मुख्य समाचार:
  1. Good News: नए साल से शताब्दी-राजधानी ट्रेन में नहीं लगेंगे झटके, जानिए रेलवे का प्लान

Good News: नए साल से शताब्दी-राजधानी ट्रेन में नहीं लगेंगे झटके, जानिए रेलवे का प्लान

प्रीमियम सर्विसेज को अपग्रेड करने के प्लान के तहत इंडियन रेलवे इन ट्रेनों के कपलर्स को रिप्लेस करने की योजना बना रही है.

December 7, 2018 10:21 AM
Indian Railways passengers can now look forward to jerk-free smooth rides on Shatabdi and Rajdhani Express trains.अभी तक नॉर्दर्न रेलवेज के तहत सभी शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनों में यह अपग्रेडेशन हो चुका है. (Representational Image)

भारतीय रेलवे के यात्रियों को जल्द ही शताब्दी और राजधानी में सफर करते वक्त झटके नहीं लगेंगे. प्रीमियम सर्विसेज को अपग्रेड करने के प्लान के तहत इंडियन रेलवे इन ट्रेनों के कपलर्स को रिप्लेस करने की योजना बना रही है. अभी तक नॉर्दर्न रेलवेज के तहत सभी शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनों में यह अपग्रेडेशन हो चुका है.

फाइनेंशियल एक्सप्रेस आॅनलाइन को रेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि इस साल के आखिर तक समूचे रेल नेटवर्क की सभी शताब्दी एक्सप्रेस ट्रेनों में नए कपलर्स लगा दिए जाएंगे. वहीं राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों में यह काम जनवरी 2019 तक पूरा हो जाएगा.

महिला यात्रियों के लिए खुशखबरी, अब AC 3-टायर में मिलेंगी ज्यादा रिजर्व्ड सीटें

ऐसे मिलेगा झटके रहित सफर

कपलर ट्रेन के हर कोच को आपस में जोड़ता है. इस वक्त ट्रेनों में लगे कपलर्स काफी पुराने समय के हैं, इसलिए रेलवे सेंटर बफर कपलर (CBC) के नए वर्जन से इन्हें बदल रहा है. इसके चलते रेल का सफर ज्यादा आरामदायक बनेगा क्योंकि अधिकारी के मुताबिक, कपलिंग को रोलिंग स्टॉक से जोड़ने वाले इक्विपमेंट को ड्राफ्ट गियर कहते हैं. अब रेलवे बैलेंस्ड ड्राफ्ट गियर वाले सीबीसी का इस्तेमाल करने वाली है. इस नए ड्राफ्ट गियर में हाई कैपेसिटी शॉक एब्सॉर्बर है, जिसके चलते ट्रेनों में झटके नहीं लगेंगे और सफर ज्यादा आरामदायक बनेगा.

हर ट्रेन और रेलवे के एक-एक कदम पर रहेगी रेल मंत्री की नजर, आ रहा है नया सिस्टम

आॅपरेशन स्वार्न के तहत शताब्दी और राजधानी में हो रहा अपग्रेडेशन

इंडियन रेलवेज शताब्दी और राजधानी एक्सप्रेस ट्रेनों में अपग्रेडेशन आॅपरेशन स्वार्न के तहत कर रही है. इसके तहत हर रेक के अपग्रेडेशन पर 50 लाख रुपये खर्च किए जाने का टार्गेट है. इसका उद्देश्य ट्रेनों में मॉड्युलर टॉयलेट्स और ज्यादा साफ कोच जैसी और बेहतर सुविधाएं उपलब्ध कराना है.

(By: Smriti Jain)

Go to Top