मुख्य समाचार:

अगस्त में GST कलेक्शन गिरकर 98,202 करोड़ रु, पिछले साल से 4.5% रहा ज्यादा

जुलाई में GST कलेक्शन 1.02 लाख करोड़ रुपये रहा था.

September 1, 2019 7:06 PM
GST collections dip below Rs 1 lakh crore to Rs 98,202 cr in AugImage: Reuters

देश का GST कलेक्शन अगस्त में एक लाख करोड़ रुपये के आंकड़े से नीचे 98,202 करोड़ रुपये रहा. जुलाई में GST कलेक्शन 1.02 लाख करोड़ रुपये रहा था. यह जानकारी वित्त मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों से सामने आई. हालांकि अगस्त का GST कलेक्शन अगस्त 2018 के 93,960 करोड़ रुपये के GST कलेक्शन 4.5 फीसदी ज्यादा रहा.

चालू वित्त वर्ष में यह दूसरी बार है जब GST कलेक्शन एक लाख करोड़ रुपये के स्तर से नीचे आया है. इससे पहले जून में GST कलेक्शन 99,939 करोड़ रुपये था.

किस कैटेगरी का कितना GST आया

मंत्रालय के बयान के मुताबिक, अगस्त में सेंट्रल GST कलेक्शन 17,733 करोड़ रुपये, स्टेट GST कलेक्शन 24,239 करोड़ रुपये और इंपोर्ट से हुए 24,818 करोड़ रुपये के कलेक्शन के साथ इंटीग्रेटेड GST कलेक्शन 48,958 करोड़ रुपये रहा. अगस्त में सेस कलेक्शन 7,273 करोड़ रुपये का रहा, जिसमें 841 करोड़ रुपये का इंपोर्ट से आया सेस भी शामिल है.

अगस्त के आखिर तक जुलाई में फाइल किए गए GSTR 3B रिटर्न की संख्या 75.80 लाख रही. बयान के मुताबिक, जून-जुलाई 2019 के के लिए राज्यों को GST कंपंजेशन के तौर पर 27,955 करोड़ रुपये जारी किए गए.

बैंकों के मर्जर से नहीं ​जाएगी किसी की नौकरी, वित्त मंत्री ने बैंक यूनियनों को दिलाया भरोसा

अप्रैल-अगस्त में कितना आया GST

अप्रैल-अगस्त के दौरान ग्रॉस GST कलेक्शन 5,14,378 करोड़ रुपये का रहा. यह पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में आए 4,83,538 करोड़ रुपये के कलेक्शन से ज्यादा है. वित्त वर्ष 2019-20 के लिए सरकार ने CGST से 6.10 लाख करोड़ और कंपंजेशन सेस से 1.01 लाख करोड़ रुपये हासिल करने का प्रस्ताव रखा है. IGST से 50000 करोड़ रुपये हासिल करने का लक्ष्य है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

  1. बिज़नस न्यूज़
  2. राष्ट्रीय
  3. अगस्त में GST कलेक्शन गिरकर 98,202 करोड़ रु, पिछले साल से 4.5% रहा ज्यादा

Go to Top