मुख्य समाचार:

कोरोना इंपैक्ट: 1991 के बाद सबसे खराब रहेगा भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन, FY21 में 1.5-2.8% के बीच रहेगी ग्रोथ रेट

विश्व बैंक ने कहा है कि कोरोना वायरस महामारी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को जबर्दस्त झटका दिया है.

April 12, 2020 4:14 PM
India is likely to record its worst growth performance since the 1991 liberalisation this fiscal year as the coronavirus outbreak severely disrupts the economy, the World Bank saidImage: Reuters

विश्व बैंक (World Bank) ने कहा है कि कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को जबर्दस्त झटका दिया है. इससे देश की अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन 1991 के उदारीकरण के बाद सबसे खराब रहेगा. विश्व बैंक ने रविवार को ‘दक्षिण एशिया की अर्थव्यवस्था पर केंद्रित रिपोर्ट में कहा कि 2020-21 में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर घटकर 1.5 से 2.8 फीसदी के बीच रहेगी.

रिपोर्ट में कहा है कि 2019-20 में भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर 4.8 से 5 फीसदी के बीच रहेगी. कोविड-19 का झटका ऐसे समय लगा है जबकि वित्तीय क्षेत्र पर दबाव की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था में पहले से सुस्ती में है. इस महामारी पर अंकुश के लिए सरकार ने देशव्यापी पाबंदी लागू की है. इससे लोगों की आवाजाही रुक गई है और वस्तुओं की आपूर्ति प्रभावित हुई है.

घरेलू निवेश में सुधार में भी देरी

रिपोर्ट में कहा गया है कि कोविड-19 की वजह से घरेलू आपूर्ति और मांग प्रभावित होने के चलते 2020-21 में आर्थिक वृद्धि दर घटकर 1.5 से 2.8 फीसदी रह जाएगी. वैश्विक स्तर पर जोखिम बढ़ने के चलते घरेलू निवेश में सुधार में भी देरी होगी. रिपोर्ट कहती है कि अगले वित्त वर्ष यानी 2021-22 में कोविड-19 का प्रभाव समाप्त होने के बाद अर्थव्यवस्था पांच फीसदी की वृद्धि दर्ज कर सकेगी. हालांकि, इसके लिए अर्थव्यवस्था को वित्तीय और मौद्रिक नीति के समर्थन की जरूरत होगी.

लॉकडाउन के चलते नहीं भर पाए मार्च, अप्रैल का LIC प्रीमियम, न हों परेशान; कंपनी ने दिए 30 दिन एक्स्ट्रा

क्या कदम उठाने होंगे भारत को

विश्व बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री हैंस टिमर ने कहा कि भारत का परिदृश्य अच्छा नहीं है. यदि भारत में लॉकडाउन अधिक समय तक जारी रहता है तो यहां आर्थिक परिणाम विश्व बैंक के अनुमान से अधिक बुरे हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि इस चुनौती से निपटने के लिए भारत को सबसे पहले इस महामारी को और फैलने से रोकना होगा और यह भी सुनिश्चित करना होगा कि सभी को भोजन मिल सके. टिमर ने कहा कि इसके अलावा भारत को विशेष रूप से स्थानीय स्तर पर अस्थायी रोजगार कार्यक्रमों पर ध्यान केंद्रित करना होगा. एक सवाल के जवाब में टिमर ने कहा कि इसके साथ ही भारत को लघु एवं मझोले उपक्रमों को दिवालिया होने से बचाना होगा.

अन्य एजेंसियां भी घटा चुकी हैं अनुमान

विश्व बैंक ने भी अन्य वैश्विक एजेंसियों के साथ सुर में सुर मिलाते हुए कोविड-19 के मद्देनजर वृद्धि दर का अनुमान घटाया है. एशियाई विकास बैंक (एडीबी) ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की वृद्धि दर का अनुमान घटाकर चार फीसदी किया है. एसएंडपी ग्लोबल रेटिंग्स ने भी वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर 3.5 फीसदी कर दिया है. फिच रेटिंग्स ने चालू वित्त वर्ष में भारत की वृद्धि दर दो फीसदी रहने का अनुमान लगाया है. इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की वृद्धि दर के अनुमान को घटाकर 5.5 से 3.6 फीसदी कर दिया है. मूडीज इन्वेस्टर सर्विसेज ने 2020 के कैलंडर वर्ष में भारत की वृद्धि दर 2.5 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है. पहले उसने इसके 5.3 फीसदी रहने का अनुमान लगाया था.

विश्व बैंक की रविवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि दक्षिण एशिया के आठ देशों की वृद्धि दर इस साल 1.8 से 2.8 फीसदी के बीच रहेगी. छह महीने पहले उसने इसके 6.3 फीसदी रहने का अनुमान लगाया था.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कोरोना इंपैक्ट: 1991 के बाद सबसे खराब रहेगा भारतीय अर्थव्यवस्था का प्रदर्शन, FY21 में 1.5-2.8% के बीच रहेगी ग्रोथ रेट

Go to Top