मुख्य समाचार:

भारत में नहीं दौड़ेगी चीनी ट्रेन 18, भारतीय रेलवे वंदे भारत एक्सप्रेस के लिए बोली को कर सकता है रद्द

पीयूष गोयल की अगुवाई वाला रेलवे मंत्रालय 44 सेमी हाई स्पीड ट्रेनों के प्रोजेक्ट के लिए चीनी ज्वॉइंट कंपनी की बोली को रद्द कर सकता है.

Updated: Jul 11, 2020 5:15 PM
indian railways expected to cancel chinese company bid for vande bharat expressपीयूष गोयल की अगुवाई वाला रेलवे मंत्रालय 44 सेमी हाई स्पीड ट्रेनों के प्रोजेक्ट के लिए चीनी ज्वॉइंट कंपनी की बोली को रद्द कर सकती है.

पीयूष गोयल की अगुवाई वाला रेलवे मंत्रालय 44 सेमी हाई स्पीड ट्रेनों के प्रोजेक्ट के लिए चीनी ज्वॉइंट कंपनी की बोली को रद्द कर सकता है. फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन को इसकी जानकारी मिली है. चीनी सरकार के स्वामित्व वाली CRRC कॉरपोरेशन टेंडर में बोली लगाने वाली एकमात्र विदेशी कंपनी है. टेंडर को चेन्नई की इंटिगरल कोच फैक्ट्री (ICF) ने जारी किया है. कुल मिलाकर छह प्रतिद्वंद्वी है जिसमें भारत हेवी इलेक्ट्रॉनिक्स, इलेक्ट्रोवेव्स इलेक्ट्रॉनिक, मुंबई में पावरनैटिक्स इक्विपमेंट्स और हैदराबाद का मेधा ग्रुप शामिल है.

मेक इन इंडिया पॉलिसी के तहत किए जाने की उम्मीद

सूत्रों ने फाइनेंशियल एक्सप्रेस ऑनलाइन को बताया कि चीन की CRRC द्वारा लगाई गई बोली को डिपार्टमेंट ऑफ इंडस्ट्रीयल एंड प्रमोशन की मेक इन इंडिया पॉलिसी में मौजूद एक क्लॉज के आधार पर रद्द किए जाने की उम्मीद है. 2017 के ऑर्डर में दिए क्लॉज के मुताबिक, अगर कोई नोडल मंत्रालय इस बात को लेकर संतुष्ट है कि चीज के भारतीय सप्लायर को किसी विदेशी सरकार द्वारा खरीद में भाग लेने या मुकाबला करने के लिए मंजूरी नहीं दी जा रही है, तो वह उपयुक्त लगने पर उस देश के बोली लगाने वालों पर उस आइटम या उस नोडल मंत्रालय सं संबंधित दूसरी आइटम को लेकर प्रतिबंध या उन्हें बाहर कर सकता है.

पॉलिसी के मुताबिक, बोली लगाने वाले को एक देश से होने को कुछ मानदंडों के आधार पर माना जाता है जिसमें से एक है कि इकाई की शेयरहोल्डिंग या प्रभावी कंट्रोल को उस देश से चलाया जा रहा है. कंपनी की वेबसाइट के मुताबिक, CRRC Pioneer Electric (India), CRRC Corporation और गुरुग्राम में आधारित कंपनी का संयुक्त उद्यम है.

RBI गर्वनर शक्तिकांत दास ने कहा- कोरोना वायरस पिछले 100 सालों में सबसे बड़ा आर्थिक संकट

44 वंदे भारत ट्रेनों के लिए टेंडर

चीनी सरकार के स्वामित्व वाली कंपनी CRRC कॉरपोरेशन इस टेंडर में खरीदारी के लिए बड़ी प्रतिद्वंद्वी उभरी थी. 44 वंदे भारत ट्रेनों के लिए टेंडर को पिछले साल 100 करोड़ रुपये की लागत के साथ लॉन्च किया गया था और 35 करोड़ रुपये का संचालन शक्ति के कंपोनेंट के लिए थे. प्रोजेक्ट के लिए मौजूदा टेंडर को पिछले साल 22 दिसंबर को जारी किया गया था और यह शुक्रवार को खुला था. यहल तीसरा ऐसा टेंडर है, जिसे मेक इन इंडिया ट्रेनों के लिए जारी किया गया था.

(Story: Smriti Jain and Devanjana Nag)

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. भारत में नहीं दौड़ेगी चीनी ट्रेन 18, भारतीय रेलवे वंदे भारत एक्सप्रेस के लिए बोली को कर सकता है रद्द

Go to Top