाख करोड़ का निवेश जरूरी, इंफ्रा पर पूरा दारोमदार

टास्क फोर्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इंफ्रा डेवलपमेंट से अतिरिक्त डिमांड पैदा होगी. इससे जीडीपी (GDP) ग्रोथ रेट में बढ़ोतरी की संभावना बनेगी.

May 1, 2020 2:23 PM
infrastructure development critical for growth as well as achieving 5 trillion dollar economy by FY25 says a FinMin task forceटास्क फोर्स का कहना है कि मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की प्रतिस्पर्धात्मकता काफी कुछ इंफ्रास्ट्रक्चर पर निर्भर करती है.

वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) की ओर से गठित एक टास्क फोर्स ने इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट को आर्थिक वृद्धि के लिए अहम बताया है. टास्क फोर्स का कहना है कि 111 लाख करोड़ रुपये के निवेश से इंफ्रा सेक्टर में नए प्रोजेक्ट्स खड़े करना व पुराने प्रोजेक्ट्स अपग्रेड कर 2025 तक भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य हासिल करने के लिए महत्वपूर्ण है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को बुधवार को सौंपी गई टास्क फोर्स की अंतिम रिपोर्ट में कहा गया कि यह ‘मेक इन इंडिया’ कार्यक्रम की सफलता के लिये विशेष रूप से महत्वपूर्ण होगा क्योंकि मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की प्रतिस्पर्धात्मकता काफी कुछ इंफ्रास्ट्रक्चर पर निर्भर करती है.

टास्क फोर्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि इंफ्रा डेवलपमेंट से अतिरिक्त डिमांड पैदा होगी. इससे जीडीपी (GDP) ग्रोथ रेट में बढ़ोतरी की संभावना बनेगी.

लॉकडाउन में अच्छी खबर: LPG रसोई गैस सिलेंडर 162.5 रु सस्ता हुआ, 3 माह में 277 रु घटी कीमत

आर्थिक मामलों के सचिव अतनु चक्रवर्ती की अध्यक्षता में नेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन (NIP) का खाका तैयार करने के लिए बनाए गए टास्क फोर्स 2019-20 से 2024-25 के दौरान इंफ्रास्ट्रक्चर में 111 लाख करोड़ रुपये के निवेश का अनुमान लगाया. रिपोर्ट में कहा गया कि बुनियादी संरचनाएं तैयार करने का काम श्रम पर निर्भर है. इसलिए इससे अर्थव्यवस्था में रोजगार और आय के लिए अवसर पैदा होते हैं. जिसके चलते डिमांड में तेजी आती है. बुनियादी संरचना की प्रभावकारी क्षमता बेहतर लॉजिस्टिक्स और नेटवर्क से दक्षता में सुधार होता है, जो अर्थव्यवस्था की प्रतिस्पर्धिता को बेहतर बनाती है.

निवेश से बनेंगे ग्रोथ और रोजगार के मौके

टास्क फोर्स ने कहा, यह अर्थव्यवस्था में उच्च निवेश, वृद्धि और रोजगार सृजन का एक चक्र शुरू करने में मदद कर सकता है. रिपोर्ट में सुझाव दिया कि 2025 तक 5 हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को हासिल करने के लिए तेज वृद्धि दर सुनिश्चित करने के साथ ही बॉन्ड बाजारों को मजबूत करने, विकास वित्तीय संस्थानों की स्थापना करने और भूमि मुद्रीकरण जैसे आपूर्ति पक्ष के सुधारों की आवश्यकता है. टास्क फोर्स ने बुनियादी ढांचा परियोजनाओं की निगरानी, कार्यान्वयन और वित्त पोषण के लिए तीन समितियों की स्थापना का भी सुझाव दिया.

कोरोना के बाद भारत करेगा जोरदार वापसी!

वित्त मंत्रालय की टास्क फोर्स ने रिपोर्ट में कहा है कि कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप के कारण व्याप्त चुनौतियों के बावजूद भारत की अर्थव्यवस्था के अगले वित्त वर्ष में तेज वृद्धि के रास्ते पर वापसी की शुरुआत कर सकती है. टास्क फोर्स ने कहा, हम उम्मीद करते हैं कि भारत की जीडीपी 5 साल (2020-21 से 2024-25) में सुस्ती से उबरकर तेजी के रास्ते पर आ जाएगा. इसकी शुरुआत वित्त वर्ष 2020-21 में हो जाएगी

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी के लिए 111 लाख करोड़ का निवेश जरूरी, इंफ्रा पर पूरा दारोमदार

Go to Top