मुख्य समाचार:

वर्ल्ड बैंक के बाद अब IMF ने घटाया भारत की ग्रोथ रेट का अनुमान, 2019 में 6.1% रहने की कही बात

यह IMF के अप्रैल के अनुमानों से 1.2 फीसदी कम है.

October 15, 2019 8:05 PM
IMF revises India's growth projection to 6.1 per cent in 2019Image: Reuters

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) ने भारत की सकल घरेलू उत्पाद (GDP) वृद्धि दर का अनुमान 2019 के लिए मंगलवार को घटाकर 6.1 फीसदी कर दिया है. यह उसके अप्रैल के अनुमानों से 1.2 फीसदी कम है. तब IMF ने 2019 में देश की वृद्धि दर 7.3 फीसदी रहने का अनुमान जताया था.

इसी के साथ IMF ने 2019 के लिए वैश्विक आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान भी घटाकर तीन फीसदी कर दिया है. IMF ने अपनी नवीनतम विश्व आर्थिक परिदृश्य रिपोर्ट में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2019 में 6.1 फीसदी रहने का अनुमान जताया है. यह वर्ष 2018 में भारत की वास्तविक आर्थिक वृद्धि दर 6.8 फीसदी से भी कम है. हालांकि उसे उम्मीद है कि 2020 में इसमें सुधार होगा और तब देश की आर्थिक वृद्धि दर 7 फीसदी रह सकती है.

वर्ल्ड बैंक ने 6% ग्रोथ रेट का दिया अनुमान

वर्ल्ड बैंक ने भी रविवार को अपनी दक्षिण एशिया आर्थिक परिदृश्य की नवीनतम रिपोर्ट में भारत की आर्थिक वृद्धि दर 2019 में गिरकर 6 फीसदी रहने का अनुमान जताया था, जबकि 2018 में यह 6.9 फीसदी थी. IMF की अप्रैल 2019 की विश्व आर्थिक परिदृश्य रिपोर्ट में जताए अनुमान के मुकाबले 2019 का मौजूदा अनुमान 1.2 फीसदी और 2020 का 0.5 फीसदी कम है. IMF के मुताबिक यह घरेलू मांग के उम्मीद से ज्यादा कमजोर रहने को दर्शाता है.

कुछ समय बाद दिखेगा सुधारों का असर

IMF ने कहा, ‘‘मौद्रिक नीति में नरम रुख अपनाने, कॉरपोरेट टैक्स घटाने, कॉरपोरेट और पर्यावरण से जुड़ी नियामकीय अनिश्चिताओं को दूर करने के हालिया कदम और ग्रामीण मांग बढ़ाने के सरकारी कार्यक्रमों से वृद्धि को समर्थन मिलेगा. इसका असर कुछ समय बाद दिखेगा.’’

IMF ने चालू वर्ष में चीन की आर्थिक वृद्धि दर 6.1 फीसदी और 2020 में 5.8 फीसदी पर आने का अनुमान जताया है. जबकि 2018 में पड़ोसी मुल्क की आर्थिक वृद्धि दर 6.6 फीसदी थी.

भारत से रार पड़ गई भारी, दवाओं के लिए तरसने लगा पाकिस्तान

क्यों घटाया ग्लोबल ग्रोथ रेट का अनुमान

वैश्विक आर्थिक वृद्धि दर के संदर्भ में IMF ने चेतावनी दी कि वह 2019 के लिए वृद्धि दर अनुमान घटाकर तीन फीसदी कर रहा है. इसकी प्रमुख वजह व्यापार प्रतिबंधों और भूराजनैतिक तनाव का बढ़ना है. IMF की मुख्य अर्थशास्त्री भारतीय-अमेरिकी गीता गोपीनाथ ने कहा कि अनुमान में यह गिरावट 2017 में वैश्विक आर्थिक वृद्धि दर 3.8 फीसदी रहने के मुकाबले अधिक गंभीर है.

उन्होंने कहा कि विभिन्न कारकों के एक साथ आने से आई नरमी और इसमें सुधार की अनिश्चिता के साथ वैश्विक परिदृश्य भी अनिश्चित बना हुआ है. आर्थिक वृद्धि दर के तीन फीसदी रहने के अनुमान के साथ नीति में सुधार के लिए कोई स्थान नहीं बचा है. ऐसे में नीति निर्माताओं को आपस में मिलकर व्यापार और भूराजनैतिक तनाव का तत्काल समाधान करने की जरूरत है. IMF ने 2020 में वैश्विक आर्थिक वृद्धि दर 3.4 फीसदी रहने का अनुमान जताया है. यह उसके अप्रैल के अनुमान के मुकाबले 0.2 फीसदी कम है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. वर्ल्ड बैंक के बाद अब IMF ने घटाया भारत की ग्रोथ रेट का अनुमान, 2019 में 6.1% रहने की कही बात

Go to Top