मुख्य समाचार:

इंफोसिस के CFO एमडी रंगनाथ का इस्तीफा, 6 साल में कंपनी छोड़ने वाले तीसरे सीएफओ

रंगनाथ (55) पिछले छह सालों में कंपनी को छोड़कर जानेवाले तीसरे CFO हैं. इंफोसिस के चेयरमैन नंदन नीलेकणी ने कहा कि कंपनी की ग्रोथ में रंगनाथ की अहम भूमिका रही.

August 19, 2018 9:58 AM
infosys CFO MD Rranganath resignation, Infosys, Infosys Chairman Nandan Nilekani, Infosys CEO Salil Parekh, NR Naranmurthy, infosys latest news in hindiरंगनाथ (55) पिछले छह सालों में कंपनी को छोड़कर जानेवाले तीसरे CFO हैं. इंफोसिस के चेयरमैन नंदन नीलेकणी ने कहा कि कंपनी की ग्रोथ में रंगनाथ की अहम भूमिका रही. (Image: Infosys Website)

इंफोसिस के मुख्य वित्तीय अधिकारी (CFO) एमडी रंगनाथ ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. वे पिछले 18 साल से इंफोसिस से जुड़ हुए थे. रंगनाथ 16 नवंबर 2018 तक अपने पद पर बने रहेंगे. रंगनाथ (55) पिछले छह साल में कंपनी को छोड़कर जानेवाले तीसरे सीएफओ हैं. रंगनाथ के इस्तीफे पर इंफोसिस के को-फांउडर और चेयरमैन नंदन नीलेकणी ने कहा कि कंपनी की ग्रोथ में रंगनाथ की अहम भूमिका रही.

इंफोसिस ने शनिवार को यहां एक बयान में कहा, कंपनी के बोर्ड ने रंगनाथ का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है. वह अपने पद पर 16 नवंबर तक बने रहेंगे. कंपनी बोर्ड अपने नए सीएफओ की तलाश करेगी. बताया जा रहा है कि रंगनाथ ने नए क्षेत्रों में अवसरों की तलाश के लिए इस्तीफा दिया है. कंपनी के सीईओ सलिल पारेख ने कहा कि वह पिछली कुछ तिमाहियों से कंपनी की स्ट्रैटजी को लेकर रंगनाथ के साथ मिलकर काम कर रहे थे.

18 साल तक कंपनी से जुड़े रहे

रंगनाथ ने एक बयान में कहा कि उन्होंने 10.9 अरब डॉलर वैल्यू ग्लोबल कंपनी (इंफोसिस) में 18 सालों से ज्यादा समय तक काम किया है. पिछले तीन तीन से वह कंपनी में सीएफओ के पद पर थे. उन्होंने कहा, “मैं इंफोसिस का सीएफओ के रूप में सेवा करने का अवसर देने के लिए आभारी हूं.”

6 साल में तीसरे CFO का इस्तीफा

रंगनाथ (55) पिछले छह सालों में कंपनी को छोड़कर जानेवाले तीसरे सीएफओ हैं. इससे पहले सीएफओ वी. बालाकृष्णन को प्रमोट कर कंपनी बोर्ड में शामिल कर लिया और कंपनी के बैक ऑफिस ऑपरेशन (इंफोसिस बीपीओ) का 2012 के अक्टूबर में प्रमुख बना दिया गया. बालाकृष्णन ने इसके बाद 2013 के दिसंबर में कंपनी छोड़ दी थी. बालाकृष्णन के बाद राजीव बंसल को 2012 के नवंबर में सीएफओ बनाया गया, लेकिन 2015 के अक्टूबर में उन्होंने कंपनी के को—फाउंडर्स और पिछले बोर्ड के साथ गवर्नेस के मुद्दे पर मतभेद के कारण इस्तीफा दे दिया था.

कंपनी की ग्रोथ में रंगनाथ का रहा अहम रोल: नीलेकणी

सीएफओ के योगदान पर कंपनी के सह-संस्थापक और निदेशक मंडल के अध्यक्ष नंदन नीलेकणी ने कहा कि रंगनाथ ने कंपनी के विकास और सफलता में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. नीलेकणी ने कहा, “अपने 18 साल के लंबे करियर में मैंने रंगनाथ को नेतृत्व की भूमिका में देखा, उन्होंने विशेष योग्यता के साथ परिणाम दिए.”

नारायणमूर्ति ने सेवरेंस-पे पर उठाए थे सवाल

इंफोसिस के को-फाउंडर्स एनआर नारायणमूर्ति ने बंसल को कंपनी छोड़ने पर दिए गए भारी मुआवजे का कड़ा विरोध किया था. बंसल कंपनी द्वारा अमेरिका की पानाया सॉफ्टवेयर कंपनी का 2015 के फरवरी में ‘बेहद महंगी’ दर पर किए गए अधिग्रहण के दौरान सीएफओ थे. उस समय कंपनी के गैर-प्रमोटर सीईओ मुख्य कार्यकारी विशाल सिक्का थे, जिन्होंने इस सौदे को लेकर हुए विवाद के बाद 2017 में 18 अगस्त को इस्तीफा दे दिया था. कंपनी की 37वीं सालाना रिपोर्ट के मुताबिक, रंगनाथ का सालाना पैकेज वित्त वर्ष 2017-18 के लिए 7.98 करोड़ रुपये था, जिसमें 7.03 करोड़ रुपये वेतन के रूप में और बाकी अन्य भत्तों के रूप में दिया गया.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. इंफोसिस के CFO एमडी रंगनाथ का इस्तीफा, 6 साल में कंपनी छोड़ने वाले तीसरे सीएफओ

Go to Top