सर्वाधिक पढ़ी गईं

रेलवे 100 रु कमाई के लिए 98.44 रु कर रही है खर्च, ऑपरेटिंग रेश्यो 10 साल में सबसे खराब: CAG

भारतीय रेल का ऑपरेटिंग रेश्यो वित्त वर्ष 2017-18 में 98.44 फीसदी दर्ज किया गया जो पिछले 10 साल में सबसे खराब है.

Updated: Dec 02, 2019 5:35 PM
Indian Railways operating profit worst in last 10 years, CAG report on railways operating profit, railways income, railways revenue, भारतीय रेल का ऑपरेटिंग रेश्योभारतीय रेल का ऑपरेटिंग रेश्यो (OR) वित्त वर्ष 2017-18 में 98.44 फीसदी दर्ज किया गया जो पिछले 10 साल में सबसे खराब है.

Indian Railways Operating Ratio: भारतीय रेल का ऑपरेटिंग रेश्यो (OR) वित्त वर्ष 2017-18 में 98.44 फीसदी दर्ज किया गया जो पिछले 10 साल में सबसे खराब है. नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) की रिपोर्ट से बात सामने आई है. रेलवे में इस ऑपरेटिंग रेश्यो का मतलब यह है कि रेलवे ने 100 रुपये कमाने के लिये 98.44 रुपये खर्च किए. इस रेश्यो से यह भी देखा जाता है कि रेलवे की फाइनें​शियल स्थिति कैसी है. फिलहाल रेलवे के ऑपरेटिंग रेश्यो का डाटा निराश करने वाला रहा है.

रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय रेल का ऑपरेटिंग रेश्यो वित्त वर्ष 2017-18 में 98.44 फीसदी रहने का मुख्य कारण पिछले वर्ष 7.63 फीसदी संचालन व्यय की तुलना में उच्च वृद्धि दर का 10.29 फीसदी होना है. बता दें कि वित्त वर्ष 2016-17 में रेलवे का ऑपरेटिंग रेश्यो 96.50 फीसदी था. कैग की रिपोर्ट में सिफारिश की गई है कि रेलवे को आंतरिक राजस्व बढ़ाने के लिए उपाय करने चाहिए.

किस साल कितना ऑपरेटिंग रेश्यो

रिपोर्ट में बताया गया है कि वित्त वर्ष 2008-09 में रेलवे का ऑपरेटिंग रेश्यो 90.48 फीसदी था, जो 2009-10 में 95.28 फीसदी, 2010-11 में 94.59 फीसदी, 2011-12 में 94.85 फीसदी, 2012-13 में 90.19 फीसदी, 2013-14 में 93.6 फीसदी, 2014-15 में 91.25 फीसदी, 2015-16 में 90.49 फीसदी, 2016-17 में 96.5 फीसदी और 2017-18 में 98.44 फीसदी दर्ज किया गया.

आंतरिक राजस्व बढ़ाने के लिए हो उपाय

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक की रिपोर्ट में सिफारिश की गई है कि रेलवे को अपना आंतरिक राजस्व बढ़ाने के लिए उपाय करने चाहिए ताकि सकल और अतिरिक्त बजटीय संसाधनों पर निर्भरता रोकी जा सके. रिपोर्ट में सिफारिश की गई है कि चालू वित्त वर्ष के दौरान रेल द्वारा वहन किए गए पूंजीगत व्यय में कटौती हुई है. रेलवे पिछले दो साल में आईबीआर-आईएफ के तहत जुटाए गए धन को खर्च नहीं कर सका. रिपोर्ट में कहा गया है कि रेलवे बाजार से प्राप्त निधियों का पूर्ण रूप से उपयोग करना सुनिश्चित करे.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. रेलवे 100 रु कमाई के लिए 98.44 रु कर रही है खर्च, ऑपरेटिंग रेश्यो 10 साल में सबसे खराब: CAG

Go to Top