मुख्य समाचार:

आयकर विभाग कल से शुरू करेगा ई-कैंपेन, मोटा लेन-देन कर ITR नहीं भरने वाले रडार पर

आकलन वर्ष 2019-20 के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करने और संशोधित करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2020 है.

Updated: Jul 19, 2020 2:07 PM
Income Tax Department, CBDT to start e-campaign on voluntary compliance of income tax for FY 2018-19 from 20th July, will focus on taxpayers who are non-filers or have discrepancy/deficiency in their Returns for FY2018-1911 दिनों तक चलने वाला ई-अभियान 31 जुलाई 2020 को खत्म होगा

आयकर विभाग ने कुछ ऐसे लोगों की पहचान की है, जिन्होंने काफी मोटा लेनदेन करने के बावजूद आकलन वर्ष 2019-20 (वित्त वर्ष 2018-19 के संदर्भ में) के लिए रिटर्न दाखिल नहीं किया है या उनके रिटर्न में कमियां हैं. केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने एक बयान में कहा कि आकलन वर्ष 2019-20 के लिए आयकर रिटर्न दाखिल करने और संशोधित करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई 2020 है. विभाग करदाताओं की सुविधा के लिए स्वैच्छिक स्वीकारोक्ति (voluntary compliance) को लेकर 20 जुलाई से ई-अभियान शुरू करेगा.

CBDT ने कहा कि ई-अभियान का मकसद करदाताओं को कर या वित्तीय लेनदेन संबंधी जानकारी को ऑनलाइन सत्यापित करने में मदद करना और वॉलंटरी कंप्लायंस को बढ़ावा देना है ताकि करदाताओं को नोटिस या स्क्रूटनी आदि प्रक्रियाओं का सामना न करना पड़े.

CBDT ने कहा कि डेटा विश्लेषण से कुछ ऐसे करदाताओं के बारे में पता चला है, जिन्होंने काफी अधिक लेनदेन किया है, लेकिन उन्होंने आकलन वर्ष 2019-20 (वित्त वर्ष 2018-19 के संदर्भ में) के लिए रिटर्न दाखिल नहीं किया है. रिटर्न दाखिल नहीं करने वालों के अलावा रिटर्न फाइल करने वाले कई ऐसे लोगों की पहचान हुई है, जिनके अधिक धनराशि वाले लेनदेन और उनके आयकर रिटर्न आपस में मेल नहीं खाते हैं.

11 दिनों का है कैंपेन

विभाग ने बताया कि 11 दिनों तक चलने वाला ई-अभियान 31 जुलाई 2020 को खत्म होगा और इस दौरान उन लोगों पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा, जिन्होंने या तो रिटर्न दाखिल नहीं किया है, या उनके रिटर्न में विसंगतियां हैं. बयान के मुताबिक ई-अभियान योजना के तहत आयकर विभाग चिन्हित लोगों को ईमेल या एसएमएस भेजेगा, ताकि प्राप्त सूचना के अनुसार उनके लेनदेन का सत्यापन किया जा सके.

Life Insurance: 8 तरह की होती है जीवन बीमा पॉलिसी, अपनी जरूरत के हिसाब से करें चुनाव

करदाताओं को नहीं जाना होगा आयकर कार्यालय

करदाता अपने हाई वैल्यू ट्रांजेक्शंस की डिटेल संबंधित पोर्टल पर एक्सेस कर सकते हैं और प्रतिक्रिया ऑनलाइन सबमिट कर सकते हैं. उन्हें आयकर विभाग के कार्यालय जाने की जरूरत नहीं होगी. आयकर विभाग को यह सूचना वित्तीय लेनदेन विवरण (एसएफटी), स्रोत पर कर कटौती (टीडीएस), स्रोत पर कर संग्रह (टीसीएस) और विदेश से धनप्राप्ति (फार्म 15सीसी) जैसे दस्तावेजों से मिली है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. आयकर विभाग कल से शुरू करेगा ई-कैंपेन, मोटा लेन-देन कर ITR नहीं भरने वाले रडार पर

Go to Top