सर्वाधिक पढ़ी गईं

वित्त वर्ष 2021-22 में 8.3% रह सकती है भारत की GDP ग्रोथ, दूसरी लहर से रिकवरी में बाधा: World Bank

विश्व बैंक ने भारत की अर्थव्यवस्था में 2021-22 में 8.3 फीसदी और 2022-23 में 7.5 फीसदी की वृद्धि का अनुमान लगाया है.

Updated: Jun 08, 2021 10:27 PM
indian GDP projected at 8.3 percent in 2021 and 7.5 percent in 2022 by world bankविश्व बैंक ने भारत की अर्थव्यवस्था में 2021 में 8.3 फीसदी और 2022 में 7.5 फीसदी की वृद्धि का अनुमान लगाया है.

विश्व बैंक ने मंगलवार को भारत की अर्थव्यवस्था में 2021-22 के दौरान 8.3 फीसदी और 2022-23 में 7.5 फीसदी की वृद्धि का अनुमान लगाया है. वर्ल्ड बैंक ने यह अनुमान कोविड-19 की अप्रत्याशित दूसरी लहर से रिकवरी में बाधा आने के बाद जताया है. वॉशिंगटन में आधारित वैश्विक कर्जदाता ने अपने ग्लोबल इकोनॉमिक प्रोसपेक्टस को जारी करते हुए कहा कि भारत में कोरोना वायरस की भीषण दूसरी लहर वित्त वर्ष 2021-22 के दूसरे भाग में उम्मीद से ज्यादा तेज रिकवरी को रोक रही है, खासकर सेवाओं में.

इसमें यह बात ध्यान देने वाली है कि 8.3 फीसदी की वृद्धि दर 2020-21 में 7.3 फीसदी की गिरावट के बाद आने की उम्मीद है. यानी 2021-22 के अंत में देश की जीडीपी 2019-20 के मुकाबले बमुश्किल एक फीसदी ज्यादा होगी. जिसका मतलब दो साल में एक फीसदी की ग्रोथ होना है. इससे पहले वित्त वर्ष 2019-20 में यानी कोरोना संकट से पहले भी देश की जीडीपी ग्रोथ रेट महज 4 फीसदी ही थी.

वैश्विक अर्थव्यवस्था 5.6% की दर से बढ़ने का अनुमान : World Bank

विश्व बैंक ने कहा कि भारत की रिकवरी में महामारी की शुरुआत के बाद से किसी भी देश में सबसे बड़े प्रकोप से रूकावट आ रही है. उसने कहा कि 2020-21 में भारत की अर्थव्यवस्था में 7.3 फीसदी की गिरावट, जबकि 2019-20 में चार फीसदी की वृद्धि दर दर्ज की गई थी. इसके साथ उसने कहा कि 2023-24 में इसके 6.5 फीसदी की दर से विकास करने की उम्मीद है.

बैंक ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था 2021-22 में 5.6 फीसदी की दर से बढ़ेगी, जो 80 सालों में मंदी के बाद की सबसे तेज रफ्तार है. उसने कहा कि भारत के लिए अप्रैल 2021 से शुरू हो रहे वित्त वर्ष 2021-22 में जीडीपी के 8.3 फीसदी की दर से बढ़ने की उम्मीद है. इसमें कहा गया है कि सरकार के वित्तीय समर्थन से रिकवरी में मदद मिलेगी. इसमें इंफ्रास्ट्रक्चर, ग्रामीण विकास और स्वास्थ्य पर ज्यादा खर्च और सेवाओं और मैन्युफैक्चरिंग में उम्मीद से ज्यादा तेज रिकवरी शामिल है.

कोविशील्ड की दूसरी डोज सिर्फ 28 दिन बाद लगवाकर जा सकते हैं विदेश, लेकिन को-विन सर्टिफिकेट को पासपोर्ट से कराना होगा लिंक

रिपोर्ट में कहा गया है कि हालांकि, अनुमान में 2.9 फीसदी अंकों का बदलाव किया गया है, यह कोविड-19 की भीषण दूसरी लहर और मार्च 2021 के बाद से स्थानीय प्रतिबंधों से बड़े आर्थिक नुकसान को दिखाता है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. वित्त वर्ष 2021-22 में 8.3% रह सकती है भारत की GDP ग्रोथ, दूसरी लहर से रिकवरी में बाधा: World Bank

Go to Top