सर्वाधिक पढ़ी गईं

भारत ने चीन के साथ समझौते में नहीं दी कोई जमीन, LAC के पालन पर दिया जोर: विदेश मंत्रालय

भारत ने गुरुवार को कहा कि उसने चीन के साथ पीछे हटने (disengagement) के समझौते के तहत किसी भूमि को नहीं दिया है.

February 25, 2021 9:17 PM
india said that No territory conceded under disengagement agreement with chinaभारत ने गुरुवार को कहा कि उसने चीन के साथ पीछे हटने (disengagement) के समझौते के तहत किसी भूमि को नहीं दिया है. (Representational Image)

भारत ने गुरुवार को कहा कि उसने चीन के साथ पीछे हटने (disengagement) के समझौते के तहत किसी भूमि को नहीं दिया है. और इसके साथ जोर दिया है कि लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) के पालन पर ध्यान दिया जाए, जिससे यथास्थिति में कोई एकतरफ से बदलाव नहीं हो. ऑनलाइन ब्रीफिंग में, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता (MEA) अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि LAC पर भारत की स्थिति पर कोई बदलाव नहीं हुआ है और पीछे हटने की प्रक्रिया को गलत तरीके से नहीं पेश नहीं जाना चाहिए.

लद्दाख के Pangong झील इलाके में पीछे हटने के हाल ही में हुए समझौते पर पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि तथ्य के आधार पर स्थिति को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अच्छी तरीके से सूचित कर दिया है. और रक्षा मंत्रालय के बयान का लक्ष्य बात को सीधे तौर पर रखना था, जो मीडिया में आने वाले गलत प्रतिक्रियाओं को देखते हुए किया गया था.

पिछले हफ्ते, दोनों देशों की सेनाएं जिनके बीच पूर्वी लद्दाख में टकराव चल रहा था, उन्होंने सेना की टुकड़ियों और हथियारों को Pangong Tso के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से वापस हटाना पूरा किया था. हालांकि, कुछ मामले अभी भी बने हुए हैं. बातचीत के दौरान, भारत के होट स्प्रिंग्स, गोगरा और Depsang जैसे इलाकों में तेज पीछे हटने पर जोर देने की खबरें आई थी, जिससे क्षेत्र में तनाव कम किया जा सके.

पिछले साल मई से गतिरोध जारी

चीन और भारत की सेनाएं पिछले साल मई से तनाव गतिरोध में हैं. दोनों देशों ने इस गतिरोध का समाधान करने के लिए कई दौर की सैन्य और राजनियक स्तर की बातचीत की है.

24 जनवरी को Moldo-Chushul बॉर्डर मीटिंग प्वॉइंट की चीनी तरफ पर चीन-भारत सेना कमांडर स्तर की बैठक का नौवां दौर हुआ था.

पेट्रोल-डीजल के बाद LPG सिलेंडर की महंगाई भी भड़की, 1 माह में 100 रुपये बढ़ गए दाम

बता दें कि पिछले साल 15 जून में लद्दाख के गलवान घाटी में भारत और चीन की सेना के बीच हिंसक झड़प हुई. इसमें भारत के 20 जवानों के शहीद हुए थे. कई घायल भी हुए. चीन के सैनिकों द्वारा यह हमला पत्थरों, लाठियों और धारदार हथियारों से किया गया. ​इस झगड़े की शुरुआत चीन की तरफ से हुई, जब बातचीत के बाद उसे पीछे हटाया जा रहा था. भारतीय सेना के ऑफिसर टीम के साथ गलवान वैली में पीपी-14 पहुंचे, जहां से चीनी सैनिकों को पीछे हटना था.

उस दौरान चीनी सैनिकों की तादाद बहुत कम थी. लेकिन अचानक से ही वहां बड़ी संख्या में चीनी सैनिक आ गए. भारतीय अफसर और उनके 2 जवानों पर पत्थरों और लोहे की रॉड से हमला किया गसा. उसके बाद भारी संख्या में भारतीय सैनिक भी उस प्वॉइंट पर पहुंचे और आधी रात तक हिंसक झड़प चलती रही.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. भारत ने चीन के साथ समझौते में नहीं दी कोई जमीन, LAC के पालन पर दिया जोर: विदेश मंत्रालय

Go to Top