मुख्य समाचार:
  1. इंडिया मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर ग्रोथ 3 महीने में सबसे ज्यादा, इंडेक्स 52.7 के स्तर पर पहुंचा

इंडिया मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर ग्रोथ 3 महीने में सबसे ज्यादा, इंडेक्स 52.7 के स्तर पर पहुंचा

देश में मैन्युफैक्चरिंग गतिविधियों की रफ्तार बढ़ी

June 3, 2019 1:11 PM
Manufacturing PMI, India Manufacturing, मैन्युफैक्चरिंग, Production, Employment, Manufacturing Index, Demand, Consumptionदेश में मैन्युफैक्चरिंग गतिविधियों की रफ्तार बढ़ी

मांग में बढ़ोत्तरी और कंपनियों के उत्पादन बढ़ाने से देश में मैन्युफैक्चरिंग की रफ्तार बढ़ी है. इंडिया मैन्युफैक्चरिंग ग्रोथ मई में पिछले 3 महीने में सबसे ज्यादा रही है. इससे मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में रोजगार भी बढ़े हैं. सोमवार को जारी एक मंथली सर्वे में यह बात सामने आई है. सर्वे में यह भी कहा गया है कि आने वाले दिनों में इस सेक्टर में ग्रोथ और बढ़ने की उम्मीद है.

3 महीने में सबसे ज्यादा ग्रोथ

निक्की इंडिया मैन्युफैक्चरिंग परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (पीएमआई) मई में बढ़ोत्तरी के साथ 52.7 अंक पर आ गया, जो अप्रैल में 51.8 अंक पर था. यह पिछले तीन महीने में इस क्षेत्र में सबसे बेहतर ग्रोथ को दर्शाता है. यह लगातार 22वां महीना है जब मैन्युफैक्चरिंग पीएमआई इंडेक्स 50 अंक से ऊपर रहा है. पीएमआई का 50 अंक से ऊपर रहना मैन्युफैक्चरिंग गतिविधियों में विस्तार और 50 अंक से नीचे रहना उसमें गिरावट को दर्शाता है.

क्यों बढ़ीं मैन्युफैक्चरिंग गतिविधियां

आईएचएस मार्केट की प्रमुख अर्थशास्त्री और इस सर्वेक्षण रिपोर्ट की लेखिका पॉलियाना डि लीमा ने कहा कि मांग बढ़ने के साथ मई में खाली हुई इन्वेंट्री को फिर से भरने के लिए भारतीय कंपनियों ने उत्पादन में बढ़ोत्तरी की है. इससे मैन्युफैक्चरिंग गतिविधियां बढ़ी हैं. सर्वेक्षण के मुताबिक सामानों के उत्पादकों की धारणा मजबूत होने, नए ऑर्डर में ठोस बढ़ोत्तरी के दम पर क्षेत्र में रोजगार बढ़े हैं. सर्वे में कहा गया है कि अप्रैल, 2018 में नौकरियों में लगातार इजाफा दर्ज किया गया है. फरवरी के बाद यह बढ़ोत्तरी सबसे अधिक है.

ओवरसीज डिमांड भी बढ़ी

रिपोर्ट के अनुसार कास्ट में किसी भी तरह की खास बढ़ोत्तरी से एक फायदा यह हुआ कि उत्पादकों को अपने प्रोडक्ट की कीमतों को कॉम्पिटीटिव रखने का मौका मिला. इस वजह से न सिर्फ डोमेस्टिक मार्केट में उनकी सेल्स बेहतर रही, बल्कि दूसरे देशों में भी डिमांड बढ़ी है. जबकि इनपुट कास्ट में मई में तेजी देखी गई, मैन्युफैक्चरर्स ने उसका दबाव ग्राहकों पर पास आन नहीं किया. वहीं, दिसंबर के बाद पहली बार कीमतों में कमी की गई.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop