मुख्य समाचार:
  1. अप्रैल—जून में चालू खाता घाटा बढ़कर 1.13 लाख करोड़ रु., अधिक व्यापार घाटे से लगा झटका: RBI

अप्रैल—जून में चालू खाता घाटा बढ़कर 1.13 लाख करोड़ रु., अधिक व्यापार घाटे से लगा झटका: RBI

2017—18 की समान तिमाही में था 1.07 लाख करोड़ रुपये.

September 7, 2018 7:22 PM
अप्रैल—जून में GDP का 2.4% रहा CAD. (Reuters) अप्रैल—जून में GDP का 2.4 फीसदी रहा CAD. (Reuters)

वित्त वर्ष 2018-19 की अप्रैल-जून तिमाही में भारत का चालू खाता घाटा (CAD) बढ़कर 1.13 लाख करोड़ रुपये हो गया. 2017-18 की समान तिमाही में यह 1.07 लाख करोड़ रुपये था. CAD में हुई इस बढ़ोत्तरी की वजह उच्च व्यापार घाटा रहा. यह बात रिजर्व बैंक RBI के शुक्रवार को जारी हुए आंकड़ों से सामने आई. ये आंकड़े भारत के बैलेंस आॅफ पेमेंट्स (BoP) में डेवलपमेंट को लेकर जारी किए गए.

आंकड़ों से यह भी सामने आया कि 2018-19 की अप्रैल-जून तिमाही में भारत का CAD GDP का 2.4 फीसदी रहा, जो पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में GDP का 2.5 फीसदी था.

2.1% बढ़ी नेट सर्विसेज आय

आंकड़ों के मुताबिक, साल दर साल आधार पर भारत की नेट सर्विसेज आय में अप्रैल-जून तिमाही में 2.1 फीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज की गई. इसकी वजह सॉफ्टवेयर और फाइनेंशियल सर्विसेज से आय का बढ़ना रहा. RBI ने कहा कि विदेश में काम कर रहे भारतीयों के रेमिटेंस को दर्शाने वाली प्राइवेट ट्रांसफर प्राप्ति अप्रैल-जून के दौरान 1.35 लाख करोड़ रुपये रही. यह आंकड़ा पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही के मुकाबले 16.9 फीसदी ज्यादा है.

FDI बढ़कर हुआ 69668 करोड़ रुपये

आंकड़ों से यह भी सामने आया कि 2018-19 की अप्रैल-जून तिमाही में देश में 69668 करोड़ रुपये का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) आया. वहीं 2017-18 की अप्रैल-जून तिमाही में 50994 करोड़ रुपये का FDI आया था.

पोर्टफोलियो इन्वेस्टमेंट में 58176 करोड़ रुपये का नेट आउटफ्लो

RBI के मुताबिक, अप्रैल-जून में पोर्टफोलियो इन्वेस्टमेंट में 58176 करोड़ रुपये का नेट आउटफ्लो दर्ज किया गया, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 89778 करोड़ रुपये का इनफ्लो दर्ज किया गया था. इसके पीछे डेट और इक्विटी मार्केट दोनों में हुई नेट सेल वजह रही.

नॉन-रेजिडेंट डिपॉजिट से हुई आय का आंकड़ा 25138 करोड़ रुपये

अप्रैल-जून में नॉन-रेजिडेंट डिपॉजिट के चलते हुई आय का आंकड़ा 25138 करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले की समान तिमाही में 8618 करोड़ रुपये था.

Go to Top