टैक्स कलेक्शन बढ़ाने के लिए I-T विभाग की नई स्ट्रैटेजी, डाटा एनालिसिस का करेगा इस्तेमाल

159वें आयकर दिवस के मौके पर आयोजित एक समारोह में कर अधिकारियों को संबोधित करते हुए पांडे ने विश्वास जताया कि चालू वित्त वर्ष के डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन लक्ष्य हासिल होंगे.

I-T dept to use data analysis, risk profiling to increase tax mop up: Revenue Secy
वर्ष 2019-20 में डायरेक्ट टैक्सेज से 13.35 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य है.

रेवेन्यु सेक्रेटरी अजय भूषण पांडे ने बुधवार को कहा कि टैक्स कलेक्शन बढ़ाने के लिए आयकर विभाग जोर-जबरदस्ती दखल देने के बजाय आंकड़ों के विश्लेषण और कर चोरी के जोखिमों के आकलन का रास्ता अपनाएगा. 159वें आयकर दिवस के मौके पर आयोजित एक समारोह में कर अधिकारियों को संबोधित करते हुए पांडे ने विश्वास जताया कि चालू वित्त वर्ष के डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन के लक्ष्य हासिल होंगे.

वर्ष 2019-20 में डायरेक्ट टैक्सेज से 13.35 लाख करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य है. इसमें 7.66 लाख करोड़ रुपये कॉरपोरेट टैक्स और 5.69 लाख करोड़ रुपये व्यक्तिगत आयकर से मिलने का अनुमान है.

2018-19 में 12 लाख करोड़ का डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन

वर्ष 2018-19 में संशोधित अनुमानों के अनुसार 12 लाख करोड़ रुपये का डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन हुआ था. इसमें 6.71 लाख करोड़ रुपये कॉरपोरेट टैक्स और 5.29 लाख करोड़ रुपये व्यक्तिगत आयकर से प्राप्त हुआ. पांडे ने कहा कि पिछले पांच से छह साल में डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन में दोहरे अंक की वृद्धि देखी गई है, जो सराहनीय कदम है. मुझे पूरा विश्वास है कि विभाग चालू वित्त वर्ष के लिए बजट में रखे गए लक्ष्य को प्राप्त कर लेगा.

खत्म करना है नोटिस का डर

आगे कहा कि विभाग अवांछित तरीकों के बजाय आंकड़ा विश्लेषण, जोखिम का स्वरूप तय करने और जोखिम आकलन का उपयोग करेगा. आज हम नोटिस के डर को खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध हैं और अब जांच-पड़ताल के लक्ष्य को एकाएक किए जाने वाले आकलन और सत्यापन के जरिए पूरा किया जाएगा.

पहली बार 1860 में लगा था इनकम टैक्स

देश में आयकर को पहली बार जेम्स विल्सन ने 24 जुलाई 1860 को लागू किया था. यह अंग्रेजी राज के खिलाफ 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम से हुए नुकसान की भरपाई के लिए लाया गया था.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

Financial Express Telegram Financial Express is now on Telegram. Click here to join our channel and stay updated with the latest Biz news and updates.

TRENDING NOW

Business News