मुख्य समाचार:

वर्ल्ड बैंक ने माना- अपने दम पर भारत ने पकड़ी रफ्तार, लेकिन यहां हो गई चूक

वर्ल्ड बैंक ने कहा कि दक्षिण एशियाई देशों को चीन से सीखने की जरूरत है. चीन दक्षिण एशिया के लिए ‘बड़ा अवसर’ पैदा करने वाला है.

April 8, 2019 3:51 PM
India's economic growth, India GDP, India domestic demand, WB, Hans Timmer, World Bank Chief Economist for the South Asia Region, current account deficit, india export, india GDP ratio, भारत की आर्थिक विकास दर, जीडीपी, निर्यात, भारत का निर्यातवर्ल्ड बैंक ने कहा कि दक्षिण एशियाई देशों को चीन से सीखने की जरूरत है. चीन दक्षिण एशिया के लिए ‘बड़ा अवसर’ पैदा करने वाला है.

India GDP: हाल के वर्षों में घरेलू मांग के चलते भारत की आर्थिक वृद्धि ‘बहुत अधिक’ रही. इस दौरान, भारत निर्यात के मोर्चे पर थोड़ा कमजोर रहा और उसने अपनी क्षमता का सिर्फ एक तिहाई निर्यात किया. वर्ल्ड बैंक के एक अधिकारी ने यह बात कही. अधिकारी ने जोर दिया कि अगली सरकार को निर्यात आधारित वृद्धि पर ध्यान देने की जरूरत है.

वर्ल्ड बैंक के दक्षिण एशिया क्षेत्र के लिए मुख्य अर्थशास्त्री हंस टिमर ने भारत के अंदर बाजारों को उदार बनाने के लिए किए प्रयासों की प्रशंसा करते हुए कहा कि बाजारों को और ज्यादा प्रतिस्पर्धी बनाने की आवश्यकता है.

टिमर ने से बातचीत में कहा, “पिछले कुछ सालों में आपने देखा कि चालू खाते का घाटा बढ़ा है. यह संकेत देता है कि गैर-कारोबारी क्षेत्र यानी घरेलू क्षेत्र में तेजी से वृद्धि हुई है. इसने निर्यात और मुश्किल बनाया है.” उन्होंने कहा कि पिछले पांच साल में भारत की वृद्धि ‘काफी हद तक’ घरेलू मांग पर आधारित रही. जिसके चलते निर्यात में दहाई अंक में तेजी आई और निर्यात में 4 से 5 प्रतिशत की वृद्धि हुई.

ये भी पढ़ें…facebook और इंस्टाग्राम पर दिखाई अमीरी तो पड़ सकती है IT की रेड, पढ़ें डिटेल

टिमर ने कहा कि हाल की महीनों में चीजें कुछ हद तक बदली हैं लेकिन अगर आप व्यापक स्तर पर देखें तो चीजें नकारात्मक ही रही हैं. वर्ल्ड बैंक के अधिकारी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि अगली सरकार का ध्यान घरेलू मांग में तेजी को कम करने पर होना चाहिए.

टिमर ने कहा , “देश को निर्यात आधारित वृद्धि पर ध्यान देना चाहिए क्योंकि यही वह जगह है जहां आप अंतरराष्ट्रीय बाजारों में प्रतिस्पर्धा करते हुए उत्पादकता को बढ़ा सकते हैं. आप प्रतिद्वंद्वियों और विदेशी ग्राहकों के साथ बातचीत करके जानकारी बढ़ा सकते हैं.”

GDP का सिर्फ 10% निर्यात करता है भारत

उन्होंने कहा, “भारत अपनी सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का सिर्फ 10 फीसदी निर्यात करता है. उन्हें जीडीपी के 30 फीसदी तक निर्यात करना चाहिए. भारत एक बड़ा देश है, आमतौर एक बड़ा देश जीडीपी प्रतिशत के हिसाब से उतना निर्यात नहीं करता है जितना छोटे देश करते हैं. छोटे देश के बाजार ज्यादा खुले होते हैं.” उनके मुताबिक, भारत और पाकिस्तान के बीच टकराव क्षेत्र में व्यापार और आर्थिक वृद्धि के लिए दिक्कतें खड़ी करेगा.

एशियाई देशों को चीन से सीखने की जरूरत

टिमर ने दक्षिण एशिया पर वर्ल्ड बैंक की ताजी रिपोर्ट पर कहा कि दक्षिण एशियाई देश के आर्थिक प्रदर्शन में कमजोरी की वजह अपनी ही अर्थव्यवस्था के बुनियादी मुद्दों से जूझना है. ये उन्हें अधिक निर्यात आधारित देश बनाने से रोकता है.

अधिकारी ने दक्षिण एशियाई देशों को व्यापार का उदारीकरण, श्रम बाजार को लचीला बनाने, औपचारिक और अनौपचारिक अर्थव्यस्था के बीच बड़ी-बड़ी समस्याओं को दूर करने की कोशिश करने जैसे कदम उठाने का सुझाव दिया है. उन्होंने कहा कि दक्षिण एशियाई देशों को चीन से सीखने की जरूरत है. चीन दक्षिण एशिया के लिए ‘बड़ा अवसर’ पैदा करने वाला है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. वर्ल्ड बैंक ने माना- अपने दम पर भारत ने पकड़ी रफ्तार, लेकिन यहां हो गई चूक

Go to Top