सर्वाधिक पढ़ी गईं

कोरोना संकट में IOC, BPCL और HPCL का बड़ा एलान, LPG डिस्ट्रीब्यूटर ​कर्मियों को कुछ हुआ तो देंगी 5 लाख

वायरस संक्रमण के कारण अगर कर्मचारी का निधन होता है तो उसके परिजनों को 5 लाख रुपये की अनुग्रह राशि मिलेगी.

Updated: Mar 30, 2020 11:50 PM
Indian oil announces five lakh compensation for employees in corona causalityIOC सर्कुलर में कहा गया है कि पति/पत्नी के नहीं रहने पर यह राशि निकट परिजन को दी जाएगी.

सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) ने कहा है कि LPG वितरक कर्मचारियों में से किसी भी सदस्य का कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अगर निधन होता है तो उसके परिजनों को 5 लाख रुपये की अनुग्रह राशि मिलेगी. कंपनी के सर्कुलर के अनुसार, ‘‘कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए यह निर्णय किया गया है कि वितरण क्षेत्र से जुड़े किसी कर्मचारी की कारोना वायरस संक्रमण के कारण मौत होती है तो उसके पति/पत्नी को पांच लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी.’’

कंपनी के कार्यकारी निदेशक सुनील माथुर (LPG डिस्ट्रिब्यूटर एवं मार्केटिंग हेड) की तरफ से जारी सर्कुलर में कहा गया है कि पति/पत्नी के नहीं रहने पर यह राशि निकट परिजन को दी जाएगी.

क्या कहता है IOC का सर्कुलर?

IOC के सर्कुलर के अनुसार, ‘‘कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए यह निर्णय किया गया है कि वितरण क्षेत्र से जुड़े किसी कर्मचारी की कारोना वायरस संक्रमण के कारण मौत होती है तो उसके पति/पत्नी को पांच लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी.’’ कंपनी के कार्यकारी निदेशक सुनील माथुर (LPG डिस्ट्रिब्यूटर एवं मार्केटिंग हेड) की तरफ से जारी सर्कुलर में कहा गया है कि पति/पत्नी के नहीं रहने पर यह राशि निकट परिजन को दी जाएगी.

कंपनी के 28 मार्च को जारी सर्कुलर में कोरोना वायरस संक्रमण से जोखिम को लेकर एलपीजी वितरण से जुड़े कर्मियों को गैस सिलेंडर और स्टोव शो-रूम में काम करने वाले कर्मचारियों, गोदाम में काम करने वाले, मिस्त्री (मैकेनिक) और डिलिवरी कर्मी की श्रेणी में रखा गया है. ये वे कर्मी है जिन्हें संकट के समय में अपना काम करते रहना है ताकि देश भर में इंडेन ग्राहकों के लिये एलपीजी सिलेंडर की आपूर्ति बनी रहे.

कोरोना से जंग: मार्क जुकरबर्ग और उनकी पत्नी भी आए आगे, दवा तलाशने में देंगे 2.5 करोड़ डॉलर की मदद

धर्मेन्द्र प्रधान ने किया स्वागत

पेट्रोलियम कंपनियों के इस फैसले का पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने स्वागत किया है. उन्होंने ट्वीट के माध्यम से कहा, ‘इंडियन ऑयल, बीपीसीएल और एचपीसीएल द्वारा उठाए गए मानवीय निर्णय का स्वागत करते हैं. ऐसे समय में उठाया गया यह हमारे कर्मियों द्वारा प्रदान की गई सेवाओं की एक मान्यता है. हमारे कार्मिकों का कल्याण सर्वोपरि है. यह करुणामयी कदम हमारे कार्यबल के सुरक्षा जाल को मजबूत करेगा जिससे भारत की कोरोना के खिलाफ लड़ाई का समर्थन होगा.’

पेट्रोल, डीजल और रसोई गैस का पर्याप्त भंडार

आईओसी के चेयरमैन संजीव सिंह ने कहा है कि भारत में पेट्रोल डीजल और रसोई गैस का पर्याप्त भंडार है और लोगों को गैस की कमी की डर से गैस सिलेंडर की बुकिंग बढ़ा कर आपूर्ति प्रणाली पर अनावश्यक दबाव नहीं पैदा करना चाहिए. सिंह ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण आवागमन पर तीन सप्ताह की देश्व्यापी ‘लॉकडाउन’ (बंद) में लोगों की जरूरत की पूर्ति के लिए ईंधन का पर्याप्त भंडार है. इंडियन आयल इस समय अन्य कंपनियों के साथ मिल कर देश में ईंधन की जरूरतों के प्रबंध के व्यापक अभियान में लगी है.

पेट्रोल-डीजल की मांग घटी, रसोई गैस की बढ़ी

कोरोना वायरस के कारण आवाजाही पर देशव्यापी पाबंदी के चलते वहनों और विमानों आदि का परिचालन प्रभावित होने से डीजल पेट्रोल और विमान ईंधन की मांग घट गई है. मार्च में पेट्रोल की मांग 8% और डीजल की मांग 16% घट गई है. इसी तरह विमान ईंधन की मांग में भी 20% की गिरावट दर्ज की गई है. इस दौरान हालांकि रसोई गैस सिलेंडर की मांग में उछाल जरूर आया है लेकिन हम अपने सभी ग्राहकों की मांग पूरी कर रहे हैं. कोरोना बंदी की घोषणा के बाद रसोई गैस रिफिल सिलेंडर की मांग 200% से भी अधिक उछल गई है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कोरोना संकट में IOC, BPCL और HPCL का बड़ा एलान, LPG डिस्ट्रीब्यूटर ​कर्मियों को कुछ हुआ तो देंगी 5 लाख

Go to Top