सर्वाधिक पढ़ी गईं

कोरोना की दूसरी लहर के बावजूद 25% बढ़ा हाईवेज का निर्माण, पिछली तिमाही में हर दिन बनीं 25.37 किमी लंबी सड़क

इक्रा के मुताबिक जिस हिसाब से कंस्ट्रक्शन की गति है, उसके मुताबिक चालू वित्त वर्ष में 40 किमी प्रतिदिन की रिकॉर्ड रफ्तार से निर्माण पहुंच सकता है.

July 14, 2021 11:47 AM
Highway construction in Q1 up 25 percent on year highway length in 7 years 50 percent upएनालिस्ट्स का मानना है कि महामारी के दौरान सरकार ने सक्रिय रूप से कई ऐसे इंडस्ट्री-फ्रेंडली फैसले लिए जिसके चलते पिछली तिमाही में हाईवेज कंस्ट्रक्शन बढ़ा.

Highway Construction: कोरोना की दूसरी लहर के चलते देश के कई हिस्सों में चालू वित्त वर्ष 2021-22 में लॉकडाउन/रिस्ट्रिक्ंशस लगे हुए थे. इस दौरान अधिकतर गतिविधियां धीमी हो गई थीं लेकिन हाईवे के निर्माण की बात करें तो इसमें सालाना आधार पर 25 फीसदी का उछाल आया. पिछली तिमाही अप्रैल-जून 2021 में 2284 किमी हाईवे का निर्माण हुआ यानी कि 25.37 किमी प्रति दिन. हाईवे के निर्माण की यह रफ्तार कोरोना महामारी आने से पहले हुए निर्माण के मुकाबले भी अधिक है. इससे पहले वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही अप्रैल-जून 2019 में 23.29 किमी प्रतिदिन की दर से हाईवेज का निर्माण हुआ था. हालांकि पिछले वित्त वर्ष की बात करें तो 2020-21 में रिकॉर्ड 36.4 किमी प्रतिदिन की दर से हाईवेज का निर्माण हुआ था जोकि पिछली तिमाही के मुकाबले 11.03 किमी प्रतिदिन अधिक है. इक्रा के मुताबिक जिस हिसाब से कंस्ट्रक्शन की गति है, उसके मुताबिक चालू वित्त वर्ष में 40 किमी प्रतिदिन की रफ्तार से निर्माण पहुंच सकता है.

FY22 में रिकॉर्ड कंस्ट्रक्शन की उम्मीद

एनालिस्ट्स का मानना है कि महामारी के दौरान सरकार ने सक्रिय रूप से कई ऐसे इंडस्ट्री-फ्रेंडली फैसले लिए जिसके चलते पिछली तिमाही में हाईवेज कंस्ट्रक्शन बढ़ा. सरकार के फैसलों से कांट्रैक्टर्स के पास पर्याप्त नगदी की उपलब्धता सुनिश्चित हुई. इक्रा के राजेश्वर बुर्ला के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर के दौरान राज्य सरकारों ने कंस्ट्रक्शन को मंजूरी दी थी और सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने सक्रिय रूप पे से पेमेंट्स रिलीज कर कांट्रैक्टर्स को राहत दी. इसके चलते महामारी से काम प्रभावित नहीं हुआ. बुर्ला के मुताबिक जिस हिसाब से काम हो रहा है, उसके मुताबिक वित्त वर्ष 2022 में 40 किमी प्रतिदिन की दर से हाईवेज का निर्माण हो सकता है.

Double Infection: एक ही समय पर कोरोना वायरस के कई वैरिएंट्स से भी हो सकते हैं संक्रमित, जानिए कितनी खतरनाक है यह स्थिति

सात साल में 50% बढ़ी नेशनल हाईवे की सड़कें

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में सालाना आधार पर प्रोजेक्ट की लंबाई में बढ़ोतरी हुई. अप्रैल-जून 2021 में 1681 किमी का प्रोजेक्ट अवार्ड किया गया जबकि अप्रैल-जून 2020 में यह 1658 किमी था. इसके पहले यानी कि कोरोना महामारी आने से पहले की बात करें तो अप्रैल-मई 2019 में सिर्फ 743 किमी का प्रोजेक्ट अवार्ड किया गया था. सड़क मंत्रालय के मुताबिक अप्रैल 2014 से 20 मार्च 2021 के बीच देश के नेशनल हाईवेज की लंबाई 91,827 किमी से बढ़कर 1,37,625 किमी हो गई. वित्त वर्ष 2015 से वित्त वर्ष 2021 के बीच औसतन एनुअल प्रोजेक्ट अवार्ड भी वित्त वर्ष 2010 से वित्त वर्ष 2014 के मुकाबले 85 फीसदी बढ़ गया. पिछले वित्त वर्ष 2020-21 में 10,467 किमी का हाईवे प्रोजेक्ट अवार्ड किया गया जबकि उसके एक वित्त वर्ष 2019-20 पहले यह महज 8,948 किमी था.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. कोरोना की दूसरी लहर के बावजूद 25% बढ़ा हाईवेज का निर्माण, पिछली तिमाही में हर दिन बनीं 25.37 किमी लंबी सड़क

Go to Top