मुख्य समाचार:
  1. 2018 में भारत को ADB से मिला सबसे ज्यादा कर्ज, इस साल भी इतनी ही मदद की उम्मीद

2018 में भारत को ADB से मिला सबसे ज्यादा कर्ज, इस साल भी इतनी ही मदद की उम्मीद

एशियाई विकास बैंक (ADB) से कर्ज लेने वालों में भारत का स्थान अग्रणी रहा है.

May 2, 2019 6:46 PM
India biggest recipient of funds from ADB last year यह 1986 में देश में सॉवरेन परिचालन शुरू किए जाने के बाद सहायता का सबसे ऊंचा स्तर है. (AFP)

एशियाई विकास बैंक (ADB) से कर्ज लेने वालों में भारत का स्थान अग्रणी रहा है. वर्ष 2018 में एडीबी से भारत को तीन अरब डॉलर का कर्ज मिला और इस साल भी सरकार के स्तर पर इतना ही कर्ज एडीबी से मिलने की उम्मीद है.

ADB के अध्यक्ष ताकेहिको नकाओ का कहना है कि 2019 में भी भारत को ADB से तीन अरब डॉलर से अधिक का कर्ज मिलेगा. 2018 में भी एडीबी से भारत को सरकारी स्तर पर तीन अरब डॉलर का कर्ज दिया गया था. यह 1986 में देश में सॉवरेन परिचालन शुरू किए जाने के बाद सहायता का सबसे ऊंचा स्तर है. बैंक की 52वीं सालाना बैठक को संबोधित करते हुए नकाओ ने कहा कि 2019 में भी हम भारत को इसी स्तर का कर्ज देना जारी रखेंगे. कर्ज और जीडीपी के बीच का अनुपात नीचे आ रहा है और इससे कर्ज देने की गुंजाइश बढ़ी है.

पिछले साल मंजूर कर्ज का कुल 25% मिला

एडीबी ग्रामीण संपर्क, शहरी विकास और कौशल विकास के लिए निवेश करना जारी रखेगा. भारत को पिछले साल कुल मंजूर कर्ज का 25 फीसदी मिला है. नई प्रतिबद्धताओं में 21.6 अरब डॉलर का ऋण, अनुदान और निवेश एडीबी के अपने संसाधनों से आएगा. यह 19.71 अरब डॉलर के लक्ष्य से अधिक है और 2017 की तुलना में 10 फीसदी ज्यादा है.

7 राज्यों में प्रोजेक्ट में निवेश करेगा ADB

एडीबी ने भारत में बिहार, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, असम और ओड़िशा में कई परियोजनाओं में निवेश की प्रतिबद्धता जताई है. चीन की बेल्ट एंड रोड पहल (बीआरआई) पर नकाओ ने कहा कि यह पूर्वी एशिया, मध्य एशिया, यूरोप और अफ्रीका के बीच संपर्क बढ़ाने की दृष्टि से अच्छा विचार है लेकिन इसमें निवेश पर अच्छा प्रतिफल मिलना चाहिए. बता दें कि भारत ने बीआरआई के विचार का विरोध किया है. शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) में भारत एकमात्र ऐसा देश है, जिसने चीन की इस पहल का विरोध किया है.

Go to Top

FinancialExpress_1x1_Imp_Desktop